Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2023 · 1 min read

क्षणिक स्वार्थ में हो रहे, रिश्ते तेरह तीन।

क्षणिक स्वार्थ में हो रहे, रिश्ते तेरह तीन।
कौन कभी लेकर गया, गज भर साथ जमीन।।
© सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद

Language: Hindi
2 Likes · 256 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
वस हम पर
वस हम पर
Dr fauzia Naseem shad
डॉ. नामवर सिंह की रसदृष्टि या दृष्टिदोष
डॉ. नामवर सिंह की रसदृष्टि या दृष्टिदोष
कवि रमेशराज
जलियांवाला बाग काण्ड शहीदों को श्रद्धांजलि
जलियांवाला बाग काण्ड शहीदों को श्रद्धांजलि
Mohan Pandey
चाबी घर की हो या दिल की
चाबी घर की हो या दिल की
शेखर सिंह
चौथ का चांद
चौथ का चांद
Dr. Seema Varma
*अम्मा*
*अम्मा*
Ashokatv
सच तो हम सभी होते हैं।
सच तो हम सभी होते हैं।
Neeraj Agarwal
कविता (आओ तुम )
कविता (आओ तुम )
Sangeeta Beniwal
😊😊😊
😊😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
नफरतों के शहर में प्रीत लुटाते रहना।
नफरतों के शहर में प्रीत लुटाते रहना।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
बॉलीवुड का क्रैज़ी कमबैक रहा है यह साल - आलेख
बॉलीवुड का क्रैज़ी कमबैक रहा है यह साल - आलेख
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
कभी-कभी एक छोटी कोशिश भी
कभी-कभी एक छोटी कोशिश भी
Anil Mishra Prahari
"मनुज बलि नहीं होत है - होत समय बलवान ! भिल्लन लूटी गोपिका - वही अर्जुन वही बाण ! "
Atul "Krishn"
एक समय वो था
एक समय वो था
Dr.Rashmi Mishra
संघर्ष वह हाथ का गुलाम है
संघर्ष वह हाथ का गुलाम है
प्रेमदास वसु सुरेखा
गजलकार रघुनंदन किशोर
गजलकार रघुनंदन किशोर "शौक" साहब का स्मरण
Ravi Prakash
मेरी सोच~
मेरी सोच~
दिनेश एल० "जैहिंद"
24/243. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/243. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Kisne kaha Maut sirf ek baar aati h
Kisne kaha Maut sirf ek baar aati h
Kumar lalit
प्रभु पावन कर दो मन मेरा , प्रभु पावन तन मेरा
प्रभु पावन कर दो मन मेरा , प्रभु पावन तन मेरा
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बारिश का मौसम
बारिश का मौसम
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
घरौंदा
घरौंदा
Dr. Kishan tandon kranti
कुंडलिनी छंद
कुंडलिनी छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मुक्तक7
मुक्तक7
Dr Archana Gupta
समाज के बदलते स्वरूप में आप निवेशक, उत्पादक, वितरक, विक्रेता
समाज के बदलते स्वरूप में आप निवेशक, उत्पादक, वितरक, विक्रेता
Sanjay ' शून्य'
कहीं चीखें मौहब्बत की सुनाई देंगी तुमको ।
कहीं चीखें मौहब्बत की सुनाई देंगी तुमको ।
Phool gufran
विषय:गुलाब
विषय:गुलाब
Harminder Kaur
जय प्रकाश
जय प्रकाश
Jay Dewangan
दो जिस्म एक जान
दो जिस्म एक जान
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
* सिला प्यार का *
* सिला प्यार का *
surenderpal vaidya
Loading...