Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2017 · 1 min read

क्या है , तेरा अपना यहाँ

अनजाने में भी
न सोचना कि कभी
तेरा कुछ है यहाँ पर,
न तेरी यह मुस्कराहट
न तेरा यह बदन
न तेरा यह महल है,
इन पर हक़ किसी और का

तूं तो कुम्हार का
वो बर्तन है,
जैसे ढालेगा
वो तूं ढल जायेगा
तेरी सांस , आये
न आये, कोई न रोक पायेगा
पानी सा बुलबुला है
जरा सी ठेस में
फूट जायेगा

आदमी, क्या है
कठपुतली
बस एक कठपुतली
सोचता है कुछ
पर वो सोचता है कुछ
तूं उड़ने की सोचता
वो रोकने की सोचता
तूं, सच कुछ नहीं
नहीं है हक़
तेरा खुदा पर
इस बात पर न गुमान
कर, फिर सोच
सब यही का है,
तेरा तन भी यहीं रह
जायेगा, और
उड़ जाएगी
“””आत्मा””
बता तेरा क्या साथ
जायेगा.!!!

कवि अजीत अजीत तलवार
मेरठ

Language: Hindi
263 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
मेरा न कृष्ण है न मेरा कोई राम है
मेरा न कृष्ण है न मेरा कोई राम है
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
बस्ती जलते हाथ में खंजर देखा है,
बस्ती जलते हाथ में खंजर देखा है,
ज़ैद बलियावी
मम्मास बेबी
मम्मास बेबी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
फिर से आयेंगे
फिर से आयेंगे
प्रेमदास वसु सुरेखा
*जीवन्त*
*जीवन्त*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कुत्तज़िन्दगी / Musafir baithA
कुत्तज़िन्दगी / Musafir baithA
Dr MusafiR BaithA
समय आया है पितृपक्ष का, पुण्य स्मरण कर लें।
समय आया है पितृपक्ष का, पुण्य स्मरण कर लें।
surenderpal vaidya
झुक कर दोगे मान तो,
झुक कर दोगे मान तो,
sushil sarna
महक कहां बचती है
महक कहां बचती है
Surinder blackpen
Maine anshan jari rakha
Maine anshan jari rakha
Sakshi Tripathi
जलन इंसान को ऐसे खा जाती है
जलन इंसान को ऐसे खा जाती है
shabina. Naaz
नये वर्ष का आगम-निर्गम
नये वर्ष का आगम-निर्गम
Ramswaroop Dinkar
अजीब सी चुभन है दिल में
अजीब सी चुभन है दिल में
हिमांशु Kulshrestha
गाती हैं सब इंद्रियॉं, आता जब मधुमास(कुंडलिया)
गाती हैं सब इंद्रियॉं, आता जब मधुमास(कुंडलिया)
Ravi Prakash
मेरे जिंदगी के मालिक
मेरे जिंदगी के मालिक
Basant Bhagawan Roy
बाल वीर दिवस
बाल वीर दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
एक अलग ही दुनिया
एक अलग ही दुनिया
Sangeeta Beniwal
कब तक जीने के लिए कसमे खायें
कब तक जीने के लिए कसमे खायें
पूर्वार्थ
■ मन गई राखी, लग गया चूना...😢
■ मन गई राखी, लग गया चूना...😢
*Author प्रणय प्रभात*
यह सब कुछ
यह सब कुछ
gurudeenverma198
साहिल समंदर के तट पर खड़ी हूँ,
साहिल समंदर के तट पर खड़ी हूँ,
Sahil Ahmad
महाभारत एक अलग पहलू
महाभारत एक अलग पहलू
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
बाबू
बाबू
Ajay Mishra
💐प्रेम कौतुक-405💐
💐प्रेम कौतुक-405💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अमर स्वाधीनता सैनानी डॉ. राजेन्द्र प्रसाद
अमर स्वाधीनता सैनानी डॉ. राजेन्द्र प्रसाद
कवि रमेशराज
खुद को मैंने कम उसे ज्यादा लिखा। जीस्त का हिस्सा उसे आधा लिखा। इश्क में उसके कृष्णा बन गया। प्यार में अपने उसे राधा लिखा
खुद को मैंने कम उसे ज्यादा लिखा। जीस्त का हिस्सा उसे आधा लिखा। इश्क में उसके कृष्णा बन गया। प्यार में अपने उसे राधा लिखा
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हवायें तितलियों के पर काट लेती हैं
हवायें तितलियों के पर काट लेती हैं
कवि दीपक बवेजा
जिन सपनों को पाने के लिए किसी के साथ छल करना पड़े वैसे सपने
जिन सपनों को पाने के लिए किसी के साथ छल करना पड़े वैसे सपने
Paras Nath Jha
यादों के अथाह में विष है , तो अमृत भी है छुपी हुई
यादों के अथाह में विष है , तो अमृत भी है छुपी हुई
Atul "Krishn"
देवों की भूमि उत्तराखण्ड
देवों की भूमि उत्तराखण्ड
Ritu Asooja
Loading...