Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Oct 2023 · 1 min read

क्या रावण अभी भी जिन्दा है

अपने पद और प्रतिष्ठा को बचाने में
जो रहता है हर हमेशा सत्ता में चूर
दंभ से सदैव ही चमकता रहता है
जिनके पाखंडी हॅंसते चेहरे में नूर

पर स्त्री गमन से जिनका हो नाता
भ्रष्ट्राचार का भी जो हो बड़ा ज्ञाता
सोने की लंका पर अपना अधिकार
हर युग में वह किसी तरह पा जाता

जिनके नाम के आतंक मात्र से ही
आतंकित हो जाता हो चारों प्रहर
देवों का वरदान समझ कर हमेशा
चाहता जो इंद्रासन तक का सफर

हर युग में ही अमरता का वरदान
सहज रुप से पाने को छटपटाता है
ध्यान से देखो अगर तो हर युग में
रावण फिर से जिंदा होकर आता है

सबसे छुप छुप कर ही क्यों न सही
वह किसी न किसी बाग में खिलेगा
ध्यान लगाकर ढ़ुंढ़ने पर निश्चित ही
रावण दुनिया के हर भाग में मिलेगा

हर प्रकार की बुराई का प्रतीक बनकर
अपनी ही नजरों में आज भी है बड़ा
और अभी भी उसमें घमंड इतना है कि
दहन के समय भी रहता तनकर खड़ा

इसलिए सबसे पहले तो मन के अन्दर
पल रहे उस अहंकारी रावण को मारो
तब सब एक साथ उछल उछल कर
पुतले के बने निर्जीव रावण को जारो

Language: Hindi
2 Likes · 92 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Paras Nath Jha
View all
You may also like:
किसी के साथ की गयी नेकी कभी रायगां नहीं जाती
किसी के साथ की गयी नेकी कभी रायगां नहीं जाती
shabina. Naaz
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
जनता
जनता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
तेरे सांचे में ढलने लगी हूं।
तेरे सांचे में ढलने लगी हूं।
Seema gupta,Alwar
मत छेड़ हमें देशभक्ति में हम डूबे है।
मत छेड़ हमें देशभक्ति में हम डूबे है।
Rj Anand Prajapati
16-- 🌸उठती हुईं मैं 🌸
16-- 🌸उठती हुईं मैं 🌸
Mahima shukla
जहां से चले थे वहीं आ गए !
जहां से चले थे वहीं आ गए !
Kuldeep mishra (KD)
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ये गजल बेदर्द,
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ये गजल बेदर्द,
Sahil Ahmad
रिश्ते , प्रेम , दोस्ती , लगाव ये दो तरफ़ा हों ऐसा कोई नियम
रिश्ते , प्रेम , दोस्ती , लगाव ये दो तरफ़ा हों ऐसा कोई नियम
Seema Verma
■ आज तक की गणना के अनुसार।
■ आज तक की गणना के अनुसार।
*Author प्रणय प्रभात*
मेरा अभिमान
मेरा अभिमान
Aman Sinha
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
Anis Shah
तेरी धरती का खा रहे हैं हम
तेरी धरती का खा रहे हैं हम
नूरफातिमा खातून नूरी
रिश्ता
रिश्ता
Santosh Shrivastava
*विद्या  विनय  के  साथ  हो,  माँ शारदे वर दो*
*विद्या विनय के साथ हो, माँ शारदे वर दो*
Ravi Prakash
- आम मंजरी
- आम मंजरी
Madhu Shah
अपने ही घर से बेघर हो रहे है।
अपने ही घर से बेघर हो रहे है।
Taj Mohammad
पीताम्बरी आभा
पीताम्बरी आभा
manisha
उम्मीद
उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
आज मंगलवार, 05 दिसम्बर 2023  मार्गशीर्ष कृष्णपक्ष की अष्टमी
आज मंगलवार, 05 दिसम्बर 2023 मार्गशीर्ष कृष्णपक्ष की अष्टमी
Shashi kala vyas
सफ़र जिंदगी के.....!
सफ़र जिंदगी के.....!
VEDANTA PATEL
लइका ल लगव नही जवान तै खाले मलाई
लइका ल लगव नही जवान तै खाले मलाई
Ranjeet kumar patre
Not a Choice, But a Struggle
Not a Choice, But a Struggle
पूर्वार्थ
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सौदागर हूँ
सौदागर हूँ
Satish Srijan
क्षितिज
क्षितिज
Dr. Kishan tandon kranti
2954.*पूर्णिका*
2954.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरा नसीब
मेरा नसीब
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हिन्दी पर नाज है !
हिन्दी पर नाज है !
Om Prakash Nautiyal
उपदेशों ही मूर्खाणां प्रकोपेच न च शांतय्
उपदेशों ही मूर्खाणां प्रकोपेच न च शांतय्
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...