Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2024 · 1 min read

खंडहर

सामने एक खंडहर
उँची पहाड़ी पर
तन्हा सा खड़ा
रहता है नज़र में ।
उसमें जलता
बस एक दिया है ।
उम्मीद है कोई
या कोई तपस्या ,
या फिर पुरानी यादें हैं ।
शायद किसी की बाट जोहता,
या फिर माज़ी संग जीता है ।
कौन जाने बहारें कितनी ,
जीने आई , चली गई फिर ।
रह गया खंडहर अकेला ,
अपने अंत के इंतजार में ।

1 Like · 67 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चलो रे काका वोट देने
चलो रे काका वोट देने
gurudeenverma198
pita
pita
Dr.Pratibha Prakash
!! गुजर जायेंगे दुःख के पल !!
!! गुजर जायेंगे दुःख के पल !!
जगदीश लववंशी
🥀✍अज्ञानी की 🥀
🥀✍अज्ञानी की 🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
वह आवाज
वह आवाज
Otteri Selvakumar
जीवन के दिन चार थे, तीन हुआ बेकार।
जीवन के दिन चार थे, तीन हुआ बेकार।
Manoj Mahato
*आत्महत्या*
*आत्महत्या*
आकांक्षा राय
आज कल पढ़ा लिखा युवा क्यों मौन है,
आज कल पढ़ा लिखा युवा क्यों मौन है,
शेखर सिंह
रमेशराज की कहमुकरी संरचना में 10 ग़ज़लें
रमेशराज की कहमुकरी संरचना में 10 ग़ज़लें
कवि रमेशराज
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जब तक नहीं है पास,
जब तक नहीं है पास,
Satish Srijan
* सहारा चाहिए *
* सहारा चाहिए *
surenderpal vaidya
फितरत
फितरत
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
जब मैं तुमसे प्रश्न करूँगा,
जब मैं तुमसे प्रश्न करूँगा,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*** तस्वीर....!!! ***
*** तस्वीर....!!! ***
VEDANTA PATEL
याराना
याराना
Skanda Joshi
चाँद
चाँद
Atul "Krishn"
होगे बहुत ज़हीन, सवालों से घिरोगे
होगे बहुत ज़हीन, सवालों से घिरोगे
Shweta Soni
सरकार~
सरकार~
दिनेश एल० "जैहिंद"
सत्य की खोज, कविता
सत्य की खोज, कविता
Mohan Pandey
रैन  स्वप्न  की  उर्वशी, मौन  प्रणय की प्यास ।
रैन स्वप्न की उर्वशी, मौन प्रणय की प्यास ।
sushil sarna
सुता ये ज्येष्ठ संस्कृत की,अलंकृत भाल पे बिंदी।
सुता ये ज्येष्ठ संस्कृत की,अलंकृत भाल पे बिंदी।
Neelam Sharma
*जिंदगी से हर किसी को, ही असीमित प्यार है (हिंदी गजल)*
*जिंदगी से हर किसी को, ही असीमित प्यार है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
"मुरीद"
Dr. Kishan tandon kranti
जल उठी है फिर से आग नफ़रतों की ....
जल उठी है फिर से आग नफ़रतों की ....
shabina. Naaz
श्रम साधक को विश्राम नहीं
श्रम साधक को विश्राम नहीं
संजय कुमार संजू
🌲दिखाता हूँ मैं🌲
🌲दिखाता हूँ मैं🌲
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
मेरा जीने का तरीका
मेरा जीने का तरीका
पूर्वार्थ
हम समुंदर का है तेज, वह झरनों का निर्मल स्वर है
हम समुंदर का है तेज, वह झरनों का निर्मल स्वर है
Shubham Pandey (S P)
जाने क्यूँ उसको सोचकर -
जाने क्यूँ उसको सोचकर -"गुप्तरत्न" भावनाओं के समन्दर में एहसास जो दिल को छु जाएँ
गुप्तरत्न
Loading...