Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jun 2023 · 1 min read

क्यूँ इतना झूठ बोलते हैं लोग

क्यूँ इतना झूठ बोलते हैं लोग
फिर भी सच को छुपा नहीं सकते
सच तो सच है
वो सामने आता है
आकर ही रहता है…….shabinaZ

635 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from shabina. Naaz
View all
You may also like:
*हमारे देवता जितने हैं, सारे शस्त्रधारी हैं (हिंदी गजल)*
*हमारे देवता जितने हैं, सारे शस्त्रधारी हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
किसी के दिल में चाह तो ,
किसी के दिल में चाह तो ,
Manju sagar
किसान आंदोलन
किसान आंदोलन
मनोज कर्ण
कवितायें सब कुछ कहती हैं
कवितायें सब कुछ कहती हैं
Satish Srijan
ओझल मनुआ मोय
ओझल मनुआ मोय
श्रीहर्ष आचार्य
फेसबुक
फेसबुक
Neelam Sharma
■ अक्लमंदों के लिए।
■ अक्लमंदों के लिए।
*Author प्रणय प्रभात*
बैठे-बैठे यूहीं ख्याल आ गया,
बैठे-बैठे यूहीं ख्याल आ गया,
Sonam Pundir
उठे ली सात बजे अईठे ली ढेर
उठे ली सात बजे अईठे ली ढेर
नूरफातिमा खातून नूरी
जिंदगी का सफर है सुहाना, हर पल को जीते रहना। चाहे रिश्ते हो
जिंदगी का सफर है सुहाना, हर पल को जीते रहना। चाहे रिश्ते हो
पूर्वार्थ
नन्हा मछुआरा
नन्हा मछुआरा
Shivkumar barman
आज तुझे देख के मेरा बहम टूट गया
आज तुझे देख के मेरा बहम टूट गया
Kumar lalit
संदेशा
संदेशा
manisha
23/34.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/34.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीवन का रंगमंच
जीवन का रंगमंच
Harish Chandra Pande
काजल
काजल
SHAMA PARVEEN
समझा दिया है वक़्त ने
समझा दिया है वक़्त ने
Dr fauzia Naseem shad
हमने दीवारों को शीशे में हिलते देखा है
हमने दीवारों को शीशे में हिलते देखा है
कवि दीपक बवेजा
माघी पूर्णिमा
माघी पूर्णिमा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वो मुझे प्यार नही करता
वो मुझे प्यार नही करता
Swami Ganganiya
हो गई है भोर
हो गई है भोर
surenderpal vaidya
"आवारा-मिजाजी"
Dr. Kishan tandon kranti
कितना मुश्किल है केवल जीना ही ..
कितना मुश्किल है केवल जीना ही ..
Vivek Mishra
हिंदी है पहचान
हिंदी है पहचान
Seema gupta,Alwar
“मत लड़, ऐ मुसाफिर”
“मत लड़, ऐ मुसाफिर”
पंकज कुमार कर्ण
तुम ने हम को जितने  भी  गम दिये।
तुम ने हम को जितने भी गम दिये।
Surinder blackpen
शब्दों की रखवाली है
शब्दों की रखवाली है
Suryakant Dwivedi
प्रकृति
प्रकृति
नवीन जोशी 'नवल'
International Camel Year
International Camel Year
Tushar Jagawat
वैज्ञानिक चेतना की तलाश
वैज्ञानिक चेतना की तलाश
Shekhar Chandra Mitra
Loading...