Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jul 2023 · 1 min read

क्यों मानव मानव को डसता

कैसा कलियुग जग में छाया,सत्य प्रेम नहि उर में बसता।
माया के चक्कर में देखो,मानव मानव को ही डसता।

चंचल माया ने है देखो,कैसा घातक जाल बिछाया।
चंद अर्थ के इन सिक्कों ने ,सकल जगत को है भरमाया।
प्रेम बना है पंथ लोभ का,कदम कदम पर स्वारथ रसता।
माया के चक्कर में देखो,मानव मानव को ही डसता।

पति पत्नी में प्रेम घटा है,पुत्र बाप से है लड़ता।
सर्प बने हैं साथी अपने,अर्थ लोभ में पारा चढ़ता।
सीधा साधा है मानव जो,चक्र व्यूह में इसके फंसता।
माया के चक्कर में देखो,मानव मानव को ही डसता।

रिश्ते नाते भटके निज पथ, लखते रिश्तों में भी माया।
बिना अर्थ के ऐसे छोड़ें,प्राण छोड़ते ज्यों यह काया।
कहता कविवर ओम जगत को, काल पाश सा कलियुग कसता।
माया के चक्कर में देखो,मानव मानव को ही डसता।

ओम प्रकाश श्रीवास्तव ओम
शिक्षक व साहित्यकार

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 552 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शातिर दुनिया
शातिर दुनिया
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
उम्मीद से अधिक मिलना भी आदमी में घमंड का भाव पैदा करता है !
उम्मीद से अधिक मिलना भी आदमी में घमंड का भाव पैदा करता है !
Babli Jha
मैं एक पल हूँ
मैं एक पल हूँ
Swami Ganganiya
3164.*पूर्णिका*
3164.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
लाश लिए फिरता हूं
लाश लिए फिरता हूं
Ravi Ghayal
आजकल रिश्तें और मक्कारी एक ही नाम है।
आजकल रिश्तें और मक्कारी एक ही नाम है।
Priya princess panwar
*वो मेरी जान, मुझे बहुत याद आती है(जेल से)*
*वो मेरी जान, मुझे बहुत याद आती है(जेल से)*
Dushyant Kumar
हार का पहना हार
हार का पहना हार
Sandeep Pande
तुम पलाश मैं फूल तुम्हारा।
तुम पलाश मैं फूल तुम्हारा।
Dr. Seema Varma
कोई मुरव्वत नहीं
कोई मुरव्वत नहीं
Mamta Singh Devaa
बचा  सको तो  बचा  लो किरदारे..इंसा को....
बचा सको तो बचा लो किरदारे..इंसा को....
shabina. Naaz
International plastic bag free day
International plastic bag free day
Tushar Jagawat
झुंड
झुंड
Rekha Drolia
मन को समझाने
मन को समझाने
sushil sarna
"एक नज़र"
Dr. Kishan tandon kranti
व्यक्तित्व और व्यवहार हमारी धरोहर
व्यक्तित्व और व्यवहार हमारी धरोहर
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
परम तत्व का हूँ  अनुरागी
परम तत्व का हूँ अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
प्रेम
प्रेम
विमला महरिया मौज
*हैप्पी बर्थडे रिया (कुंडलिया)*
*हैप्पी बर्थडे रिया (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
■ आज भी...।
■ आज भी...।
*Author प्रणय प्रभात*
खुद को संवार लूँ.... के खुद को अच्छा लगूँ
खुद को संवार लूँ.... के खुद को अच्छा लगूँ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आँखों से नींदे
आँखों से नींदे
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
जन कल्याण कारिणी
जन कल्याण कारिणी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मैं तो महज एक माँ हूँ
मैं तो महज एक माँ हूँ
VINOD CHAUHAN
जन्म दायनी माँ
जन्म दायनी माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हम वो फूल नहीं जो खिले और मुरझा जाएं।
हम वो फूल नहीं जो खिले और मुरझा जाएं।
Phool gufran
चूहा भी इसलिए मरता है
चूहा भी इसलिए मरता है
शेखर सिंह
चंद अशआर
चंद अशआर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
मुश्किलों से क्या
मुश्किलों से क्या
Dr fauzia Naseem shad
अगर पुरुष नारी में अपनी प्रेमिका न ढूंढे और उसके शरीर की चाह
अगर पुरुष नारी में अपनी प्रेमिका न ढूंढे और उसके शरीर की चाह
Ranjeet kumar patre
Loading...