Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 May 2024 · 1 min read

क्यो नकाब लगाती

” क्यो नकाब लगाती हो।”

सफर पर जाने वाली मुसाफिर तु
आपनी सुरत पर क्यों नकाल लगाती है।
क्यो घृणित कार्य करने वाली शातिर
अपनी सुरत पर उठने वाले जवाब को सवाल से बचाती हो
. तुम अपनी सुरत वेगो नकाब लगाती हो
अपनी सुरत पर लगे दाग को छिपाती हो

पापड़ हमने भी बेले है।
बहन समझ साथ में भी खेले हैं l
“हम भी नकाब रखते है अपनी सुरत पर
रात की अंधेरी भोर में भी अकेले है।.
. जरूरत की वारदात से छिपने खातिर नकाब लगाते है।
भरी महफिल में तुम किस खातिर नकाब लगाती हो
स्वर्ग की अप्सरा से तेरा ना नाता है।
भाव खाकर, तुम्हें गुमान करना आता है
झुठी शैखिया लगाकर अपनी हंसी से हम भोली सुरत को
लूट उडान भरना भाता है
तेरे मन के हर सवाल का सही जवाब बताते है।
पर तुम हम मगरमच्छ के बीच में रहकर यह नकाब क्यों
लगाती हो
हाथ में रखा इस पागल का पत्थर है
रखा नकाब तेरे लिवाज का अस्तर है
क्यो इन्सानो की महक से तुम्हे घृणा रख.
कहती हो मेरा नकाब हां अन्दर है
तुम हर बात को बवाल बनाती है !
फिर यहनकाब फिर तुम क्यो नकाब लगाती हो।.
हमारी जेब में आज ना उधारी है
इसी खातिर इज्जत हमारी आज हां उत्तारी है।
प्रेम भरी सम्मान भरी नजरो के हम ना तेरे प्रेम पुजारी है।
‘हम तो तेरे सवाल का जवाब जानते है
पर तुम क्यो सुरत पर क नकाब लगाती हो

Language: Hindi
39 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जब तक आप जीवित हैं, जीवित ही रहें, हमेशा खुश रहें
जब तक आप जीवित हैं, जीवित ही रहें, हमेशा खुश रहें
Sonam Puneet Dubey
"मुशाफिर हूं "
Pushpraj Anant
किसी मनपसंद शख्स के लिए अपनी ज़िंदगी निसार करना भी अपनी नई ज
किसी मनपसंद शख्स के लिए अपनी ज़िंदगी निसार करना भी अपनी नई ज
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ज़ेहन से
ज़ेहन से
हिमांशु Kulshrestha
चाय पार्टी
चाय पार्टी
Mukesh Kumar Sonkar
THE ANT
THE ANT
SURYA PRAKASH SHARMA
*जीवन का आनन्द*
*जीवन का आनन्द*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*दिल का दर्द*
*दिल का दर्द*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जोकर
जोकर
Neelam Sharma
पिता के पदचिह्न (कविता)
पिता के पदचिह्न (कविता)
गुमनाम 'बाबा'
चुन्नी सरकी लाज की,
चुन्नी सरकी लाज की,
sushil sarna
"संकल्प"
Dr. Kishan tandon kranti
वक्त (प्रेरणादायक कविता):- सलमान सूर्य
वक्त (प्रेरणादायक कविता):- सलमान सूर्य
Salman Surya
22-दुनिया
22-दुनिया
Ajay Kumar Vimal
🍂🍂🍂🍂*अपना गुरुकुल*🍂🍂🍂🍂
🍂🍂🍂🍂*अपना गुरुकुल*🍂🍂🍂🍂
Dr. Vaishali Verma
"श्रृंगारिका"
Ekta chitrangini
नहीं बदलते
नहीं बदलते
Sanjay ' शून्य'
दोहावली ओम की
दोहावली ओम की
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
*माता (कुंडलिया)*
*माता (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
भारत माता की वंदना
भारत माता की वंदना
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
2836. *पूर्णिका*
2836. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आखिर क्यूं?
आखिर क्यूं?
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
अनंतनाग में शहीद हुए
अनंतनाग में शहीद हुए
Harminder Kaur
सुप्रभात
सुप्रभात
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
राजनीति
राजनीति
Bodhisatva kastooriya
उसे गवा दिया है
उसे गवा दिया है
Awneesh kumar
हर चेहरा है खूबसूरत
हर चेहरा है खूबसूरत
Surinder blackpen
समस्या
समस्या
Neeraj Agarwal
*Keep Going*
*Keep Going*
Poonam Matia
यूपी में कुछ पहले और दूसरे चरण में संतरो की हालात ओर खराब हो
यूपी में कुछ पहले और दूसरे चरण में संतरो की हालात ओर खराब हो
शेखर सिंह
Loading...