Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Nov 2022 · 1 min read

खुद को पुनः बनाना

खुद को पुनः बनाना !

बिखर गया जो कतरा-कतरा

उसको फिर से आज सजाना !

फेक दिया जो टुकड़े करके

उसे जोड़कर फिर अपनाना !

बचपन मे जैसे फूलों को

चुनती थी ,

अपने बिखरे सपनों को नित

बुनती थी ,

माँ बाबा का सपना लेकर

बैठ गई थी डोली में ,

इकतरफा कोई रिश्ता भी

अब है नहीं निभाना !

जहां प्रेम , इज्जत के बदले

गाली का उपहार मिले तो ,

अपना धीरज कभी न खोना

ना कोई उम्मीद लगाना ।

त्याग और बलिदान तुझी में

ये बातें खुद भूल न जाना ,

मगर सितम भी सहना मत तुम

दुर्गा बनकर है दिखलाना !

सांसों की लड़ियां ना टूटे

रिश्ते टूटे देर न करना ,

पतिव्रता बनने के पीछे

सती नही तुझको कहलाना !

ना करना परवाह किसी की

अपना निर्णय खुद ही करना ,

सहन शक्ति जब सीमा तोड़े

झूठे बंधन में मत रहना !

अगर उजाला कोई छीने

जो अबतक तेरे हिस्से का ,

उस अंधियारे को ठुकराकर

नई राह पर कदम बढ़ाना !

द्वार पिता का सदा खुला है

ये बातें तुम भूल न जाना ,

आस लगाए बैठी है जो

मां के सीने से लग जाना !

✍️”कविता चौहान”
स्वरचित एवं मौलिक

Language: Hindi
3 Likes · 4 Comments · 188 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुक्तक...छंद-रूपमाला/मदन
मुक्तक...छंद-रूपमाला/मदन
डॉ.सीमा अग्रवाल
"प्रेरणा के स्रोत"
Dr. Kishan tandon kranti
मित्र, चित्र और चरित्र बड़े मुश्किल से बनते हैं। इसे सँभाल क
मित्र, चित्र और चरित्र बड़े मुश्किल से बनते हैं। इसे सँभाल क
Anand Kumar
खोटे सिक्कों के जोर से
खोटे सिक्कों के जोर से
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जब स्वयं के तन पर घाव ना हो, दर्द समझ नहीं आएगा।
जब स्वयं के तन पर घाव ना हो, दर्द समझ नहीं आएगा।
Manisha Manjari
जितना आपके पास उपस्थित हैं
जितना आपके पास उपस्थित हैं
Aarti sirsat
उठ जाग मेरे मानस
उठ जाग मेरे मानस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मैं कहना भी चाहूं उनसे तो कह नहीं सकता
मैं कहना भी चाहूं उनसे तो कह नहीं सकता
Mr.Aksharjeet
*रामपुर रजा लाइब्रेरी की दरबार हॉल गैलरी : मृत्यु का बोध करा
*रामपुर रजा लाइब्रेरी की दरबार हॉल गैलरी : मृत्यु का बोध करा
Ravi Prakash
एक बंदर
एक बंदर
Harish Chandra Pande
बहके जो कोई तो संभाल लेना
बहके जो कोई तो संभाल लेना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
एक सरकारी सेवक की बेमिसाल कर्मठता / MUSAFIR BAITHA
एक सरकारी सेवक की बेमिसाल कर्मठता / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
क्रोध
क्रोध
ओंकार मिश्र
मेघ
मेघ
Rakesh Rastogi
जल संरक्षण
जल संरक्षण
Preeti Karn
"तेरी याद"
Pushpraj Anant
.........,
.........,
शेखर सिंह
#संस्मरण
#संस्मरण
*Author प्रणय प्रभात*
कलाकृति बनाम अश्लीलता।
कलाकृति बनाम अश्लीलता।
Acharya Rama Nand Mandal
हिन्दी माई
हिन्दी माई
Sadanand Kumar
ब्रह्म मुहूर्त में बिस्तर त्याग सब सुख समृद्धि का आधार
ब्रह्म मुहूर्त में बिस्तर त्याग सब सुख समृद्धि का आधार
पूर्वार्थ
हक़ीक़त ने
हक़ीक़त ने
Dr fauzia Naseem shad
फितरत
फितरत
Dr.Khedu Bharti
बेवजह किसी पे मरता कौन है
बेवजह किसी पे मरता कौन है
Kumar lalit
🎋🌧️सावन बिन सब सून ❤️‍🔥
🎋🌧️सावन बिन सब सून ❤️‍🔥
डॉ० रोहित कौशिक
जनपक्षधरता के कालजयी कवि रमेश रंजक :/-- ईश्वर दयाल गोस्वामी
जनपक्षधरता के कालजयी कवि रमेश रंजक :/-- ईश्वर दयाल गोस्वामी
ईश्वर दयाल गोस्वामी
#शीर्षक-प्यार का शक्ल
#शीर्षक-प्यार का शक्ल
Pratibha Pandey
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
sushil sarna
चकोर हूं मैं कभी चांद से मिला भी नहीं
चकोर हूं मैं कभी चांद से मिला भी नहीं
सत्य कुमार प्रेमी
अगर आपको अपने कार्यों में विरोध मिल रहा
अगर आपको अपने कार्यों में विरोध मिल रहा
Prof Neelam Sangwan
Loading...