Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Nov 2017 · 1 min read

खुद से प्यार

बात पते की मैं कहूँ, सुन लो मेरे यार।
दूजे खातिर मर लिया, खुद से कर लो प्यार।। 1

बन जाओ खुद के लिए , आप ईमानदार।
सीखो तुम अपने लिए, करना खुद से प्यार।। 2

जीवन में थोड़ा समय, खुद के लिए निकाल।
खुद पर पहले ध्यान दे, फिर रख सबका ख्याल।। 3

खुद से करना प्रेम तो, होता मनुज स्वभाव।
कभी किसी भी काम में, सहना नहीं दबाव ।। 4

खुद का तुलना और से , करना है बेकार।
जैसे हो वैसे करो, खुद को तुम स्वीकार।। 5

दोषी खुद को मान कर, बिन गलती अफसोस।
बंद करो धिक्कारना, खुद को देना दोष।। 6

खुद को लल्लू नासमझ, कभी समझना मंद।
खुद को नीचा देखना, कर दो बिलकुल बंद।। 7

खुद से खुद को तौलिए, जाने खुद का मोल।
व्यर्थ यहाँ कोई नहीं, यह गीता का बोल ।। 8

अपनी गलती को सदा, करें स्वयं स्वीकार।
गलती से लेकर सबक, उसका करो सुधार।। 9

खुद के प्रति दयालु बने, समझे खुद को खास।
हिम्मत ताकत हौसला, बढ़े आत्मविश्वास।। 10

मन में रखना चाहिए, सकारात्मक विचार।
नकारात्मक विचार का,करें बंद सब द्वार।। 11

ऐसा कुछ मन की करें , जो आपको पसंद।
जो सबको सुख से भरे, खुद पाये आनंद।। 12

हँसिये और हँसाइये, रखे अधर मुस्कान।
सारी समस्या का यहाँ ,है हास्य समाधान।। 13

प्रसन्न रहना ही सफल, इस जीवन का राज।
अतः स्वयं का कर नहीं , कभी नजरअंदाज।। 14

एक कला है मनुज का, करना खुद से प्यार।
करीब आयेगें तभी, सकल मित्र परिवार।। 15
????—लक्ष्मी सिंह ?☺

594 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
तेरी धरती का खा रहे हैं हम
तेरी धरती का खा रहे हैं हम
नूरफातिमा खातून नूरी
" भाषा क जटिलता "
DrLakshman Jha Parimal
*सुख-दुख के दोहे*
*सुख-दुख के दोहे*
Ravi Prakash
जिंदगी
जिंदगी
Neeraj Agarwal
करवा चौथ
करवा चौथ
नवीन जोशी 'नवल'
मेरी शायरी की छांव में
मेरी शायरी की छांव में
शेखर सिंह
मैं ढूंढता हूं जिसे
मैं ढूंढता हूं जिसे
Surinder blackpen
12 fail ..👇
12 fail ..👇
Shubham Pandey (S P)
इजोत
इजोत
श्रीहर्ष आचार्य
वज़्न ---221 1221 1221 122 बह्र- बहरे हज़ज मुसम्मन अख़रब मक़्फूफ़ मक़्फूफ़ मुखंन्नक सालिम अर्कान-मफ़ऊल मुफ़ाईलु मुफ़ाईलु फ़ऊलुन
वज़्न ---221 1221 1221 122 बह्र- बहरे हज़ज मुसम्मन अख़रब मक़्फूफ़ मक़्फूफ़ मुखंन्नक सालिम अर्कान-मफ़ऊल मुफ़ाईलु मुफ़ाईलु फ़ऊलुन
Neelam Sharma
भले ही तुम कड़वे नीम प्रिय
भले ही तुम कड़वे नीम प्रिय
Ram Krishan Rastogi
2621.पूर्णिका
2621.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
विजय हजारे
विजय हजारे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दिखाने लगे
दिखाने लगे
surenderpal vaidya
मातृभूमि पर तू अपना सर्वस्व वार दे
मातृभूमि पर तू अपना सर्वस्व वार दे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
खुद को मैंने कम उसे ज्यादा लिखा। जीस्त का हिस्सा उसे आधा लिखा। इश्क में उसके कृष्णा बन गया। प्यार में अपने उसे राधा लिखा
खुद को मैंने कम उसे ज्यादा लिखा। जीस्त का हिस्सा उसे आधा लिखा। इश्क में उसके कृष्णा बन गया। प्यार में अपने उसे राधा लिखा
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
खोज करो तुम मन के अंदर
खोज करो तुम मन के अंदर
Buddha Prakash
इश्क़ का दस्तूर
इश्क़ का दस्तूर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गम के आगे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
गम के आगे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
सत्य कुमार प्रेमी
जन्नत का हरेक रास्ता, तेरा ही पता है
जन्नत का हरेक रास्ता, तेरा ही पता है
Dr. Rashmi Jha
सुखी होने में,
सुखी होने में,
Sangeeta Beniwal
■दोहा■
■दोहा■
*Author प्रणय प्रभात*
सावन में तुम आओ पिया.............
सावन में तुम आओ पिया.............
Awadhesh Kumar Singh
पूस की रात
पूस की रात
Atul "Krishn"
कैसे यकीन करेगा कोई,
कैसे यकीन करेगा कोई,
Dr. Man Mohan Krishna
-- मौत का मंजर --
-- मौत का मंजर --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
इतनी खुबसूरत नही होती मोहब्बत जितनी शायरो ने बना रखी है,
इतनी खुबसूरत नही होती मोहब्बत जितनी शायरो ने बना रखी है,
पूर्वार्थ
अर्धांगिनी
अर्धांगिनी
VINOD CHAUHAN
हिंदी भारत की पहचान
हिंदी भारत की पहचान
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
Loading...