Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2022 · 1 min read

खाली पैमाना

दिल खाली पैमाना सा रह जाता है ,
कोई जाम उल्फत का नहीं आता है ।

क्या रकीब या रफीक सब एक जैसे ,
हां! कुछ नुक्तचिनियां जरूर डालता है ।

कुछ अरमान है सूखे फूलों जैसे बेजान ,
जिनके आंसुओं से ही यह जाम भरता है ।

तकदीर से तो कोई उम्मीद न रही हमें अब ,
मगर खुदा से जरूर गिला सा रह जाता है ।

आखिरश ख्वाब भी टूट गए पैमाने जैसे,
मगर हर टुकड़े में एक अक्स नजर आता है ।

दिल के पैमाने को भरते है बस इंतजार से,
देखें कब कोई फरिश्ता मेहरबान होता है ।

“अनु,” को अब जाकर समझ में आया ,
जिंदगी जीने मे औ उसे गुजारने में फर्क होता है ।

5 Likes · 3 Comments · 611 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
चैतन्य
चैतन्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
: काश कोई प्यार को समझ पाता
: काश कोई प्यार को समझ पाता
shabina. Naaz
****** धनतेरस लक्ष्मी का उपहार ******
****** धनतेरस लक्ष्मी का उपहार ******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
पाप बढ़ा वसुधा पर भीषण, हस्त कृपाण  कटार  धरो माँ।
पाप बढ़ा वसुधा पर भीषण, हस्त कृपाण कटार धरो माँ।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
उम्रभर
उम्रभर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कुछ एक आशू, कुछ एक आखों में होगा,
कुछ एक आशू, कुछ एक आखों में होगा,
goutam shaw
Dard-e-Madhushala
Dard-e-Madhushala
Tushar Jagawat
शायर तो नहीं
शायर तो नहीं
Bodhisatva kastooriya
Exhibition
Exhibition
Bikram Kumar
💐प्रेम कौतुक-163💐
💐प्रेम कौतुक-163💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मन सीत मीत दिलवाली
मन सीत मीत दिलवाली
Seema gupta,Alwar
मेरी हर आरजू में,तेरी ही ज़ुस्तज़ु है
मेरी हर आरजू में,तेरी ही ज़ुस्तज़ु है
Pramila sultan
फितरत
फितरत
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
नेपालीको गर्व(Pride of Nepal)
नेपालीको गर्व(Pride of Nepal)
Sidhartha Mishra
मैं पढ़ता हूं
मैं पढ़ता हूं
डॉ० रोहित कौशिक
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelam Sharma
दुनिया असाधारण लोगो को पलको पर बिठाती है
दुनिया असाधारण लोगो को पलको पर बिठाती है
ruby kumari
*जन्म या बचपन में दाई मां या दाया,या माता पिता की छत्र छाया
*जन्म या बचपन में दाई मां या दाया,या माता पिता की छत्र छाया
Shashi kala vyas
आज तुझे देख के मेरा बहम टूट गया
आज तुझे देख के मेरा बहम टूट गया
Kumar lalit
अब तक नहीं मिला है ये मेरी खता नहीं।
अब तक नहीं मिला है ये मेरी खता नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
*आई ए एस फॅंस गए, मंत्री दसवीं फेल (हास्य कुंडलिया)*
*आई ए एस फॅंस गए, मंत्री दसवीं फेल (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
3034.*पूर्णिका*
3034.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
संघर्ष
संघर्ष
Sushil chauhan
■ उल्टी गंगा गौमुख को...!
■ उल्टी गंगा गौमुख को...!
*Author प्रणय प्रभात*
क्षमा करें तुफैलजी! + रमेशराज
क्षमा करें तुफैलजी! + रमेशराज
कवि रमेशराज
काश यह मन एक अबाबील होता
काश यह मन एक अबाबील होता
Atul "Krishn"
अब नये साल में
अब नये साल में
डॉ. शिव लहरी
There are few moments,
There are few moments,
Sakshi Tripathi
हज़ारों चाहने वाले निभाए एक मिल जाए
हज़ारों चाहने वाले निभाए एक मिल जाए
आर.एस. 'प्रीतम'
हमसे बात ना करो।
हमसे बात ना करो।
Taj Mohammad
Loading...