Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2022 · 1 min read

क्यों ना नये अनुभवों को अब साथ करें?

रास्तों की सुने या मंजिलों की फरियाद करें,
बीते कल में जियें या नये कल का आगाज करें।
जाती रात में अमावस की घनी परछाई है,
क्या आने वाली रातों में पूनम की छटा छाई है?
इस किनारे पे पहुँच सुकून की सांस हम लें,
या नये किनारों की तरफ कूच का प्रयास करें?
उस बाग में पतझड़ जाने कब से ठहर छाया है,
क्या कभी सावन वहाँ भी रूक कर बरस पाया है?
उन दर्द भरी नज्मों को हीं तनहाई की ढ़ाल करें,
या नये शब्दों और गीतों से तरकस को भरें।
आंसुओं ने भी तो बारिश की बूंदों में हीं जगह पायी है,
क्या बाद इसके इंद्रधनुषी रंगों में लिपट शाम मुस्कुरायी है?
रक्तरंजित भूमि में हीं रुक कर विलाप करें या
नई कोपलों से उस धरती को भरें,
एक हीं पन्ने को क्यों बार बार पढ़ें,
क्यों ना नये अनुभवों को अब साथ करें?

Language: Hindi
1 Like · 369 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
सच में कितना प्यारा था, मेरे नानी का घर...
सच में कितना प्यारा था, मेरे नानी का घर...
Anand Kumar
मानवता और जातिगत भेद
मानवता और जातिगत भेद
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
मर्द की कामयाबी के पीछे माँ के अलावा कोई दूसरी औरत नहीं होती
मर्द की कामयाबी के पीछे माँ के अलावा कोई दूसरी औरत नहीं होती
Sandeep Kumar
वक्त और रिश्ते
वक्त और रिश्ते
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
सफाई इस तरह कुछ मुझसे दिए जा रहे हो।
सफाई इस तरह कुछ मुझसे दिए जा रहे हो।
Manoj Mahato
"स्वप्न".........
Kailash singh
"वक्त-वक्त की बात"
Dr. Kishan tandon kranti
रोम-रोम में राम....
रोम-रोम में राम....
डॉ.सीमा अग्रवाल
उतना ही उठ जाता है
उतना ही उठ जाता है
Dr fauzia Naseem shad
जब तुम नहीं सुनोगे भैया
जब तुम नहीं सुनोगे भैया
DrLakshman Jha Parimal
नीति अनैतिकता को देखा तो,
नीति अनैतिकता को देखा तो,
Er.Navaneet R Shandily
'उड़ान'
'उड़ान'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बेड़ियाँ
बेड़ियाँ
Shaily
*पछतावा*
*पछतावा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रूठी हूं तुझसे
रूठी हूं तुझसे
Surinder blackpen
नील पदम् के बाल गीत Neel Padam ke Bal Geet #neelpadam
नील पदम् के बाल गीत Neel Padam ke Bal Geet #neelpadam
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कोशिशें करके देख लो,शायद
कोशिशें करके देख लो,शायद
Shweta Soni
2899.*पूर्णिका*
2899.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*बेचारे पति जानते, महिमा अपरंपार (हास्य कुंडलिया)*
*बेचारे पति जानते, महिमा अपरंपार (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हर एक से छूटा है राहों में अक्सर.......
हर एक से छूटा है राहों में अक्सर.......
कवि दीपक बवेजा
आत्मा
आत्मा
Bodhisatva kastooriya
मुख अटल मधुरता, श्रेष्ठ सृजनता, मुदित मधुर मुस्कान।
मुख अटल मधुरता, श्रेष्ठ सृजनता, मुदित मधुर मुस्कान।
रेखा कापसे
#बोध_काव्य-
#बोध_काव्य-
*Author प्रणय प्रभात*
रिसाय के उमर ह , मनाए के जनम तक होना चाहि ।
रिसाय के उमर ह , मनाए के जनम तक होना चाहि ।
Lakhan Yadav
फेर रहे हैं आंख
फेर रहे हैं आंख
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जालिम
जालिम
Satish Srijan
आभ बसंती...!!!
आभ बसंती...!!!
Neelam Sharma
पैसों के छाँव तले रोता है न्याय यहां (नवगीत)
पैसों के छाँव तले रोता है न्याय यहां (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
दो जिस्म एक जान
दो जिस्म एक जान
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दे दो, दे दो,हमको पुरानी पेंशन
दे दो, दे दो,हमको पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
Loading...