Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Aug 2023 · 1 min read

खुद की अगर खुद से

दुश्वारियां मंज़िल की आसान बनाते ।
खुद की अगर खुद से पहचान कराते ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
7 Likes · 275 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
■ आदिकाल से प्रचलित एक कारगर नुस्खा।।
■ आदिकाल से प्रचलित एक कारगर नुस्खा।।
*प्रणय प्रभात*
महिला दिवस विशेष दोहे
महिला दिवस विशेष दोहे
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
"रोटी और कविता"
Dr. Kishan tandon kranti
गोंडीयन विवाह रिवाज : लमझाना
गोंडीयन विवाह रिवाज : लमझाना
GOVIND UIKEY
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लोग चाहे इश्क़ को दें नाम कोई
लोग चाहे इश्क़ को दें नाम कोई
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बहुत याद आता है
बहुत याद आता है
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
सपनों के सौदागर बने लोग देश का सौदा करते हैं
सपनों के सौदागर बने लोग देश का सौदा करते हैं
प्रेमदास वसु सुरेखा
मुक्त पुरूष #...वो चला गया.....
मुक्त पुरूष #...वो चला गया.....
Santosh Soni
मच्छर दादा
मच्छर दादा
Dr Archana Gupta
तप रही जमीन और
तप रही जमीन और
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
Paras Nath Jha
परिस्थितीजन्य विचार
परिस्थितीजन्य विचार
Shyam Sundar Subramanian
जिनके होंठों पर हमेशा मुस्कान रहे।
जिनके होंठों पर हमेशा मुस्कान रहे।
Phool gufran
पुरुष चाहे जितनी बेहतरीन पोस्ट कर दे
पुरुष चाहे जितनी बेहतरीन पोस्ट कर दे
शेखर सिंह
शब्द : एक
शब्द : एक
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
पितृ स्तुति
पितृ स्तुति
गुमनाम 'बाबा'
चाय और सिगरेट
चाय और सिगरेट
आकाश महेशपुरी
चूड़ियां
चूड़ियां
Madhavi Srivastava
सीख (नील पदम् के दोहे)
सीख (नील पदम् के दोहे)
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बंधन में रहेंगे तो संवर जायेंगे
बंधन में रहेंगे तो संवर जायेंगे
Dheerja Sharma
बच्चें और गर्मी के मज़े
बच्चें और गर्मी के मज़े
कुमार
“फेसबूक मित्रों की बेरुखी”
“फेसबूक मित्रों की बेरुखी”
DrLakshman Jha Parimal
हक़ीक़त पर रो दिया
हक़ीक़त पर रो दिया
Dr fauzia Naseem shad
प्यारी प्यारी सी
प्यारी प्यारी सी
SHAMA PARVEEN
Hello
Hello
Yash mehra
एक ही भूल
एक ही भूल
Mukesh Kumar Sonkar
संसार का स्वरूप (2)
संसार का स्वरूप (2)
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
*आया संवत विक्रमी,आया नूतन वर्ष (कुंडलिया)*
*आया संवत विक्रमी,आया नूतन वर्ष (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
3492.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3492.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
Loading...