Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2016 · 1 min read

खुद को इतना संत करो।

हिंदुस्तानी गरिमा को अब अक्षुण्ण और अनंत करो।
कोई गाली दे जाये मत खुद को इतना संत करो।
जब अभियान चलाया है तो भारत स्वच्छ करो बिलकुल।
जहरीली बेलें जो पनपीं उनका निश्चित अंत करो।।

प्रदीप कुमार “प्रदीप”

Language: Hindi
448 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कहा तुमने कभी देखो प्रेम  तुमसे ही है जाना
कहा तुमने कभी देखो प्रेम तुमसे ही है जाना
Ranjana Verma
प्यार नहीं दे पाऊँगा
प्यार नहीं दे पाऊँगा
Kaushal Kumar Pandey आस
रास्ते और राह ही तो होते है
रास्ते और राह ही तो होते है
Neeraj Agarwal
*** सफ़र जिंदगी के....!!! ***
*** सफ़र जिंदगी के....!!! ***
VEDANTA PATEL
"गरीब की बचत"
Dr. Kishan tandon kranti
आस्था और भक्ति की तुलना बेकार है ।
आस्था और भक्ति की तुलना बेकार है ।
Seema Verma
माँ ( कुंडलिया )*
माँ ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
जिन्हें ज़लील हो कर कुछ हासिल करने की चाहत होती है
जिन्हें ज़लील हो कर कुछ हासिल करने की चाहत होती है
*Author प्रणय प्रभात*
क्रोध को नियंत्रित कर अगर उसे सही दिशा दे दिया जाय तो असंभव
क्रोध को नियंत्रित कर अगर उसे सही दिशा दे दिया जाय तो असंभव
Paras Nath Jha
लगी राम धुन हिया को
लगी राम धुन हिया को
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बेनाम रिश्ते .....
बेनाम रिश्ते .....
sushil sarna
मन में नमन करूं..
मन में नमन करूं..
Harminder Kaur
भांथी के विलुप्ति के कगार पर होने के बहाने / मुसाफ़िर बैठा
भांथी के विलुप्ति के कगार पर होने के बहाने / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
नई जगह ढूँढ लो
नई जगह ढूँढ लो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
आज का यथार्थ~
आज का यथार्थ~
दिनेश एल० "जैहिंद"
अनचाहे फूल
अनचाहे फूल
SATPAL CHAUHAN
पेट भरता नहीं
पेट भरता नहीं
Dr fauzia Naseem shad
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
स्वीटी: माय स्वीट हार्ट
स्वीटी: माय स्वीट हार्ट
Shekhar Chandra Mitra
दिल की बात
दिल की बात
Bodhisatva kastooriya
तुम्हारे  रंग  में  हम  खुद  को  रंग  डालेंगे
तुम्हारे रंग में हम खुद को रंग डालेंगे
shabina. Naaz
आज के दौर
आज के दौर
$úDhÁ MãÚ₹Yá
जिंदगी में रंग भरना आ गया
जिंदगी में रंग भरना आ गया
Surinder blackpen
2710.*पूर्णिका*
2710.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुम्हीं तुम हो.......!
तुम्हीं तुम हो.......!
Awadhesh Kumar Singh
चिड़िया!
चिड़िया!
सेजल गोस्वामी
चाय की दुकान पर
चाय की दुकान पर
gurudeenverma198
पुस्तकें
पुस्तकें
नन्दलाल सुथार "राही"
बेटी उड़ान पर बाप ढलान पर👰👸🙋👭🕊️🕊️
बेटी उड़ान पर बाप ढलान पर👰👸🙋👭🕊️🕊️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हर-दिन ,हर-लम्हा,नयी मुस्कान चाहिए।
हर-दिन ,हर-लम्हा,नयी मुस्कान चाहिए।
डॉक्टर रागिनी
Loading...