Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Dec 2023 · 1 min read

खत पढ़कर तू अपने वतन का

खत पढ़कर तू अपने वतन का।
जल्दी आना अपने वतन को।।
करती है याद मातृभूमि तेरी।
मिलने आना अपने वतन को।।
खत पढ़कर तू ——————-।।

खेला करता था कभी, तू इसकी गोद में।
सँग कभी हँसता था इसके, तू इसकी मौज में।।
इसके फूलों की खुशबू , तुमको बुलाती है।
इसलिए चले आना, तू अपने चमन को।।
खत पढ़कर तू ———————–।।

इसके जैसा नहीं मिलेगा, तुमको प्यार कहीं।
इसके जैसा नहीं मिलेगा, तुमको सम्मान कहीं।।
इसके अहसान सच में, तुम पर बहुत है।
तू चले आना चुकाने, इसके अहसान को।
खत पढ़कर तू ————————–।।

देख कैसे लुट रहा है, यह तेरा वतन यहाँ।
देख कितना रो रहा है, यह तेरा चमन यहाँ।।
बर्बाद नहीं होने दे तू , अपने चमन- देश को।
तू चले आना बचाने, देश के सम्मान को।।
खत पढ़कर तू ————————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
145 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं कभी किसी के इश्क़ में गिरफ़्तार नहीं हो सकता
मैं कभी किसी के इश्क़ में गिरफ़्तार नहीं हो सकता
Manoj Mahato
बड़े परिवर्तन तुरंत नहीं हो सकते, लेकिन प्रयास से कठिन भी आस
बड़े परिवर्तन तुरंत नहीं हो सकते, लेकिन प्रयास से कठिन भी आस
ललकार भारद्वाज
नया सपना
नया सपना
Kanchan Khanna
आंखों को मल गए
आंखों को मल गए
Dr fauzia Naseem shad
"लबालब समन्दर"
Dr. Kishan tandon kranti
जय श्रीराम हो-जय श्रीराम हो।
जय श्रीराम हो-जय श्रीराम हो।
manjula chauhan
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
पिता
पिता
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
मार   बेरोजगारी   की   सहते  रहे
मार बेरोजगारी की सहते रहे
अभिनव अदम्य
ऐसी प्रीत कहीं ना पाई
ऐसी प्रीत कहीं ना पाई
Harminder Kaur
You are the sanctuary of my soul.
You are the sanctuary of my soul.
Manisha Manjari
सारे नेता कर रहे, आपस में हैं जंग
सारे नेता कर रहे, आपस में हैं जंग
Dr Archana Gupta
बदलाव
बदलाव
Shyam Sundar Subramanian
इतना बेबस हो गया हूं मैं
इतना बेबस हो गया हूं मैं
Keshav kishor Kumar
कभी नहीं है हारा मन (गीतिका)
कभी नहीं है हारा मन (गीतिका)
surenderpal vaidya
यादें
यादें
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
कोशिश है खुद से बेहतर बनने की
कोशिश है खुद से बेहतर बनने की
Ansh Srivastava
काल चक्र कैसा आया यह, लोग दिखावा करते हैं
काल चक्र कैसा आया यह, लोग दिखावा करते हैं
पूर्वार्थ
प्रेरणादायक बाल कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो।
प्रेरणादायक बाल कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो।
Rajesh Kumar Arjun
उधार  ...
उधार ...
sushil sarna
वैसा न रहा
वैसा न रहा
Shriyansh Gupta
*जिंदगी में जब मिले सुख-दुख पिता की याद आई (गीत )*
*जिंदगी में जब मिले सुख-दुख पिता की याद आई (गीत )*
Ravi Prakash
"विकसित भारत" देखना हो, तो 2047 तक डटे रहो बस। काल के कपाल प
*Author प्रणय प्रभात*
चंदा तुम मेरे घर आना
चंदा तुम मेरे घर आना
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
शिक्षा
शिक्षा
Adha Deshwal
बेहतरीन इंसान वो है
बेहतरीन इंसान वो है
शेखर सिंह
जिसकी जिससे है छनती,
जिसकी जिससे है छनती,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
कितना और बदलूं खुद को
कितना और बदलूं खुद को
इंजी. संजय श्रीवास्तव
फितरत से बहुत दूर
फितरत से बहुत दूर
Satish Srijan
मृत्युभोज
मृत्युभोज
अशोक कुमार ढोरिया
Loading...