Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jul 2016 · 1 min read

क्या बतायें तमाशा हुआ क्या

क्या बतायें तमाशा हुआ क्या
देखिये और होता है क्या-क्या

क्या अना, क्या वफ़ा, है हया क्या
इस अहद में भला क्या, बुरा क्या

बेनिशां हैं अभी मंजिलें सब
हर कदम देखना आबला क्या

कोस मत तू मुक़द्दर को अपने
सर पटकने से है फायदा क्या

ये नसीबों का है खेल सारा
जो मिला सो मिला अब गिला क्या

दूर तक बदहवासी के साये
दीप फिर नफरतों का जला क्या

हौसला रख थमेगा ये तूफ़ाँ
कर खुदी पे यकीं नाखुदा क्या

हिमकर श्याम

18 Comments · 349 Views
You may also like:
$दोहे- सुबह की सैर पर
आर.एस. 'प्रीतम'
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
परदेश
DESH RAJ
तुम स्वर बन आये हो
Saraswati Bajpai
खादी पहने ताज
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
समय का विशिष्ट कवि
Shekhar Chandra Mitra
प्रश्न
विजय कुमार 'विजय'
जिन्दगी के राहों मे
Anamika Singh
* तेरी चाहत बन जाऊंगा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"आम की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
पिता
Abhishek Pandey Abhi
बूंद बूंद में जीवन है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हम कहां आप जैसे
Dr fauzia Naseem shad
Writing Challenge- अलविदा (Goodbye)
Sahityapedia
एक महान सती थी “पद्मिनी”
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
सागर ने लहरों से की है ये शिकायत।
Manisha Manjari
बगीचे में फूलों को
Manoj Tanan
*विश्व योग का दिन पावन इक्कीस जून को आता(गीत)*
Ravi Prakash
बद्दुआ बन गए है।
Taj Mohammad
शब्दों से परे
Mahendra Rai
जात पात
Harshvardhan "आवारा"
हवा के झोंको में जुल्फें बिखर जाती हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
"स्कूल चलो अभियान"
Dushyant Kumar
प्रतिष्ठित मनुष्य
AMRESH KUMAR VERMA
बरसात आई झूम के...
Buddha Prakash
बेकाबू हुआ है ये दिल तड़पने लगी हूं
Ram Krishan Rastogi
✍️मैं एक मजदुर हूँ✍️
'अशांत' शेखर
मूक प्रेम
Rashmi Sanjay
तीरगी से निबाह करते रहे
Anis Shah
Loading...