Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

*क्यूं*

कर रहा क्यूँ आदमी अभिमान है
जब ठिकाना आखिरी शमशान है
चार दिन की चाँदनी है सब यहाँ
बन पड़ा फ़िर आज क्यूँ शैतान है
आजकल इंसान ही क्यूँ गुम हुआ
सो गया सा अब लगे भगवान है
फूल सा मन दे रहा है ये सदा
पा रहेंगे मंजिलों को भान है
धन की चाह है बसी हर एक मन
हो चला क्यूँ सच से भी अन्जान है
आग में ये नफ़रतों की जल रहा
प्रीत का तो सिर्फ इक अरमान है
*धर्मेंद्र अरोड़ा*

145 Views
You may also like:
बस इतनी सी ख्वाईश
"अशांत" शेखर
बुढ़ापे में जीने के गुरु मंत्र
Ram Krishan Rastogi
“ कोरोना ”
DESH RAJ
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
आकाश महेशपुरी
राब्ता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बेटी का पत्र माँ के नाम (भाग २)
Anamika Singh
गृहणी का बुद्धत्व
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
【19】 मधुमक्खी
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
देशभक्ति के पर्याय वीर सावरकर
Ravi Prakash
✍️मेरी तलाश...✍️
"अशांत" शेखर
*"पिता"*
Shashi kala vyas
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
बदरा कोहनाइल हवे
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून 2022
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सुन्दर घर
Buddha Prakash
सबको हार्दिक शुभकामनाएं !
Prabhudayal Raniwal
“ गलत प्रयोग से “ अग्निपथ “ नहीं बनता बल्कि...
DrLakshman Jha Parimal
तन-मन की गिरह
Saraswati Bajpai
मंजूषा बरवै छंदों की
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
$प्रीतम के दोहे
आर.एस. 'प्रीतम'
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग २]
Anamika Singh
बुलबुला
मनोज शर्मा
छद्म राष्ट्रवाद की पहचान
Mahender Singh Hans
गीत - याद तुम्हारी
Mahendra Narayan
बचपन की यादें।
Anamika Singh
गुरु तुम क्या हो यार !
jaswant Lakhara
ग़ज़ल
Anis Shah
माँ तुम सबसे खूबसूरत हो
Anamika Singh
इलाहाबाद आयें हैं , इलाहाबाद आये हैं.....अज़ल
लवकुश यादव "अज़ल"
जल की अहमियत
Utsav Kumar Aarya
Loading...