Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2024 · 1 min read

(*खुद से कुछ नया मिलन*)

(*खुद से कुछ नया मिलन*)

* सार दीवारों में एक वो लड़का कही कैद हो गया।।
*न जाने आज वो कहा रहता है,,
* नही किसी से मिलता जुलता हैं,,
* कया हो गया है उसे वो किस दुनिया में खो गया है।।
* अब वो सेमा सेमा सा क्यों रहता है क्यों खुद की बाते अब भी बताता नही क्यो कया हो गया है।।
*अब वो वापिस नए से पुराना होना चाहता हू,,
*कुछ उसमे अलग सा कुछ उसमे अपनी कलाकारी सीपी है वो अलग करना चाहता भीड़ से हटकर कुछ नया करना चाहता है।।
*वो हर पल उन चार दिवारी में कैद हुए ये सोचता की में नया क्यों हो गया मुझसे अब और नहीं हो पाएगा कब तक में दूसरों के बल पर जीता रहुगा।।
*मुझे भीड़ का हिस्सा नहीं बनना है भीड़ से अलग हटकर कुछ करना।।
*फिर अपने अंदर बैठे उस कलाकार बाहर लाता है,,
*और कलाकारी दिखना शुरू कर देता,, और फिर वो वापिस कहता,, नए से पुराना होना है।।
* फिर वो वापिस नए से पुराना होने को चोचता है।।

1 Like · 46 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (3)
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (3)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कभी नजरें मिलाते हैं कभी नजरें चुराते हैं।
कभी नजरें मिलाते हैं कभी नजरें चुराते हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
O CLOUD !
O CLOUD !
SURYA PRAKASH SHARMA
গাছের নীরবতা
গাছের নীরবতা
Otteri Selvakumar
Next
Next
Rajan Sharma
कुंडलिया
कुंडलिया
sushil sarna
क्यूट हो सुंदर हो प्यारी सी लगती
क्यूट हो सुंदर हो प्यारी सी लगती
Jitendra Chhonkar
मेरा वजूद क्या
मेरा वजूद क्या
भरत कुमार सोलंकी
*
*"हलषष्ठी मैया'*
Shashi kala vyas
घर छूटा तो बाकी के असबाब भी लेकर क्या करती
घर छूटा तो बाकी के असबाब भी लेकर क्या करती
Shweta Soni
संवेदना का सौंदर्य छटा 🙏
संवेदना का सौंदर्य छटा 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ज़िंदगी को
ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
अच्छा है कि प्रकृति और जंतुओं में दिमाग़ नहीं है
अच्छा है कि प्रकृति और जंतुओं में दिमाग़ नहीं है
Sonam Puneet Dubey
3419⚘ *पूर्णिका* ⚘
3419⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
"तरीका"
Dr. Kishan tandon kranti
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वृक्ष लगाओ,
वृक्ष लगाओ,
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
इंसान
इंसान
Bodhisatva kastooriya
"एक विचार को प्रचार-प्रसार की उतनी ही आवश्यकता होती है
शेखर सिंह
एक सपना देखा था
एक सपना देखा था
Vansh Agarwal
होगी तुमको बहुत मुश्किल
होगी तुमको बहुत मुश्किल
gurudeenverma198
विषय: शब्द विद्या:- स्वछंद कविता
विषय: शब्द विद्या:- स्वछंद कविता
Neelam Sharma
#अपनाएं_ये_हथकंडे...
#अपनाएं_ये_हथकंडे...
*प्रणय प्रभात*
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
जगदीश शर्मा सहज
*गोल- गोल*
*गोल- गोल*
Dushyant Kumar
दर्द देह व्यापार का
दर्द देह व्यापार का
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
*पद के पीछे लोग 【कुंडलिया】*
*पद के पीछे लोग 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मां रा सपना
मां रा सपना
Rajdeep Singh Inda
Loading...