Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jun 2016 · 1 min read

*क्यूं*

कर रहा क्यूँ आदमी अभिमान है
जब ठिकाना आखिरी शमशान है
चार दिन की चाँदनी है सब यहाँ
बन पड़ा फ़िर आज क्यूँ शैतान है
आजकल इंसान ही क्यूँ गुम हुआ
सो गया सा अब लगे भगवान है
फूल सा मन दे रहा है ये सदा
पा रहेंगे मंजिलों को भान है
धन की चाह है बसी हर एक मन
हो चला क्यूँ सच से भी अन्जान है
आग में ये नफ़रतों की जल रहा
प्रीत का तो सिर्फ इक अरमान है
*धर्मेंद्र अरोड़ा*

317 Views
You may also like:
धार छंद
Pakhi Jain
शुभ धनतेरस
Dr Archana Gupta
कहाँ चले गए
Taran Singh Verma
उड़ी पतंग
Buddha Prakash
मरने की इजाज़त
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रुद्रा
Utkarsh Dubey “Kokil”
चुप रहने में।
Taj Mohammad
प्रश्न
विजय कुमार 'विजय'
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
गज़ल
Krishna Tripathi
गुम होता अस्तित्व भाभी, दामाद, जीजा जी, पुत्र वधू का
Dr Meenu Poonia
चाहत की बाते
Dr. Sunita Singh
*जगत में इस तरह छोटा-सा कोना स्वर्ग कहलाया (हिंदी गजल/...
Ravi Prakash
Writing Challenge- जल (Water)
Sahityapedia
प्यार क्या बला की चीज है!
Anamika Singh
प्यार करते हो मुझे तुम तो यही उपहार देना
Shivkumar Bilagrami
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
क्युं नहीं
Seema 'Tu hai na'
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण 'श्रीपद्'
वो चाहता है उसे मैं भी लाजवाब कहूँ
Anis Shah
सागर बोला, सुन ज़रा
सूर्यकांत द्विवेदी
ज्योतिरादित्य सिन्धिया
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तो क्या हुआ
Faza Saaz
"एक नज़्म लिख रहा हूँ"
Lohit Tamta
पाकीज़ा इश्क़
VINOD KUMAR CHAUHAN
शेर
Shriyansh Gupta
मिट्टी के दीप जलाना
Yash Tanha Shayar Hu
कठपुतली न बनना हमें
AMRESH KUMAR VERMA
विश्व मजदूर दिवस पर दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दानवीर सुर्यपुत्र कर्ण
Ravi Yadav
Loading...