Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-358💐

ख़िलाफ़ हो तो खुलकर सामने आओ,
मज़म्मत हो तो खुलकर सामने आओ,
अरे इश्क़ में दिलों के क़रीने का सौदा है,
हिम्मत हो तो खुलकर सामने आओ।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
1 Like · 498 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हर
हर "प्राण" है निलय छोड़ता
Atul "Krishn"
जीने का हक़!
जीने का हक़!
कविता झा ‘गीत’
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
देखिए आईपीएल एक वह बिजनेस है
देखिए आईपीएल एक वह बिजनेस है
शेखर सिंह
बेइमान जिंदगी से खुशी झपट लिजिए
बेइमान जिंदगी से खुशी झपट लिजिए
नूरफातिमा खातून नूरी
बाँस और घास में बहुत अंतर होता है जबकि प्रकृति दोनों को एक स
बाँस और घास में बहुत अंतर होता है जबकि प्रकृति दोनों को एक स
Dr. Man Mohan Krishna
*📌 पिन सारे कागज़ को*
*📌 पिन सारे कागज़ को*
Santosh Shrivastava
दुख है दर्द भी है मगर मरहम नहीं है
दुख है दर्द भी है मगर मरहम नहीं है
कवि दीपक बवेजा
बच्चें और गर्मी के मज़े
बच्चें और गर्मी के मज़े
कुमार
अगर मैं कहूँ
अगर मैं कहूँ
Shweta Soni
तेरा मेरा साथ
तेरा मेरा साथ
Kanchan verma
अलाव
अलाव
गुप्तरत्न
जीवन का हर एक खट्टा मीठा अनुभव एक नई उपयोगी सीख देता है।इसील
जीवन का हर एक खट्टा मीठा अनुभव एक नई उपयोगी सीख देता है।इसील
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
*अपवित्रता का दाग (मुक्तक)*
*अपवित्रता का दाग (मुक्तक)*
Rambali Mishra
** राम बनऽला में एतना तऽ..**
** राम बनऽला में एतना तऽ..**
Chunnu Lal Gupta
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
3435⚘ *पूर्णिका* ⚘
3435⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
🌹 *गुरु चरणों की धूल* 🌹
🌹 *गुरु चरणों की धूल* 🌹
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
उम्मीद
उम्मीद
Dr. Mahesh Kumawat
🎊🏮*दीपमालिका  🏮🎊
🎊🏮*दीपमालिका 🏮🎊
Shashi kala vyas
*शिवाजी का आह्वान*
*शिवाजी का आह्वान*
कवि अनिल कुमार पँचोली
■ आज की बात...
■ आज की बात...
*प्रणय प्रभात*
आदित्य यान L1
आदित्य यान L1
कार्तिक नितिन शर्मा
देश के राजनीतिज्ञ
देश के राजनीतिज्ञ
विजय कुमार अग्रवाल
मैने प्रेम,मौहब्बत,नफरत और अदावत की ग़ज़ल लिखी, कुछ आशार लिखे
मैने प्रेम,मौहब्बत,नफरत और अदावत की ग़ज़ल लिखी, कुछ आशार लिखे
Bodhisatva kastooriya
*कैकेई (कुंडलिया)*
*कैकेई (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
भीड़ के साथ
भीड़ के साथ
Paras Nath Jha
बाढ़
बाढ़
Dr.Pratibha Prakash
तमाम आरजूओं के बीच बस एक तुम्हारी तमन्ना,
तमाम आरजूओं के बीच बस एक तुम्हारी तमन्ना,
Shalini Mishra Tiwari
तुमसे ही दिन मेरा तुम्ही से होती रात है,
तुमसे ही दिन मेरा तुम्ही से होती रात है,
AVINASH (Avi...) MEHRA
Loading...