Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2017 · 1 min read

ख़्वाबों की किरचियों में हूं

ख़्वाबों की किरचियों में हूं तो हसरतों में हूं ।
तेरे लबों की आज भी मैं लाग्जिशों में हूं।

माना कभी था तूने मुझे अपनी जिंदगी,
नजरें झुकी है आज तेरी महफिलों में हैं ।

इतने खिले हैं जख़्म मेरे दिल पे जा ब जा,
महसूस हो रहा है कि मैं गुलशनों में हूं।

लहरा रहा है दर्द जो दिल की जमीन पर,
कितनी खुशी है आज बड़ी मुश्किलों में हूं ।

अल्फ़ाज नर्म हैं तेरा लहजा बदल गया,
लगता नहीं है मैं भी तेरे दोस्तों में हूं।

मेरी हयात का ये सफर भी अजीब है,
मैं बेकसों में हूं तो कभी बेबसों में हूं।

चाहत का सिलसिला मुड़ा तो ऐसे मोड़ पर,
लगता नहीं कि मैं भी तेरी ख़्वाहिशों में हूं ।

मुझको मिला है ‘राज’ क्या इस एहतिजाज से,
लगता है जैसे आज तेरे दुश्मनों में हूं ।
——राजश्री——

1 Like · 1 Comment · 284 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मां गंगा ऐसा वर दे
मां गंगा ऐसा वर दे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वेदनामृत
वेदनामृत
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
कितने पन्ने
कितने पन्ने
Satish Srijan
बर्फ की चादरों को गुमां हो गया
बर्फ की चादरों को गुमां हो गया
ruby kumari
अष्टम कन्या पूजन करें,
अष्टम कन्या पूजन करें,
Neelam Sharma
पूर्व दिशा से सूरज रोज निकलते हो
पूर्व दिशा से सूरज रोज निकलते हो
Dr Archana Gupta
इंसान जिन्हें
इंसान जिन्हें
Dr fauzia Naseem shad
चंद हाईकु
चंद हाईकु
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सुंदरता विचारों व चरित्र में होनी चाहिए,
सुंदरता विचारों व चरित्र में होनी चाहिए,
Ranjeet kumar patre
2511.पूर्णिका
2511.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कौन कहता ये यहां नहीं है ?🙏
कौन कहता ये यहां नहीं है ?🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
स्वप्न श्रृंगार
स्वप्न श्रृंगार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
pravin sharma
"काल-कोठरी"
Dr. Kishan tandon kranti
नियोजित शिक्षक का भविष्य
नियोजित शिक्षक का भविष्य
साहिल
ना रहीम मानता हूँ मैं, ना ही राम मानता हूँ
ना रहीम मानता हूँ मैं, ना ही राम मानता हूँ
VINOD CHAUHAN
लोककवि रामचरन गुप्त के पूर्व में चीन-पाकिस्तान से भारत के हुए युद्ध के दौरान रचे गये युद्ध-गीत
लोककवि रामचरन गुप्त के पूर्व में चीन-पाकिस्तान से भारत के हुए युद्ध के दौरान रचे गये युद्ध-गीत
कवि रमेशराज
बेटियाँ
बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
नन्ही परी
नन्ही परी
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
हंसी मुस्कान
हंसी मुस्कान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
समर्पण.....
समर्पण.....
sushil sarna
*नगरपालिका का कैंप* (कहानी)
*नगरपालिका का कैंप* (कहानी)
Ravi Prakash
बना दिया हमको ऐसा, जिंदगी की राहों ने
बना दिया हमको ऐसा, जिंदगी की राहों ने
gurudeenverma198
गीत
गीत
दुष्यन्त 'बाबा'
धनतेरस के अवसर पर ,
धनतेरस के अवसर पर ,
Yogendra Chaturwedi
तेरी महबूबा बनना है मुझे
तेरी महबूबा बनना है मुझे
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
नयी सुबह
नयी सुबह
Kanchan Khanna
कीमती
कीमती
Naushaba Suriya
मेरी जिंदगी
मेरी जिंदगी
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...