Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jul 2016 · 1 min read

क्यूँ गलत को कहा सही अब तो

क्यूँ गलत को कहा सही अब तो
जां का दुश्मन बना यही अब तो

ज़िन्दगी एक साँस पर है टीकी
जी का जंजाल ये बनी अब तो

खेल आँखों से खेलने वालों
कब मिटेगी ये तश्नगी अब तो

एक ऐसा भी दौर देखा है
जब मुहब्बत थी बन्दगी अब तो

फिर से’ अब लौट कर हूँ आया मैं
देखने को न ज़िन्दगी अब तो

हर तरफ खौफ़ के ही बादल है
आदमी आदमी नहीं अब तो

दिल में जज़्बात ले के बैठा हूँ
धड़कने दिल में न बची अब तो

कौन समझा बयाने जज़्बाती
हर तरफ बस है दिल्लगी अब तो
जज़्बाती

1 Like · 4 Comments · 380 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बारिश
बारिश
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
हवन
हवन
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"औरत ही रहने दो"
Dr. Kishan tandon kranti
** दूर कैसे रहेंगे **
** दूर कैसे रहेंगे **
Chunnu Lal Gupta
किसी भी काम में आपको मुश्किल तब लगती है जब आप किसी समस्या का
किसी भी काम में आपको मुश्किल तब लगती है जब आप किसी समस्या का
Rj Anand Prajapati
फिर वसंत आया फिर वसंत आया
फिर वसंत आया फिर वसंत आया
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
उदघोष
उदघोष
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नज़रें बयां करती हैं, लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
नज़रें बयां करती हैं, लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
Keshav kishor Kumar
घड़ियाली आँसू
घड़ियाली आँसू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
संत रविदास!
संत रविदास!
Bodhisatva kastooriya
आ भी जाओ
आ भी जाओ
Surinder blackpen
भगवा रंग में रंगें सभी,
भगवा रंग में रंगें सभी,
Neelam Sharma
फ़र्क़ नहीं है मूर्ख हो,
फ़र्क़ नहीं है मूर्ख हो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हम यहाँ  इतने दूर हैं  मिलन कभी होता नहीं !
हम यहाँ इतने दूर हैं मिलन कभी होता नहीं !
DrLakshman Jha Parimal
2991.*पूर्णिका*
2991.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कोहली किंग
कोहली किंग
पूर्वार्थ
आज़ाद फ़िज़ाओं में उड़ जाऊंगी एक दिन
आज़ाद फ़िज़ाओं में उड़ जाऊंगी एक दिन
Dr fauzia Naseem shad
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सूने सूने से लगते हैं
सूने सूने से लगते हैं
Er. Sanjay Shrivastava
प्यासा के राम
प्यासा के राम
Vijay kumar Pandey
कैमरे से चेहरे का छवि (image) बनाने मे,
कैमरे से चेहरे का छवि (image) बनाने मे,
Lakhan Yadav
अनंत की ओर _ 1 of 25
अनंत की ओर _ 1 of 25
Kshma Urmila
ठोकर भी बहुत जरूरी है
ठोकर भी बहुत जरूरी है
Anil Mishra Prahari
*सरिता निकलती है 【मुक्तक】*
*सरिता निकलती है 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
मैं भी डरती हूॅं
मैं भी डरती हूॅं
Mamta Singh Devaa
मोहब्बत पलों में साँसें लेती है, और सजाएं सदियों को मिल जाती है, दिल के सुकूं की क़ीमत, आँखें आंसुओं की किस्तों से चुकाती है
मोहब्बत पलों में साँसें लेती है, और सजाएं सदियों को मिल जाती है, दिल के सुकूं की क़ीमत, आँखें आंसुओं की किस्तों से चुकाती है
Manisha Manjari
कितनी हीं बार
कितनी हीं बार
Shweta Soni
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
कसम है तुम्हें भगतसिंह की
कसम है तुम्हें भगतसिंह की
Shekhar Chandra Mitra
राहत का गुरु योग / MUSAFIR BAITHA
राहत का गुरु योग / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Loading...