Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2016 · 1 min read

खुद को इतना संत करो।

हिंदुस्तानी गरिमा को अब अक्षुण्ण और अनंत करो।
कोई गाली दे जाये मत खुद को इतना संत करो।
जब अभियान चलाया है तो भारत स्वच्छ करो बिलकुल।
जहरीली बेलें जो पनपीं उनका निश्चित अंत करो।।

प्रदीप कुमार “प्रदीप”

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
283 Views
You may also like:
दोहावली-रूप का दंभ
asha0963
✍️आरसे✍️
'अशांत' शेखर
बुद्धिजीवियों के आईने में गाँधी-जिन्ना सम्बन्ध
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चित्रगुप्त पूजन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मुबारक हो जन्मदिवस
मानक लाल"मनु"
*हम दीपावली मनाऍंगे (बाल कविता)*
Ravi Prakash
# जज्बे सलाम ...
Chinta netam " मन "
मां शारदे
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
बाल कहानी- गणतंत्र दिवस
SHAMA PARVEEN
मिटाने लगें हैं लोग
Mahendra Narayan
#क्या_पता_मैं_शून्य_हो_जाऊं
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
जिंदगी से यूं मलाल कैसा
Seema 'Tu hai na'
“ पगडंडी का बालक ”
DESH RAJ
पढ़ाई-लिखाई एक बोझ
AMRESH KUMAR VERMA
औरत की जगह
Shekhar Chandra Mitra
स्वाधीनता संग्राम
Prakash Chandra
रोशन सारा शहर देखा
कवि दीपक बवेजा
!!!! मेरे शिक्षक !!!
जगदीश लववंशी
Aksharjeet shayari..अपनी गलतीयों से बहुत कूछ सिखा हैं मैने ...
AK Your Quote Shayari
तुम रहने दो -
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
फ़िदा
Buddha Prakash
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
चांद और चांद की पत्नी
Shiva Awasthi
'नटखट नटवर'(डमरू घनाक्षरी)
Godambari Negi
काश अगर तुम हमें समझ पाते
Writer_ermkumar
यकीं करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
रूठ जाने लगे हैं
Gouri tiwari
गज़ल
Krishna Tripathi
गुरु महिमा
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मज़ाक बन के रह गए हैं।
Taj Mohammad
Loading...