Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jun 2023 · 1 min read

“श्रृंगारिका”

एक सुहागन के संग रहते हो,
प्रिय तुम श्रृंगार बनके।

माथे की बिन्दी कहती है ,
माथे को अनमोल किया।

दूर होके भी देते हो,
विन्दी में आभास पिया।

नयनों का कजरा कहता है ,
नैनों को अनमोल किया ।

दूर होके भी नयनों से ,
देते हो आभास पिया।

बालों का गजरा कहता है ,
केशों को अनमोल किया।

जब भी महके गजरा होता है
आभास पिया।

हाथों की चूड़ियाँ कहती है
हाथोँ को अनमोल किया ।

जब जब खनके चूड़ियाँ ,
होता है आभास पिया।

पैरोँ की पायल कहती है ,
पैरोँ को अनमोल किया।

जब जब छनके पायल,
होता है आभास पिया ।

मांग का सिन्दूर कहता है,
जीवन को अनमोल किया।

जब भरती हूँ मांग पिया,
तेरे होने का प्रमाण पिया।

लाल रंग का जोड़ा कहता,
रंग गई तेरे रंगों में,

मैं हूँ तेरी श्रंगार पिया,
मैं हूँ तेरी श्रंगार पिया ।।

लेखिका:- एकता श्रीवास्तव।
प्रयागराज✍️

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 349 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ekta chitrangini
View all
You may also like:
जीवन के रास्ते हैं अनगिनत, मौका है जीने का हर पल को जीने का।
जीवन के रास्ते हैं अनगिनत, मौका है जीने का हर पल को जीने का।
पूर्वार्थ
जिस प्रकार सूर्य पृथ्वी से इतना दूर होने के बावजूद भी उसे अप
जिस प्रकार सूर्य पृथ्वी से इतना दूर होने के बावजूद भी उसे अप
Sukoon
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दुम
दुम
Rajesh
ख़्वाब की होती ये
ख़्वाब की होती ये
Dr fauzia Naseem shad
नरेंद्र
नरेंद्र
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्रेम
प्रेम
Shyam Sundar Subramanian
Let yourself loose,
Let yourself loose,
Dhriti Mishra
सत्य साधना
सत्य साधना
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
राजनीति
राजनीति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नारी सौन्दर्य ने
नारी सौन्दर्य ने
Dr. Kishan tandon kranti
उनको मेरा नमन है जो सरहद पर खड़े हैं।
उनको मेरा नमन है जो सरहद पर खड़े हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
हे कान्हा
हे कान्हा
Mukesh Kumar Sonkar
इंकलाब की मशाल
इंकलाब की मशाल
Shekhar Chandra Mitra
मुबहम हो राह
मुबहम हो राह
Satish Srijan
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पसोपेश,,,उमेश के हाइकु
पसोपेश,,,उमेश के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अरमान
अरमान
Neeraj Agarwal
गुस्सा
गुस्सा
Sûrëkhâ Rãthí
किन्तु क्या संयोग ऐसा; आज तक मन मिल न पाया?
किन्तु क्या संयोग ऐसा; आज तक मन मिल न पाया?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ये रंगो सा घुल मिल जाना,वो खुशियों भरा इजहार कर जाना ,फिजाओं
ये रंगो सा घुल मिल जाना,वो खुशियों भरा इजहार कर जाना ,फिजाओं
Shashi kala vyas
हर एक सब का हिसाब कोंन रक्खे...
हर एक सब का हिसाब कोंन रक्खे...
कवि दीपक बवेजा
हे देवाधिदेव गजानन
हे देवाधिदेव गजानन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"मेरा गलत फैसला"
Dr Meenu Poonia
abhinandan
abhinandan
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
मन का मैल नहीं धुले
मन का मैल नहीं धुले
Paras Nath Jha
4-मेरे माँ बाप बढ़ के हैं भगवान से
4-मेरे माँ बाप बढ़ के हैं भगवान से
Ajay Kumar Vimal
दुम कुत्ते की कब हुई,
दुम कुत्ते की कब हुई,
sushil sarna
Loading...