Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jan 2023 · 1 min read

खुद में बदलाव की एक तमन्ना करिए

खुद में बदलाव की एक तमन्ना करिए।
भीड़ से हट के चलने की कोशिश करिए ।

खुद में मुकम्मल यहाँ नहीं होता कोई।
भूल कर अपनी किसी से न तुलना करिए।।

बाक़ी रह जाना है, अगर दिलों में सबके ।
अपने अख़लाक़ को बेहतर से बेहतर करिए ।

वक़्त से आंख मिलाने की हिम्मत करिए।
तेरी पहचान है, क्या साबित करिए ।।

खुद में बदलाव की एक तमन्ना करिए।
भीड़ से हट के चलने की कोशिश करिए ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

11 Likes · 518 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
सब्जी के दाम
सब्जी के दाम
Sushil Pandey
जनपक्षधरता के कालजयी कवि रमेश रंजक :/-- ईश्वर दयाल गोस्वामी
जनपक्षधरता के कालजयी कवि रमेश रंजक :/-- ईश्वर दयाल गोस्वामी
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सुबह का खास महत्व
सुबह का खास महत्व
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
माँ से मिलने के लिए,
माँ से मिलने के लिए,
sushil sarna
नारा है या चेतावनी
नारा है या चेतावनी
Dr. Kishan tandon kranti
■आज का सवाल■
■आज का सवाल■
*Author प्रणय प्रभात*
जब तुम्हारे भीतर सुख के लिए जगह नही होती है तो
जब तुम्हारे भीतर सुख के लिए जगह नही होती है तो
Aarti sirsat
नवरात्रि के चौथे दिन देवी दुर्गा के कूष्मांडा स्वरूप की पूजा
नवरात्रि के चौथे दिन देवी दुर्गा के कूष्मांडा स्वरूप की पूजा
Shashi kala vyas
छत्रपति वीर शिवाजी जय हो 【गीत】
छत्रपति वीर शिवाजी जय हो 【गीत】
Ravi Prakash
🌹🌹🌹शुभ दिवाली🌹🌹🌹
🌹🌹🌹शुभ दिवाली🌹🌹🌹
umesh mehra
जल का अपव्यय मत करो
जल का अपव्यय मत करो
Kumud Srivastava
होली का त्यौहार
होली का त्यौहार
Shriyansh Gupta
दोस्ती
दोस्ती
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
माँ
माँ
shambhavi Mishra
बाल कविता: तोता
बाल कविता: तोता
Rajesh Kumar Arjun
कोई गीता समझता है कोई कुरान पढ़ता है ।
कोई गीता समझता है कोई कुरान पढ़ता है ।
Dr. Man Mohan Krishna
सिलसिले..वक्त के भी बदल जाएंगे पहले तुम तो बदलो
सिलसिले..वक्त के भी बदल जाएंगे पहले तुम तो बदलो
पूर्वार्थ
दिल से निकले हाय
दिल से निकले हाय
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
दिवस नहीं मनाये जाते हैं...!!!
दिवस नहीं मनाये जाते हैं...!!!
Kanchan Khanna
तुम आंखें बंद कर लेना....!
तुम आंखें बंद कर लेना....!
VEDANTA PATEL
दिये को रोशन बनाने में रात लग गई
दिये को रोशन बनाने में रात लग गई
कवि दीपक बवेजा
शिव बन शिव को पूजिए, रखिए मन-संतोष।
शिव बन शिव को पूजिए, रखिए मन-संतोष।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जिंदगी में अपने मैं होकर चिंतामुक्त मौज करता हूं।
जिंदगी में अपने मैं होकर चिंतामुक्त मौज करता हूं।
Rj Anand Prajapati
बचपन -- फिर से ???
बचपन -- फिर से ???
Manju Singh
.........,
.........,
शेखर सिंह
महबूब से कहीं ज़्यादा शराब ने साथ दिया,
महबूब से कहीं ज़्यादा शराब ने साथ दिया,
Shreedhar
कोई विरला ही बुद्ध बनता है
कोई विरला ही बुद्ध बनता है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
विचार और रस [ एक ]
विचार और रस [ एक ]
कवि रमेशराज
नज़र
नज़र
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
कैसा गीत लिखूं
कैसा गीत लिखूं
नवीन जोशी 'नवल'
Loading...