Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Mar 2024 · 1 min read

ख़ामोश सा शहर

ख़ामोश सा शहर
और गुफ़्तगू की आरज़ू,
किससे करें बात,
कोई
बोलता ही नही…

हिमांशु Kulshrestha

39 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आज मानवता मृत्यु पथ पर जा रही है।
आज मानवता मृत्यु पथ पर जा रही है।
पूर्वार्थ
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तेवर
तेवर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जीवन में,
जीवन में,
नेताम आर सी
हिंदी माता की आराधना
हिंदी माता की आराधना
ओनिका सेतिया 'अनु '
हर शेर हर ग़ज़ल पे है ऐसी छाप तेरी - संदीप ठाकुर
हर शेर हर ग़ज़ल पे है ऐसी छाप तेरी - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
.....★.....
.....★.....
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
#मुक्तक-
#मुक्तक-
*प्रणय प्रभात*
योग
योग
लक्ष्मी सिंह
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
बिल्ली की लक्ष्मण रेखा
बिल्ली की लक्ष्मण रेखा
Paras Nath Jha
शिकारी संस्कृति के
शिकारी संस्कृति के
Sanjay ' शून्य'
शर्ट के टूटे बटन से लेकर
शर्ट के टूटे बटन से लेकर
Ranjeet kumar patre
मैं उसे अनायास याद आ जाऊंगा
मैं उसे अनायास याद आ जाऊंगा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दूसरों की राहों पर चलकर आप
दूसरों की राहों पर चलकर आप
Anil Mishra Prahari
गौरैया
गौरैया
Dr.Pratibha Prakash
सुबह सुबह की चाय
सुबह सुबह की चाय
Neeraj Agarwal
, गुज़रा इक ज़माना
, गुज़रा इक ज़माना
Surinder blackpen
ईमान धर्म बेच कर इंसान खा गया।
ईमान धर्म बेच कर इंसान खा गया।
सत्य कुमार प्रेमी
मेरे अल्फाज़
मेरे अल्फाज़
Dr fauzia Naseem shad
2411.पूर्णिका
2411.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जय मां शारदे
जय मां शारदे
Harminder Kaur
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Kanchan Khanna
वक़्त की पहचान🙏
वक़्त की पहचान🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
संस्कृति
संस्कृति
Abhijeet
मुकद्दर तेरा मेरा एक जैसा क्यों लगता है
मुकद्दर तेरा मेरा एक जैसा क्यों लगता है
VINOD CHAUHAN
ग्रहस्थी
ग्रहस्थी
Bodhisatva kastooriya
ख्वाहिशों के बोझ मे, उम्मीदें भी हर-सम्त हलाल है;
ख्वाहिशों के बोझ मे, उम्मीदें भी हर-सम्त हलाल है;
manjula chauhan
"अगर"
Dr. Kishan tandon kranti
वक्त सा गुजर गया है।
वक्त सा गुजर गया है।
Taj Mohammad
Loading...