Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 1 min read

खत

जब चिट्ठी आती थी ,
तो अपनापन आता था।
उस एक चिट्ठी में
सारा संसार होता था।

अगल बगल
इधर उधर
सबकी चर्चा से
बाग बगीचे
बेमौसम होती
बरखा से
उस चिट्ठी का
हर कोना
गुंजार होता था।
उस एक चिट्ठी में
सारा संसार होता था।

खत को लेने खुद ही,
डाकखाने जाते थे।
बार- बार पढते थे ,
उस खत को यों गुनते थे।
उस खत के अनकहे,
अलिखे ,भाव भी सुनते थे।
उस चिट्ठी का ,
रात- दिन इंतजार होता था।

प्रेमियों के खत का,
तो माहौल अलग था।
उनका डाकबाबू से
संवाद अलग था।
उनके खत को बहुत
सलीके से लाया जाता।
सबसे छिपकर के उनको
खत पहुंचाया जाता।
वह खत ही जी लेने का ,
आधार होता था।
ऐसा भी था वक्त कि ।
खत से प्यार होता था।

डा. पूनम पांडे

Language: Hindi
3 Likes · 85 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Punam Pande
View all
You may also like:
దీపావళి కాంతులు..
దీపావళి కాంతులు..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
दिल के कोने में
दिल के कोने में
Surinder blackpen
दुनियां में मेरे सामने क्या क्या बदल गया।
दुनियां में मेरे सामने क्या क्या बदल गया।
सत्य कुमार प्रेमी
It always seems impossible until It's done
It always seems impossible until It's done
Naresh Kumar Jangir
शेष
शेष
Dr.Priya Soni Khare
लिख देती है कवि की कलम
लिख देती है कवि की कलम
Seema gupta,Alwar
" एक बार फिर से तूं आजा "
Aarti sirsat
* मुझे क्या ? *
* मुझे क्या ? *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
** दूर कैसे रहेंगे **
** दूर कैसे रहेंगे **
Chunnu Lal Gupta
“नये वर्ष का अभिनंदन”
“नये वर्ष का अभिनंदन”
DrLakshman Jha Parimal
*कविवर शिव कुमार चंदन* *(कुंडलिया)*
*कविवर शिव कुमार चंदन* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
चाहते नहीं अब जिंदगी को, करना दुःखी नहीं हरगिज
चाहते नहीं अब जिंदगी को, करना दुःखी नहीं हरगिज
gurudeenverma198
वो कैसा दौर था,ये कैसा दौर है
वो कैसा दौर था,ये कैसा दौर है
Keshav kishor Kumar
बिकाऊ मीडिया को
बिकाऊ मीडिया को
*प्रणय प्रभात*
सरस्वती वंदना । हे मैया ,शारदे माँ
सरस्वती वंदना । हे मैया ,शारदे माँ
Kuldeep mishra (KD)
42 °C
42 °C
शेखर सिंह
झूठ भी कितना अजीब है,
झूठ भी कितना अजीब है,
नेताम आर सी
वो नए सफर, वो अनजान मुलाकात- इंटरनेट लव
वो नए सफर, वो अनजान मुलाकात- इंटरनेट लव
कुमार
कृतिकार का परिचय/
कृतिकार का परिचय/"पं बृजेश कुमार नायक" का परिचय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
भगिनि निवेदिता
भगिनि निवेदिता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
यदि  हम विवेक , धैर्य और साहस का साथ न छोडे़ं तो किसी भी विप
यदि हम विवेक , धैर्य और साहस का साथ न छोडे़ं तो किसी भी विप
Raju Gajbhiye
3108.*पूर्णिका*
3108.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीवन के रास्ते हैं अनगिनत, मौका है जीने का हर पल को जीने का।
जीवन के रास्ते हैं अनगिनत, मौका है जीने का हर पल को जीने का।
पूर्वार्थ
वह एक वस्तु,
वह एक वस्तु,
Shweta Soni
बेलन टांग दे!
बेलन टांग दे!
Dr. Mahesh Kumawat
"वक्त के पाँव में"
Dr. Kishan tandon kranti
कुछ यूं मेरा इस दुनिया में,
कुछ यूं मेरा इस दुनिया में,
Lokesh Singh
पर्यावरण
पर्यावरण
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
बीतते साल
बीतते साल
Lovi Mishra
वतन
वतन
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
Loading...