Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Sep 2022 · 1 min read

क्या होता है पिता

क्या होता है पिता, यह अहसास होता है तब।
बनता है जब कोई पिता, अनाथ कोई होता है जब ।।
क्या होता है पिता——————।।

रहकर मुफलिसी में पिता, बच्चों को भूखे नहीं रखता।
छुपा लेता है अपने दर्द और आँसू, खुश बच्चों को वह रखता।।
भूलाकर बच्चों की गलती ,पिता ही देता है प्यार।
बच्चों के सुख के लिए , पिता झुका भी देता है नभ ।।
क्या होता है पिता ————————।।

देख नहीं सकता पिता, बहते आँसू बच्चों के ।
पिता ही करता है साकार, सपने अपने बच्चों के।।
तड़प उठता है पिता , देखकर बच्चों पे मुसीबत।
ऐसे में हिम्मत बच्चों को , पिता ही देता है तब।।
क्या होता है पिता——————–।।

चमन बच्चों को मानकर , रखता है खिलते हुए।।
सितारें जीवन के मानकर, रखता है चमकते हुए।
इतराता है सबसे ज्यादा, पिता ही अपने बच्चों पर।
पिता ही है संकटमोचक, पिता ही है बच्चों का रब ।।
क्या होता है पिता———————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)
मोबाईल नम्बर- 9571070847

Language: Hindi
Tag: गीत
253 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वक्त का इंतजार करो मेरे भाई
वक्त का इंतजार करो मेरे भाई
Yash mehra
"कैसा सवाल है नारी?"
Dr. Kishan tandon kranti
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
किछ पन्नाके छै ई जिनगीहमरा हाथमे कलम नइँमेटाैना थमाएल गेल अछ
किछ पन्नाके छै ई जिनगीहमरा हाथमे कलम नइँमेटाैना थमाएल गेल अछ
गजेन्द्र गजुर ( Gajendra Gajur )
ख़यालों के परिंदे
ख़यालों के परिंदे
Anis Shah
देश प्रेम
देश प्रेम
Dr Parveen Thakur
अनवरत ये बेचैनी
अनवरत ये बेचैनी
Shweta Soni
हाय वो बचपन कहाँ खो गया
हाय वो बचपन कहाँ खो गया
VINOD CHAUHAN
Khud ke khalish ko bharne ka
Khud ke khalish ko bharne ka
Sakshi Tripathi
मुझको कभी भी आज़मा कर देख लेना
मुझको कभी भी आज़मा कर देख लेना
Ram Krishan Rastogi
पास बुलाता सन्नाटा
पास बुलाता सन्नाटा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
देव दीपावली
देव दीपावली
Vedha Singh
इंद्रवती
इंद्रवती
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
*परिचय*
*परिचय*
Pratibha Pandey
हिंदी सबसे प्यारा है
हिंदी सबसे प्यारा है
शेख रहमत अली "बस्तवी"
भरोसा टूटने की कोई आवाज नहीं होती मगर
भरोसा टूटने की कोई आवाज नहीं होती मगर
Radhakishan R. Mundhra
दूसरों को देते हैं ज्ञान
दूसरों को देते हैं ज्ञान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जीवन की अभिव्यक्ति
जीवन की अभिव्यक्ति
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का रचना संसार।
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का रचना संसार।
Dr. Narendra Valmiki
अमूक दोस्त ।
अमूक दोस्त ।
SATPAL CHAUHAN
#सामयिक_सलाह
#सामयिक_सलाह
*Author प्रणय प्रभात*
गिलहरी
गिलहरी
Satish Srijan
दूध बन जाता है पानी
दूध बन जाता है पानी
कवि दीपक बवेजा
********* हो गया चाँद बासी ********
********* हो गया चाँद बासी ********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बुंदेली लघुकथा - कछु तुम समजे, कछु हम
बुंदेली लघुकथा - कछु तुम समजे, कछु हम
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
नज़र चुरा कर
नज़र चुरा कर
Surinder blackpen
कुछ याद बन
कुछ याद बन
Dr fauzia Naseem shad
*सेब (बाल कविता)*
*सेब (बाल कविता)*
Ravi Prakash
दोगलापन
दोगलापन
Mamta Singh Devaa
Loading...