Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

क्यूँ गलत को कहा सही अब तो

क्यूँ गलत को कहा सही अब तो
जां का दुश्मन बना यही अब तो

ज़िन्दगी एक साँस पर है टीकी
जी का जंजाल ये बनी अब तो

खेल आँखों से खेलने वालों
कब मिटेगी ये तश्नगी अब तो

एक ऐसा भी दौर देखा है
जब मुहब्बत थी बन्दगी अब तो

फिर से’ अब लौट कर हूँ आया मैं
देखने को न ज़िन्दगी अब तो

हर तरफ खौफ़ के ही बादल है
आदमी आदमी नहीं अब तो

दिल में जज़्बात ले के बैठा हूँ
धड़कने दिल में न बची अब तो

कौन समझा बयाने जज़्बाती
हर तरफ बस है दिल्लगी अब तो
जज़्बाती

4 Comments · 205 Views
You may also like:
शहीद भारत यदुवंशी को मेरा नमन
Surabhi bharati
अजी मोहब्बत है।
Taj Mohammad
गुरुवर
AMRESH KUMAR VERMA
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
"पिता"
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
मुस्कुराना सीख लो
Dr.sima
वह खूब रोए।
Taj Mohammad
हृदय का सरोवर
सुनील कुमार
दरों दीवार पर।
Taj Mohammad
आ जाओ राम।
Anamika Singh
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
तुम हो
Alok Saxena
पापा ने मां बनकर।
Taj Mohammad
सट्टेबाज़ों से
Suraj Kushwaha
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
डॉ. शिव लहरी
मनुआँ काला, भैंस-सा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ऐ जिंदगी।
Taj Mohammad
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
जिन्दगी का सफर
Anamika Singh
ऐ वक्त ठहर जा जरा सा
Sandeep Albela
उम्मीद पर है जिन्दगी
Anamika Singh
✍️✍️धूल✍️✍️
"अशांत" शेखर
और कितना धैर्य धरू
Anamika Singh
जीने की वजह तो दे
Saraswati Bajpai
अशांत मन
Mahender Singh Hans
✍️कबीरा बोल...✍️
"अशांत" शेखर
غزل
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
Loading...