Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Sep 2022 · 1 min read

कोई कह दे क्यों मजबूर हुए हम

कोई कह दे क्यों मजबूर हुए हम
एक दूजे से क्यों ऐसे दूर हुए हम
कोई कह दे क्यों……………..
जान बाकि है मगर जिंदगी नहीं
चाह जिंदगी की खो गई है कहीं
ना चाहकर भी क्यों दूर हुए हम
कोई कह दे क्यों………………
मिले भी न थे और हम यूँ बिछुड़े
खिले बिन गुल चमन जैसे उजड़े
पास आकर भी क्यों दूर हुए हम
कोई कह दे क्यों………………
हमारी खता है या तुम्हारी खता
कुसूर किसका नहीं हमको पता
‘विनोद’ क्यों ऐसे यूँ दूर हुए हम
कोई कह दे क्यों……………….

स्वरचित
( विनोद चौहान )

5 Likes · 279 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
मिलने वाले कभी मिलेंगें
मिलने वाले कभी मिलेंगें
Shweta Soni
कहीं  पानी  ने  क़हर  ढाया......
कहीं पानी ने क़हर ढाया......
shabina. Naaz
मन को आनंदित करे,
मन को आनंदित करे,
Rashmi Sanjay
बेटी
बेटी
Akash Yadav
तुम से सिर्फ इतनी- सी इंतजा है कि -
तुम से सिर्फ इतनी- सी इंतजा है कि -
लक्ष्मी सिंह
जिन्दगी सदैव खुली किताब की तरह रखें, जिसमें भावनाएं संवेदनशी
जिन्दगी सदैव खुली किताब की तरह रखें, जिसमें भावनाएं संवेदनशी
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
रमेशराज की बच्चा विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की बच्चा विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
बड़ी मुश्किल से लगा दिल
बड़ी मुश्किल से लगा दिल
कवि दीपक बवेजा
"वक्त" भी बड़े ही कमाल
नेताम आर सी
🌹🌹🌹शुभ दिवाली🌹🌹🌹
🌹🌹🌹शुभ दिवाली🌹🌹🌹
umesh mehra
पितर
पितर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बीज
बीज
Dr.Priya Soni Khare
Perceive Exams as a festival
Perceive Exams as a festival
Tushar Jagawat
दोहा त्रयी. . . सन्तान
दोहा त्रयी. . . सन्तान
sushil sarna
।। आरती श्री सत्यनारायण जी की।।
।। आरती श्री सत्यनारायण जी की।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सुरनदी_को_त्याग_पोखर_में_नहाने_जा_रहे_हैं......!!
सुरनदी_को_त्याग_पोखर_में_नहाने_जा_रहे_हैं......!!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
हमारा विद्यालय
हमारा विद्यालय
आर.एस. 'प्रीतम'
कागज़ ए जिंदगी
कागज़ ए जिंदगी
Neeraj Agarwal
जिन्हें बुज़ुर्गों की बात
जिन्हें बुज़ुर्गों की बात
*Author प्रणय प्रभात*
अर्धांगिनी
अर्धांगिनी
VINOD CHAUHAN
कहना है तो ऐसे कहो, कोई न बोले चुप।
कहना है तो ऐसे कहो, कोई न बोले चुप।
Yogendra Chaturwedi
नया एक रिश्ता पैदा क्यों करें हम
नया एक रिश्ता पैदा क्यों करें हम
Shakil Alam
बाल कविता : काले बादल
बाल कविता : काले बादल
Rajesh Kumar Arjun
राम नाम की जय हो
राम नाम की जय हो
Paras Nath Jha
अभी सत्य की खोज जारी है...
अभी सत्य की खोज जारी है...
Vishnu Prasad 'panchotiya'
प्यार करने वाले
प्यार करने वाले
Pratibha Pandey
देश की हिन्दी
देश की हिन्दी
surenderpal vaidya
अनुभूति
अनुभूति
Dr. Kishan tandon kranti
कविता(प्रेम,जीवन, मृत्यु)
कविता(प्रेम,जीवन, मृत्यु)
Shiva Awasthi
जब  भी  तू  मेरे  दरमियाँ  आती  है
जब भी तू मेरे दरमियाँ आती है
Bhupendra Rawat
Loading...