Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jan 2017 · 2 min read

क्यों ऐसा?

क्यों ऐसा ?
विश्वा जल्दी से अपनी कंपनी की बस से उतरती हुई घर के कम्पाउंड में दाखिल हुई ।बाहर ही उसकी सर्वेंट मिली ,
“भाभीजी ,आपके ननंद और नंदोईजी आये हुए है और मांजी बारबार घडी देख रही है,मुझे तो आज जल्दी जाना है ”
” मुझे फोन आया लेकिन मुझे भी आज का काम ख़तम करके देना था ”
घर में दाखिल होते ही सब से मिलकर थोड़ी बातें की और रसोई की तैयारी में लग गई। .ननंद तो उनकी किसी सहेली के साथ शॉपिंग पर निकल गई थी।काफी स्ट्रिक्ट स्वभाववाली विश्वा की सास थोड़े समय मुँह फुलाकर बैठी रही ।कुछ भी हो जाऐ, खाना रेडी करके टेबल पर रख दे, वैसा भी नहीं चलता।रोज़ भी सबको खुद ही परोसना वगैराह नियम बनाकर रखे थे और उसका पति भी ऐसा ही आग्रह रखता था।
खाना तैयार करके टेबल पर रखा इतने में उसकी ननंद भी आ गयी और सब ने मिलकर डिनर लिया ।बैठकर बातें कर रहे थे की विष्वा की सास की किसी सहेली का फोन आया और वो कहने लगी ,
“अरे ,आज तो मेरी बेटी स्वाला आयी हुई है ,हां हां ,बहोत अच्छा ससुराल है उसका और हमारे जमाई आलोक तो इतने मोर्डन स्वभाव के है ,वो तो सब खुद मैनेज कर लेते है ,मेरी बेटी तो संगीत क्लास और अपनी सॉशीयल एक्टिविटी में बिज़ी रहती है ,”
और ये सुनकर उसके ननंद और ससुरजी विश्वा के सामने देखने लगे ।विश्वा के स्मित के साथ छलकते दर्द को वो बखूबी समाज गए थे।
वाह ..ये नाजुक से संवेदनशील रिश्ते और विश्वा की सास की ये दोहरी सोच ।

-मनिषा जोबन देसाई

Language: Hindi
1 Like · 406 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हौसले हो अगर बुलंद तो मुट्ठि में हर मुकाम हैं,
हौसले हो अगर बुलंद तो मुट्ठि में हर मुकाम हैं,
Jay Dewangan
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नेता की रैली
नेता की रैली
Punam Pande
* भोर समय की *
* भोर समय की *
surenderpal vaidya
" मैं तन्हा हूँ "
Aarti sirsat
लोग एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त हुए
लोग एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त हुए
ruby kumari
THE MUDGILS.
THE MUDGILS.
Dhriti Mishra
विभेद दें।
विभेद दें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ना कोई हिन्दू गलत है,
ना कोई हिन्दू गलत है,
SPK Sachin Lodhi
*वो बीता हुआ दौर नजर आता है*(जेल से)
*वो बीता हुआ दौर नजर आता है*(जेल से)
Dushyant Kumar
दोहा त्रयी. . . . शमा -परवाना
दोहा त्रयी. . . . शमा -परवाना
sushil sarna
कविता
कविता
Shyam Pandey
अज्ञानी की कलम
अज्ञानी की कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*अपना भारत*
*अपना भारत*
मनोज कर्ण
किताब-ए-जीस्त के पन्ने
किताब-ए-जीस्त के पन्ने
Neelam Sharma
जब घर से दूर गया था,
जब घर से दूर गया था,
भवेश
भ्रम अच्छा है
भ्रम अच्छा है
Vandna Thakur
*राम स्वयं राष्ट्र हैं*
*राम स्वयं राष्ट्र हैं*
Sanjay ' शून्य'
■ चाल, चेहरा और चरित्र। लगभग एक सा।।
■ चाल, चेहरा और चरित्र। लगभग एक सा।।
*Author प्रणय प्रभात*
*बहुत सौभाग्यशाली कोई, पुस्तक खोल पढ़ता है (मुक्तक)*
*बहुत सौभाग्यशाली कोई, पुस्तक खोल पढ़ता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
3021.*पूर्णिका*
3021.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सीने पर थीं पुस्तकें, नैना रंग हजार।
सीने पर थीं पुस्तकें, नैना रंग हजार।
Suryakant Dwivedi
राहुल की अंतरात्मा
राहुल की अंतरात्मा
Ghanshyam Poddar
अकेला हूँ ?
अकेला हूँ ?
Surya Barman
सितारों की तरह चमकना है, तो सितारों की तरह जलना होगा।
सितारों की तरह चमकना है, तो सितारों की तरह जलना होगा।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
अगर आप रिश्ते
अगर आप रिश्ते
Dr fauzia Naseem shad
Kudrat taufe laya hai rang birangi phulo ki
Kudrat taufe laya hai rang birangi phulo ki
Sakshi Tripathi
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
करवा चौथ
करवा चौथ
नवीन जोशी 'नवल'
"बेज़ारे-तग़ाफ़ुल"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...