Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2023 · 1 min read

क्यों नहीं बदल सका मैं, यह शौक अपना

क्यों नहीं बदल सका मैं, आज भी यह शौक अपना।
आज भी आदत है मेरी, नगमें जिंदगी के लिखना।।
क्यों नहीं बदल सका मैं——————।।

बात ऐसी भी नहीं है, मैं सबसे हूँ बेखबर।
मैं नशे में रहता है, मुझपे नहीं कोई असर।।
किसका है मुझको इंतजार, देखता हूँ किसका सपना।
क्यों नहीं बदल सका मैं——————।।

कोशिश मैंने यह भी की है, तोड़ दूँ मैं यह शीशा।
क्यों मरूं उसके लिए मैं, जिससे नहीं कोई आशा।।
देखता हूँ फिर भी क्यों मैं, समझकर आईना अपना।
क्यों नहीं बदल सका मैं—————–।।

मुझको नहीं है मालूम, इसका क्या होगा अंजाम।
सवेरा वह कब होगा, होगा कब किस्सा तमाम।।
कौन है वह परदे में, दीदार जिसका है मुझको करना।
क्यों नहीं बदल सका मैं——————।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
353 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आप ही बदल गए
आप ही बदल गए
Pratibha Pandey
तलाश है।
तलाश है।
नेताम आर सी
"" *बसंत बहार* ""
सुनीलानंद महंत
आपकी सोच
आपकी सोच
Dr fauzia Naseem shad
मेरी फितरत
मेरी फितरत
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
* मन कही *
* मन कही *
surenderpal vaidya
गर्म हवाएं चल रही, सूरज उगले आग।।
गर्म हवाएं चल रही, सूरज उगले आग।।
Manoj Mahato
जीवन भी एक विदाई है,
जीवन भी एक विदाई है,
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
हम तुम
हम तुम
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
23/212. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/212. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दूर जाकर क्यों बना लीं दूरियां।
दूर जाकर क्यों बना लीं दूरियां।
सत्य कुमार प्रेमी
"जीवन की परिभाषा"
Dr. Kishan tandon kranti
💐
💐
*प्रणय प्रभात*
पावस की रात
पावस की रात
लक्ष्मी सिंह
आत्मविश्वास से लबरेज व्यक्ति के लिए आकाश की ऊंचाई नापना भी उ
आत्मविश्वास से लबरेज व्यक्ति के लिए आकाश की ऊंचाई नापना भी उ
Paras Nath Jha
अन-मने सूखे झाड़ से दिन.
अन-मने सूखे झाड़ से दिन.
sushil yadav
इंतजार युग बीत रहा
इंतजार युग बीत रहा
Sandeep Pande
दिलों के खेल
दिलों के खेल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दिल के इक कोने में तुम्हारी यादों को महफूज रक्खा है।
दिल के इक कोने में तुम्हारी यादों को महफूज रक्खा है।
शिव प्रताप लोधी
मायापति की माया!
मायापति की माया!
Sanjay ' शून्य'
ये तुम्हें क्या हो गया है.......!!!!
ये तुम्हें क्या हो गया है.......!!!!
shabina. Naaz
जीवन में शॉर्ट कट 2 मिनट मैगी के जैसे होते हैं जो सिर्फ दो म
जीवन में शॉर्ट कट 2 मिनट मैगी के जैसे होते हैं जो सिर्फ दो म
Neelam Sharma
आ ठहर विश्राम कर ले।
आ ठहर विश्राम कर ले।
सरोज यादव
*वो मेरी जान, मुझे बहुत याद आती है(जेल से)*
*वो मेरी जान, मुझे बहुत याद आती है(जेल से)*
Dushyant Kumar
भगवा रंग छाएगा
भगवा रंग छाएगा
Anamika Tiwari 'annpurna '
मैं इन्सान हूँ यही तो बस मेरा गुनाह है
मैं इन्सान हूँ यही तो बस मेरा गुनाह है
VINOD CHAUHAN
परमेश्वर दूत पैगम्बर💐🙏
परमेश्वर दूत पैगम्बर💐🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*जेठ तपो तुम चाहे जितना, दो वृक्षों की छॉंव (गीत)*
*जेठ तपो तुम चाहे जितना, दो वृक्षों की छॉंव (गीत)*
Ravi Prakash
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
गुमनाम 'बाबा'
क्षणिका
क्षणिका
sushil sarna
Loading...