Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2024 · 1 min read

क्यू ना वो खुदकी सुने?

क्यू ना वो खुदकी सुने?
सुबह से शाम तक ,
घर का सारा काम सुलझाकर,
क्यू ना वो अपने रास्ते चले?
बच्चों के सारे काम निपटाकर,
सब काम होने के बाद भी मुस्कुराकर,
वो क्यू जिए अपने आसू छुपाकर ?
खुद भले ही ना सजे फिर भी चलना है उसको घर सजाकर,
वक्त चाहिए ये मांग कुछ ज्यादा होगाई ऐसा समझकर,
वो तूट रही थी दिन हर दिल को फुसलाकर,
जिंदगी में बहुत कुछ करने की ठान ली थी अपने आप को बनाकर,
बस सारे सपने रह गए, घर को और घरवालो को संभालकर,
खुदके सपनो को चूर देखा,सबके पास एक मदत की नजर से देखकर,
ना प्यार मिला ना उम्मीद जगी, सबको रोज सुबह जगाकर।
पता नही अपने आप को क्या जवाब देगी आइना सामने देखकर,
क्यू सारे शौक छूटे, क्यू अपने मां बाबा से किसके अनुमति से मिले?
दिल में दर्द , आंखो में अपने आप की चमक को दबाकर,
वो बस उमर गुजार रही है, कभी न कभी कुछ अच्छा होगा समझकर,
जिंदगी का सफर में अपने आपको बहुत सा अकेली पाकर,
एक गृहिणी चल रही है मुस्कुराकर।

Language: Hindi
44 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kanchan Alok Malu
View all
You may also like:
मेरी दोस्ती के लायक कोई यार नही
मेरी दोस्ती के लायक कोई यार नही
Rituraj shivem verma
ढल गया सूरज बिना प्रस्तावना।
ढल गया सूरज बिना प्रस्तावना।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
विनती
विनती
कविता झा ‘गीत’
*संवेदनाओं का अन्तर्घट*
*संवेदनाओं का अन्तर्घट*
Manishi Sinha
बहू बनी बेटी
बहू बनी बेटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
😊आज का दोहा😊
😊आज का दोहा😊
*Author प्रणय प्रभात*
मेरी लाज है तेरे हाथ
मेरी लाज है तेरे हाथ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जानते हो मेरे जीवन की किताब का जैसे प्रथम प्रहर चल रहा हो और
जानते हो मेरे जीवन की किताब का जैसे प्रथम प्रहर चल रहा हो और
Swara Kumari arya
पंचांग के मुताबिक हर महीने में कृष्ण और शुक्ल पक्ष की त्रयोद
पंचांग के मुताबिक हर महीने में कृष्ण और शुक्ल पक्ष की त्रयोद
Shashi kala vyas
अतीत
अतीत
Shyam Sundar Subramanian
बारिश
बारिश
विजय कुमार अग्रवाल
जज़्बा है, रौशनी है
जज़्बा है, रौशनी है
Dhriti Mishra
वो तेरा है ना तेरा था (सत्य की खोज)
वो तेरा है ना तेरा था (सत्य की खोज)
VINOD CHAUHAN
2506.पूर्णिका
2506.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"वेदना"
Dr. Kishan tandon kranti
ईश्वर अल्लाह गाड गुरु, अपने अपने राम
ईश्वर अल्लाह गाड गुरु, अपने अपने राम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गुरु बिन गति मिलती नहीं
गुरु बिन गति मिलती नहीं
अभिनव अदम्य
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
Ram Krishan Rastogi
आगमन राम का सुनकर फिर से असुरों ने उत्पात किया।
आगमन राम का सुनकर फिर से असुरों ने उत्पात किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
* सत्य,
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
We all have our own unique paths,
We all have our own unique paths,
पूर्वार्थ
सत्य की खोज
सत्य की खोज
लक्ष्मी सिंह
तेरा मेरा.....एक मोह
तेरा मेरा.....एक मोह
Neeraj Agarwal
दिल तसल्ली को
दिल तसल्ली को
Dr fauzia Naseem shad
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
वाह रे मेरे समाज
वाह रे मेरे समाज
Dr Manju Saini
शिक्षित लोग
शिक्षित लोग
Raju Gajbhiye
अहसास
अहसास
Dr Parveen Thakur
*आ गये हम दर तुम्हारे दिल चुराने के लिए*
*आ गये हम दर तुम्हारे दिल चुराने के लिए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
आँखों के आंसू झूठे है, निश्छल हृदय से नहीं झरते है।
आँखों के आंसू झूठे है, निश्छल हृदय से नहीं झरते है।
Buddha Prakash
Loading...