Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jul 2016 · 1 min read

क्यूँ गलत को कहा सही अब तो

क्यूँ गलत को कहा सही अब तो
जां का दुश्मन बना यही अब तो

ज़िन्दगी एक साँस पर है टीकी
जी का जंजाल ये बनी अब तो

खेल आँखों से खेलने वालों
कब मिटेगी ये तश्नगी अब तो

एक ऐसा भी दौर देखा है
जब मुहब्बत थी बन्दगी अब तो

फिर से’ अब लौट कर हूँ आया मैं
देखने को न ज़िन्दगी अब तो

हर तरफ खौफ़ के ही बादल है
आदमी आदमी नहीं अब तो

दिल में जज़्बात ले के बैठा हूँ
धड़कने दिल में न बची अब तो

कौन समझा बयाने जज़्बाती
हर तरफ बस है दिल्लगी अब तो
जज़्बाती

4 Comments · 254 Views
You may also like:
'धरती माँ'
Godambari Negi
मोहब्बत ही आजकल कम हैं
Dr.sima
शुरू खत्म
Pradyumna
भारतीय संस्कृति के सेतु आदि शंकराचार्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तीन शर्त"""'
Prabhavari Jha
मुख़ौटा_ओढ़कर
N.ksahu0007@writer
💐दुधई💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पानी यौवन मूल
Jatashankar Prajapati
माता अहिल्याबाई होल्कर जयंती
Dalveer Singh
✍️गूगल है...
'अशांत' शेखर
गौरव है मेरा, बेटी मेरी
gurudeenverma198
भगवान रफ़ी पर दस दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Father is the real Hero.
Taj Mohammad
जीने की कला
Shyam Sundar Subramanian
जम्हूरियत
बिमल
यह तो हालात है
Dr fauzia Naseem shad
इंतजार से बेहतर है कोशिश करना
कवि दीपक बवेजा
बुद्ध कहते हैं
Shekhar Chandra Mitra
" सामोद वीर हनुमान जी "
Dr Meenu Poonia
हठीले हो बड़े निष्ठुर
लक्ष्मी सिंह
सपने 【 कुंडलिया】
Ravi Prakash
काँच के रिश्ते ( दोहा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
भीगे-भीगे मौसम में.....!!
Kanchan Khanna
जादुई कलम
Arvina
दिल बहलाएँ हम
Dr. Sunita Singh
बहुत कुछ कहना है
Ankita
माँ वाणी की वंदना
Prakash Chandra
ये दिल धड़कता नही अब तुम्हारे बिना
Ram Krishan Rastogi
ग़म की ऐसी रवानी....
अश्क चिरैयाकोटी
मैं निर्भया हूं
विशाल शुक्ल
Loading...