Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2023 · 1 min read

क्या मुगलों ने लूट लिया था भारत ?

भगत सिंह जब पेशी पर अदालत मे हाज़िर हुए तो भरी कोर्ट मे अंग्रेज़ जज ने उनसे सवाल किया कि, भगत सिंह तुमने हमारे लोगों पर बम मारा जबकि हमें आये हुए सिर्फ़ 150 साल हुए हैं और ये मुसलमान तुम पर 800 साल से हुकूमत कर रहे थे तुमने कभी इन पर बम क्यों नहीं मारा ?”

भगत सिंह मुस्कुराये और कहा, “मुसलमानों ने हम पर हुकूमत की, और ऐसी हुकूमत की कि हमारे देश को सोने की चिड़िया बना दिया, और ऐसा सोने की चिड़िया बनाया कि इस चिड़िया की चहचहाहट आप को सात समंदर पार से यहां खींच लायी, और जज साहब आपने 150 साल यहाँ कैसे राज किया।

उसको एक लाइन मे कहना चाहूं तो आपने एक स्पंज की तरह राज किया, ये स्पंज गंगा के किनारे से हीरे मोती चूस कर ले जाता और इसे जब थेम्स (लंदन की नदी) के किनारे निचोड़ा जाता तो दौलत बरसने लगती, ये जो दौलत आप यहां से भिगो-भिगो कर ले गये हैं आज (आपके यहां) सारी औधोगिक क्रांति और कारखाने उसी से आये हैं और इन मुग़लों ने हमारे देश पर ऐसा राज किया कि इसे अपना घर बना लिया और इसी की धूल मिट्टी मे अपने आपको मिला दिया। जो पैसा यहां से लिया यहीं पर खर्च कर दिया और इस देश को सोने की चिड़िया बना दिया।

जिसको भी भगत सिंह के इस कथन पर संदेह है वह जाकर उस किताब को पढ़ ले -Avaidance In Book (ग्रोवर एंड ग्रोवर पेज 169)

1 Like · 522 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नारी के कौशल से कोई क्षेत्र न बचा अछूता।
नारी के कौशल से कोई क्षेत्र न बचा अछूता।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
नव संवत्सर
नव संवत्सर
Manu Vashistha
बचपन,
बचपन, "बूढ़ा " हो गया था,
Nitesh Kumar Srivastava
मेरे खतों को अगर,तुम भी पढ़ लेते
मेरे खतों को अगर,तुम भी पढ़ लेते
gurudeenverma198
बेटियाँ
बेटियाँ
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
💐प्रेम कौतुक-363💐
💐प्रेम कौतुक-363💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरा लड्डू गोपाल
मेरा लड्डू गोपाल
MEENU
*जिंदगी  जीने  का नाम है*
*जिंदगी जीने का नाम है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ऐसा बेजान था रिश्ता कि साँस लेता रहा
ऐसा बेजान था रिश्ता कि साँस लेता रहा
Shweta Soni
तन्हाई
तन्हाई
Surinder blackpen
“जगत जननी: नारी”
“जगत जननी: नारी”
Swara Kumari arya
अभी और कभी
अभी और कभी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मैं तो महज एक ख्वाब हूँ
मैं तो महज एक ख्वाब हूँ
VINOD CHAUHAN
डा. तुलसीराम और उनकी आत्मकथाओं को जैसा मैंने समझा / © डा. मुसाफ़िर बैठा
डा. तुलसीराम और उनकी आत्मकथाओं को जैसा मैंने समझा / © डा. मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
हम मुहब्बत कर रहे थे........
हम मुहब्बत कर रहे थे........
shabina. Naaz
"मकर संक्रान्ति"
Dr. Kishan tandon kranti
दुकान मे बैठने का मज़ा
दुकान मे बैठने का मज़ा
Vansh Agarwal
रक्षा बंधन
रक्षा बंधन
bhandari lokesh
Pahado ke chadar se lipti hai meri muhabbat
Pahado ke chadar se lipti hai meri muhabbat
Sakshi Tripathi
बचपन का प्यार
बचपन का प्यार
Vandna Thakur
बदली - बदली हवा और ये जहाँ बदला
बदली - बदली हवा और ये जहाँ बदला
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Help Each Other
Help Each Other
Dhriti Mishra
■ आज का विचार
■ आज का विचार
*Author प्रणय प्रभात*
बढ़ती हुई समझ,
बढ़ती हुई समझ,
Shubham Pandey (S P)
रिश्ता ख़ामोशियों का
रिश्ता ख़ामोशियों का
Dr fauzia Naseem shad
"मैं आज़ाद हो गया"
Lohit Tamta
प्रकृति पर कविता
प्रकृति पर कविता
कवि अनिल कुमार पँचोली
काव्य में सहृदयता
काव्य में सहृदयता
कवि रमेशराज
*दही (कुंडलिया)*
*दही (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"महंगा तजुर्बा सस्ता ना मिलै"
MSW Sunil SainiCENA
Loading...