Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

क्षितिज के उस पार

क्षितिज के उस पार
क्षितिज के उस पार
तिमिर घोर तिमिर है

मैं नहीं जाना चाहता
सुना, वहां जीवन नहीं
सुना है, वहां तप नहीं
सुना है, वहां संताप है
सुना है, वहां स्वर्ग है
सुना है, वहां नरक है
मैं नहीं जाना चाहता

यहीं रहना चाहता हूं
क्यों, आखिर क्यों

यहां रहकर क्या मिला
यहां रहकर क्या किया
यहां रहकर क्या पाया
यहां रहकर क्या खोया
यह सच है, शाश्वत
कुछ नहीं मेरे हाथ, फिर
भी, क्यों जाऊं मैं वहां..

सब कुछ होगा.. होने दो
जानता हूं, वहां का जीवन
वहां जन्म होगा, फिर जन्म
लेकिन मैं अब जन्म नहीं…
चाहता,

रहना चाहता हूं स्थिर,
दीर्घायु की कामना से दूर
दूर, बहुत दूर, बहुत दूर।।
वहां अल्पायु है, यहां दीर्घायु
मैं कहीं नहीं,कहीं नहीं….

जब तुम सब मुझको देते हैं
शुभाशीष…खुश रहो, दीर्घायु हो
तो मुझे याद आती है वह उम्र..
जब मैं असहाय होऊंगा..
नजरें स्थिर होंगी….

मौन होंगे शब्द, प्रस्तर होगा तन।
मौत आएगी, ले जाएगी मुझे…
लेकिन सच मानो, मैं नहीं जाना

चाहता वहां, देख लिया जन्म!
तुम कहोगे मैं निराशावादी हूं
भला, ऐसा भी कोई बोलता है
विधि के विधान से टकराता है
तुम ही बोलो, क्यों न तोलूं..

जब उम्र बोझ हो, संबंध खार लगें
जिनके लिए जियूं, उनके लिए मर जाऊं।।
तो…मृत्यु मांगू या जीवन,
यह क्षितिज या वो क्षितिज !!

-सूर्यकांत द्विवेदी

Language: Hindi
37 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन का कठिन चरण
जीवन का कठिन चरण
पूर्वार्थ
"चार पैरों वाला मेरा यार"
Lohit Tamta
इंडियन टाइम
इंडियन टाइम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ख़ालीपन
ख़ालीपन
MEENU
सब्र रखो सच्च है क्या तुम जान जाओगे
सब्र रखो सच्च है क्या तुम जान जाओगे
VINOD CHAUHAN
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
शब्दों से बनती है शायरी
शब्दों से बनती है शायरी
Pankaj Sen
शातिर हवा के ठिकाने बहुत!
शातिर हवा के ठिकाने बहुत!
Bodhisatva kastooriya
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
*माँ*
*माँ*
Naushaba Suriya
सिलसिला सांसों का
सिलसिला सांसों का
Dr fauzia Naseem shad
जो बातें अंदर दबी हुई रह जाती हैं
जो बातें अंदर दबी हुई रह जाती हैं
श्याम सिंह बिष्ट
एक अबोध बालक
एक अबोध बालक
Shubham Pandey (S P)
3144.*पूर्णिका*
3144.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नाजुक देह में ज्वाला पनपे
नाजुक देह में ज्वाला पनपे
कवि दीपक बवेजा
हे राघव अभिनन्दन है
हे राघव अभिनन्दन है
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
दिन में तुम्हें समय नहीं मिलता,
दिन में तुम्हें समय नहीं मिलता,
Dr. Man Mohan Krishna
अधिकांश लोग बोल कर
अधिकांश लोग बोल कर
*Author प्रणय प्रभात*
~~तीन~~
~~तीन~~
Dr. Vaishali Verma
ये दिन है भारत को विश्वगुरु होने का,
ये दिन है भारत को विश्वगुरु होने का,
शिव प्रताप लोधी
कविता
कविता
Rambali Mishra
मुस्कुराहट
मुस्कुराहट
Santosh Shrivastava
राम सिया की होली देख, अवध में हनुमंत लगे हर्षांने।
राम सिया की होली देख, अवध में हनुमंत लगे हर्षांने।
राकेश चौरसिया
मैं आखिर उदास क्यों होउँ
मैं आखिर उदास क्यों होउँ
DrLakshman Jha Parimal
हम पर कष्ट भारी आ गए
हम पर कष्ट भारी आ गए
Shivkumar Bilagrami
गज़ल
गज़ल
Mahendra Narayan
"विचारणीय"
Dr. Kishan tandon kranti
"दोस्ती का मतलब"
Radhakishan R. Mundhra
भाषा
भाषा
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
दवा की तलाश में रहा दुआ को छोड़कर,
दवा की तलाश में रहा दुआ को छोड़कर,
Vishal babu (vishu)
Loading...