Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-358💐

ख़िलाफ़ हो तो खुलकर सामने आओ,
मज़म्मत हो तो खुलकर सामने आओ,
अरे इश्क़ में दिलों के क़रीने का सौदा है,
हिम्मत हो तो खुलकर सामने आओ।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
1 Like · 70 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
ज़ब्त की जिसमें
ज़ब्त की जिसमें
Dr fauzia Naseem shad
दर्द भरा गीत यहाँ गाया जा सकता है Vinit Singh Shayar
दर्द भरा गीत यहाँ गाया जा सकता है Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
💐प्रेम कौतुक-230💐
💐प्रेम कौतुक-230💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इक दिन चंदा मामा बोले ,मेरी प्यारी प्यारी नानी
इक दिन चंदा मामा बोले ,मेरी प्यारी प्यारी नानी
Dr Archana Gupta
यक्ष प्रश्न
यक्ष प्रश्न
Shyam Sundar Subramanian
'मौन अभिव्यक्ति'
'मौन अभिव्यक्ति'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
संयम
संयम
RAKESH RAKESH
भेड़ों के बाड़े में भेड़िये
भेड़ों के बाड़े में भेड़िये
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"फर्क"-दोनों में है जीवन
Dr. Kishan tandon kranti
गंगा का फ़ोन
गंगा का फ़ोन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Kathputali bana sansar
Kathputali bana sansar
Sakshi Tripathi
हट जा हट जा भाल से रेखा
हट जा हट जा भाल से रेखा
सूर्यकांत द्विवेदी
मैं भौंर की हूं लालिमा।
मैं भौंर की हूं लालिमा।
Surinder blackpen
*नया साल*
*नया साल*
Dushyant Kumar
कैसे कह दूं मुझे उनसे प्यार नही है
कैसे कह दूं मुझे उनसे प्यार नही है
Ram Krishan Rastogi
*लेडीज मच्छर कान के जो, पास में गाने लगी(हास्य मुक्तक)*
*लेडीज मच्छर कान के जो, पास में गाने लगी(हास्य मुक्तक)*
Ravi Prakash
वो मेरी कौन थी ?
वो मेरी कौन थी ?
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
निशान
निशान
Saraswati Bajpai
है माँ
है माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
उतर गया चढ़ा था जो आसमाँ में रंग
उतर गया चढ़ा था जो आसमाँ में रंग
'अशांत' शेखर
मोहब्ब्बत के रंग तुम पर बरसा देंगे आज,
मोहब्ब्बत के रंग तुम पर बरसा देंगे आज,
Shubham Pandey (S P)
मैं खुश हूँ बिन कार
मैं खुश हूँ बिन कार
Satish Srijan
कालजई रचना
कालजई रचना
Shekhar Chandra Mitra
दोहे
दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
■ ख़ास दिन...
■ ख़ास दिन...
*Author प्रणय प्रभात*
बिल्ले राम
बिल्ले राम
Kanchan Khanna
सुप्रभात
सुप्रभात
Seema Verma
जिंदगी की बेसबब रफ्तार में।
जिंदगी की बेसबब रफ्तार में।
सत्य कुमार प्रेमी
शाखों के रूप सा हम बिखर जाएंगे
शाखों के रूप सा हम बिखर जाएंगे
कवि दीपक बवेजा
लफ्ज़
लफ्ज़
डॉ प्रवीण ठाकुर
Loading...