Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jan 2023 · 2 min read

क्षितिज के उस पार

धरती अम्बर जहाँ मिलते उस जगह का सार क्या है।
कोई तो मुझको बताए क्षितिज के उस पार क्या है।

एक साथ बैठ करके परस्पर बतिया रहे हों।
अपलक देखा लगा ऐसे नभ धरा
संग जा रहें हों।
सब जगह यह दूर रहते वहां पाते प्यार क्या है।
कोई तो मुझको बताए क्षितिज के उस पार क्या है।

क्षितिज से ही रवि निकलता, लालिमा सा वसन पहने।
हैं सुसज्जित भास्कर प्रति अंग धारे अंशु गहने।
सन्ध्या को सागर में छिपते सूर्य का मनुहार क्या है।
कोई तो मुझको बताए क्षितिज के उस पार क्या है।

चन्द्रमा भी है निकलता क्षितिज का पट खोल करके।
चंद्रिका संग पथिक बनकर बढ़ता पग पग तोल करके।
क्षितिज में जाकर समाते, तारों का पसार क्या है।
कोई तो मुझको बताए क्षितिज के उस पार क्या है।

क्षितिज से भर भर के लाता मेघ ढेरों जल गगन में।
क्षितिज से उठ तड़ित लगती कान्ति लिपटी हो अगन में।
पल में कड़के शान्त पल में दामिनी दमकार क्या है।
कोई तो मुझको बताए क्षितिज के उस पार क्या है।

पूरब से पश्चिम तक दिखता जाता उत्तर छोर तक।
दक्षिण व सब उप दिशाएं फैला चारों ओर तक।
जलधि पाद चुम्बन करता क्षितिज का विस्तार क्या है
कोई तो मुझको बताए क्षितिज के उस पार क्या है।

ज्यों मरीचिका का सलिल हो वैसे क्षितिज भी है पहेली।
जितना इनके निकट जाएं डगर होती अति दुहेली।
न कोई कह पाया अब तक क्षितिज का आकार क्या है।
कोई तो मुझको बताए क्षितिज के उस पार क्या है।

ग्रन्थ के पन्ने खंगाला बातें बन कर सीख निकली।
सब बना है धुन सहारे रचनाशक्ति धुन है इकली।
किम्बदन्ती है नहीं तो अनहद की झंकार क्या है।
कोई तो मुझको बताए क्षितिज के उस पार क्या है।

सुरज चन्दा तड़ित सागर,धरती अम्बर की है जो जद।
क्षितिज के इस पार अनहद, क्षितिज के उस पार अनहद।
है टिका ब्रह्मांड जिस पर,शब्द की धुनकार क्या है।
कोई तो मुझको बताए क्षितिज के उस पार क्या है।

-सतीश सृजन, लखनऊ.

Language: Hindi
364 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*प्रणय प्रभात*
कविता के प्रेरणादायक शब्द ही सन्देश हैं।
कविता के प्रेरणादायक शब्द ही सन्देश हैं।
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
....एक झलक....
....एक झलक....
Naushaba Suriya
झूला....
झूला....
Harminder Kaur
भावो को पिरोता हु
भावो को पिरोता हु
भरत कुमार सोलंकी
मुझ में
मुझ में
हिमांशु Kulshrestha
वादा
वादा
Bodhisatva kastooriya
सत्य मिलता कहाँ है?
सत्य मिलता कहाँ है?
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
हम किसी सरकार में नहीं हैं।
हम किसी सरकार में नहीं हैं।
Ranjeet kumar patre
3441🌷 *पूर्णिका* 🌷
3441🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
बच्चे कहाँ सोयेंगे...???
बच्चे कहाँ सोयेंगे...???
Kanchan Khanna
मनमर्जी की जिंदगी,
मनमर्जी की जिंदगी,
sushil sarna
खिलेंगे फूल राहों में
खिलेंगे फूल राहों में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*जीवन को मात है (घनाक्षरी)*
*जीवन को मात है (घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
सिर्फ बेटियां ही नहीं बेटे भी घर छोड़ जाते है😥😥
सिर्फ बेटियां ही नहीं बेटे भी घर छोड़ जाते है😥😥
पूर्वार्थ
मैं तो महज चुनौती हूँ
मैं तो महज चुनौती हूँ
VINOD CHAUHAN
প্রফুল্ল হৃদয় এবং হাস্যোজ্জ্বল চেহারা
প্রফুল্ল হৃদয় এবং হাস্যোজ্জ্বল চেহারা
Sakhawat Jisan
बुझा दीपक जलाया जा रहा है
बुझा दीपक जलाया जा रहा है
कृष्णकांत गुर्जर
कागज ए ज़िंदगी............एक सोच
कागज ए ज़िंदगी............एक सोच
Neeraj Agarwal
धरती पर जन्म लेने वाला हर एक इंसान मजदूर है
धरती पर जन्म लेने वाला हर एक इंसान मजदूर है
प्रेमदास वसु सुरेखा
गुनाह लगता है किसी और को देखना
गुनाह लगता है किसी और को देखना
Trishika S Dhara
मीडिया पर व्यंग्य
मीडिया पर व्यंग्य
Mahender Singh
इश्क की गलियों में
इश्क की गलियों में
Dr. Man Mohan Krishna
तेरी जुल्फों के साये में भी अब राहत नहीं मिलती।
तेरी जुल्फों के साये में भी अब राहत नहीं मिलती।
Phool gufran
जो भूलने बैठी तो, यादें और गहराने लगी।
जो भूलने बैठी तो, यादें और गहराने लगी।
Manisha Manjari
बड़ी सादगी से सच को झूठ,
बड़ी सादगी से सच को झूठ,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कुत्ते का श्राद्ध
कुत्ते का श्राद्ध
Satish Srijan
"उल्लू"
Dr. Kishan tandon kranti
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"आज की रात "
Pushpraj Anant
Loading...