Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 14, 2022 · 1 min read

क्यों ना नये अनुभवों को अब साथ करें?

रास्तों की सुने या मंजिलों की फरियाद करें,
बीते कल में जियें या नये कल का आगाज करें।
जाती रात में अमावस की घनी परछाई है,
क्या आने वाली रातों में पूनम की छटा छाई है?
इस किनारे पे पहुँच सुकून की सांस हम लें,
या नये किनारों की तरफ कूच का प्रयास करें?
उस बाग में पतझड़ जाने कब से ठहर छाया है,
क्या कभी सावन वहाँ भी रूक कर बरस पाया है?
उन दर्द भरी नज्मों को हीं तनहाई की ढ़ाल करें,
या नये शब्दों और गीतों से तरकस को भरें।
आंसुओं ने भी तो बारिश की बूंदों में हीं जगह पायी है,
क्या बाद इसके इंद्रधनुषी रंगों में लिपट शाम मुस्कुरायी है?
रक्तरंजित भूमि में हीं रुक कर विलाप करें या
नई कोपलों से उस धरती को भरें,
एक हीं पन्ने को क्यों बार बार पढ़ें,
क्यों ना नये अनुभवों को अब साथ करें?

1 Like · 183 Views
You may also like:
दोस्त जीवन में एक सच्चा दोस्त ज़रूर कमाना….
Piyush Goel
कभी मेहरबां।
Taj Mohammad
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
शामिल इबादतो में
Dr fauzia Naseem shad
हर फौजी की कहानी
Dalveer Singh
समझना तुझे है अगर जिंदगी को।
सत्य कुमार प्रेमी
आकार ले रही हूं।
Taj Mohammad
पैसा
Arjun Chauhan
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
मां शारदा
AMRESH KUMAR VERMA
" शिवोहम रिट्रीट "
Dr Meenu Poonia
सावन आया
HindiPoems ByVivek
जुनून।
Taj Mohammad
माँ
संजीव शुक्ल 'सचिन'
खराब अपना दिमाग तुम,ऐसे ना किया करो
gurudeenverma198
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
तेरा एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
सारे ही चेहरे कातिल हैं।
Taj Mohammad
✍️कालचक्र✍️
'अशांत' शेखर
यह सूखे होंठ समंदर की मेहरबानी है
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
✍️अल्फाज़ो का कोहिनूर "ताज मोहम्मद"✍️
'अशांत' शेखर
फ़नकार समझते हैं Ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
"अल्मोड़ा शहर"
Lohit Tamta
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
श्रावण सोमवार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
धूप में साया।
Taj Mohammad
उसको बता दो।
Taj Mohammad
हर घड़ी यूँ सांस कम हो रही हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
ऐतबार नहीं करना!
Mahesh Ojha
जाति- पाति, भेद- भाव
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...