Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2024 · 1 min read

क्या हुआ की हम हार गए ।

क्या हुआ की हम हार गए ।
इससे पहले जीते ही कब थे।

14 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Lately, what weighs more to me is being understood. To be se
Lately, what weighs more to me is being understood. To be se
पूर्वार्थ
अर्धांगिनी सु-धर्मपत्नी ।
अर्धांगिनी सु-धर्मपत्नी ।
Neelam Sharma
मोबाइल
मोबाइल
Punam Pande
एक शकुन
एक शकुन
Swami Ganganiya
आँखों की कुछ तो नमी से डरते हैं
आँखों की कुछ तो नमी से डरते हैं
अंसार एटवी
उदास देख कर मुझको उदास रहने लगे।
उदास देख कर मुझको उदास रहने लगे।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जियो जी भर
जियो जी भर
Ashwani Kumar Jaiswal
गाडगे पुण्यतिथि
गाडगे पुण्यतिथि
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
अब मै ख़ुद से खफा रहने लगा हूँ
अब मै ख़ुद से खफा रहने लगा हूँ
Bhupendra Rawat
छुपा रखा है।
छुपा रखा है।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
बेशक हम गरीब हैं लेकिन दिल बड़ा अमीर है कभी आना हमारे छोटा स
बेशक हम गरीब हैं लेकिन दिल बड़ा अमीर है कभी आना हमारे छोटा स
Ranjeet kumar patre
अपवाद
अपवाद
Dr. Kishan tandon kranti
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बेवफा
बेवफा
Neeraj Agarwal
2663.*पूर्णिका*
2663.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
Shakil Alam
त्याग
त्याग
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
प्रस्फुटन
प्रस्फुटन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैं उसकी देखभाल एक जुनूं से करती हूँ..
मैं उसकी देखभाल एक जुनूं से करती हूँ..
Shweta Soni
Crush
Crush
Vedha Singh
उदास हो गयी धूप ......
उदास हो गयी धूप ......
sushil sarna
तीन बुंदेली दोहा- #किवरिया / #किवरियाँ
तीन बुंदेली दोहा- #किवरिया / #किवरियाँ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पल भर फासला है
पल भर फासला है
Ansh
■ आज मेरे ज़मीं पर नहीं हैं क़दम।।😊😊
■ आज मेरे ज़मीं पर नहीं हैं क़दम।।😊😊
*प्रणय प्रभात*
सादगी
सादगी
राजेंद्र तिवारी
*अर्चन स्वीकार करो हे शिव, बारिश का जल मैं लाया हूॅं (राधेश्
*अर्चन स्वीकार करो हे शिव, बारिश का जल मैं लाया हूॅं (राधेश्
Ravi Prakash
आया तेरे दर पर बेटा माँ
आया तेरे दर पर बेटा माँ
Basant Bhagawan Roy
चाय की चुस्की संग
चाय की चुस्की संग
Surinder blackpen
सब को जीनी पड़ेगी ये जिन्दगी
सब को जीनी पड़ेगी ये जिन्दगी
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
दिल में मदद
दिल में मदद
Dr fauzia Naseem shad
Loading...