Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Sep 2022 · 1 min read

क्या मेरा इंतज़ार बाक़ी है

दिल-ए-उम्मीद टूटती ही नहीं ।
क्या मेरा इंतज़ार बाक़ी है ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
11 Likes · 140 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
जपू नित राधा - राधा नाम
जपू नित राधा - राधा नाम
Basant Bhagawan Roy
पूस की रात
पूस की रात
Atul "Krishn"
2904.*पूर्णिका*
2904.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जिंदगी की उड़ान
जिंदगी की उड़ान
Kanchan verma
खुदी में मगन हूँ, दिले-शाद हूँ मैं
खुदी में मगन हूँ, दिले-शाद हूँ मैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"मिर्च"
Dr. Kishan tandon kranti
बेइंतहा इश्क़
बेइंतहा इश्क़
Shekhar Chandra Mitra
सीख
सीख
Dr.Pratibha Prakash
युद्ध
युद्ध
Dr.Priya Soni Khare
ज्ञान -दीपक
ज्ञान -दीपक
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कोशिश करना छोड़ो मत,
कोशिश करना छोड़ो मत,
Ranjeet kumar patre
■ शर्म भी कर लो छुटभैयों!!
■ शर्म भी कर लो छुटभैयों!!
*Author प्रणय प्रभात*
महामना फुले बजरिए हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
महामना फुले बजरिए हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
द्रौपदी
द्रौपदी
SHAILESH MOHAN
हनुमानजी
हनुमानजी
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
ऋतु सुषमा बसंत
ऋतु सुषमा बसंत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
क्यों करते हो गुरुर अपने इस चार दिन के ठाठ पर
क्यों करते हो गुरुर अपने इस चार दिन के ठाठ पर
Sandeep Kumar
-- कैसा बुजुर्ग --
-- कैसा बुजुर्ग --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
प्यार कर रहा हूँ मैं - ग़ज़ल
प्यार कर रहा हूँ मैं - ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
हिंदी का सम्मान
हिंदी का सम्मान
Arti Bhadauria
मुस्कान
मुस्कान
नवीन जोशी 'नवल'
आज फिर जिंदगी की किताब खोली
आज फिर जिंदगी की किताब खोली
rajeev ranjan
ओ! चॅंद्रयान
ओ! चॅंद्रयान
kavita verma
ज़िन्दगी में हमेशा खुशियों की सौगात रहे।
ज़िन्दगी में हमेशा खुशियों की सौगात रहे।
Phool gufran
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*मिलते जीवन में गुरु, सच्चे तो उद्धार【कुंडलिया】*
*मिलते जीवन में गुरु, सच्चे तो उद्धार【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
हिंदी
हिंदी
Mamta Rani
चार कदम चलने को मिल जाता है जमाना
चार कदम चलने को मिल जाता है जमाना
कवि दीपक बवेजा
फ़लसफ़े - दीपक नीलपदम्
फ़लसफ़े - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
World Environmental Day
World Environmental Day
Tushar Jagawat
Loading...