Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Nov 2016 · 1 min read

क्षणिकाएँ

(1)
मानव-जीवन ,
ज्यों-सरिता है।
आँसू त्यों-
पूरी कविता है।
(2)
मानव-जीवन सागर है ।
भरी ज्ञान की गागर है।
गोता लेते गोता-खोर ।
बाकी चोरी करते चोर ।
(3)
आँसू समझो
धर्म-ग्रंथ है।
प्रेम ही केवल,
एक पंथ है।
-ईश्वर दयाल गोस्वामी
कवि एवं शिक्षक।

Language: Hindi
8 Comments · 1189 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ईश्वर दयाल गोस्वामी
View all
You may also like:
"हमारे नेता "
DrLakshman Jha Parimal
रोटी रूदन
रोटी रूदन
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
कान खोलकर सुन लो
कान खोलकर सुन लो
Shekhar Chandra Mitra
किस से पूछूं?
किस से पूछूं?
Surinder blackpen
भाव  पौध  जब मन में उपजे,  शब्द पिटारा  मिल जाए।
भाव पौध जब मन में उपजे, शब्द पिटारा मिल जाए।
शिल्पी सिंह बघेल
दरख़्त और व्यक्तित्व
दरख़्त और व्यक्तित्व
Dr Parveen Thakur
चाहत
चाहत
Shyam Sundar Subramanian
वसंत की बहार।
वसंत की बहार।
Anil Mishra Prahari
कर्म ही है श्रेष्ठ
कर्म ही है श्रेष्ठ
Sandeep Pande
आज़ादी की जंग में कूदी नारीशक्ति
आज़ादी की जंग में कूदी नारीशक्ति
कवि रमेशराज
पीड़ा भी मूक थी
पीड़ा भी मूक थी
Dr fauzia Naseem shad
मां तेरा कर्ज ये तेरा बेटा कैसे चुकाएगा।
मां तेरा कर्ज ये तेरा बेटा कैसे चुकाएगा।
Rj Anand Prajapati
"हे वसन्त, है अभिनन्दन.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*चुनाव के दिन आ गए 【मुक्तक】*
*चुनाव के दिन आ गए 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता -९०
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता -९०
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मेहनती मोहन
मेहनती मोहन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दीमक जैसे खा रही,
दीमक जैसे खा रही,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
उसकी गली तक
उसकी गली तक
Vishal babu (vishu)
वन उपवन हरित खेत क्यारी में
वन उपवन हरित खेत क्यारी में
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
यादों की महफिल सजी, दर्द हुए गुलजार ।
यादों की महफिल सजी, दर्द हुए गुलजार ।
sushil sarna
पढ़े साहित्य, रचें साहित्य
पढ़े साहित्य, रचें साहित्य
संजय कुमार संजू
कर्नाटक के मतदाता
कर्नाटक के मतदाता
*Author प्रणय प्रभात*
जिस मुश्किल का यार कोई हल नहीं है
जिस मुश्किल का यार कोई हल नहीं है
कवि दीपक बवेजा
नया दिन
नया दिन
Vandna Thakur
मेरे मौलिक विचार
मेरे मौलिक विचार
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
सच्ची सहेली - कहानी
सच्ची सहेली - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
गिरगिट को भी अब मात
गिरगिट को भी अब मात
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रिश्तों की रिक्तता
रिश्तों की रिक्तता
पूर्वार्थ
Loading...