Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jul 2016 · 1 min read

क्या बतायें तमाशा हुआ क्या

क्या बतायें तमाशा हुआ क्या
देखिये और होता है क्या-क्या

क्या अना, क्या वफ़ा, है हया क्या
इस अहद में भला क्या, बुरा क्या

बेनिशां हैं अभी मंजिलें सब
हर कदम देखना आबला क्या

कोस मत तू मुक़द्दर को अपने
सर पटकने से है फायदा क्या

ये नसीबों का है खेल सारा
जो मिला सो मिला अब गिला क्या

दूर तक बदहवासी के साये
दीप फिर नफरतों का जला क्या

हौसला रख थमेगा ये तूफ़ाँ
कर खुदी पे यकीं नाखुदा क्या

हिमकर श्याम

18 Comments · 473 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हो गई जब खत्म अपनी जिंदगी की दास्तां..
हो गई जब खत्म अपनी जिंदगी की दास्तां..
Vishal babu (vishu)
तुझे पन्नों में उतार कर
तुझे पन्नों में उतार कर
Seema gupta,Alwar
जिक्र क्या जुबा पर नाम नही
जिक्र क्या जुबा पर नाम नही
पूर्वार्थ
बलात्कार
बलात्कार
rkchaudhary2012
पत्नी जब चैतन्य,तभी है मृदुल वसंत।
पत्नी जब चैतन्य,तभी है मृदुल वसंत।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
" भुला दिया उस तस्वीर को "
Aarti sirsat
॥ संकटमोचन हनुमानाष्टक ॥
॥ संकटमोचन हनुमानाष्टक ॥
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-152से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-152से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
***
*** " नाविक ले पतवार....! " ***
VEDANTA PATEL
यूं तो मेरे जीवन में हंसी रंग बहुत हैं
यूं तो मेरे जीवन में हंसी रंग बहुत हैं
हरवंश हृदय
ఇదే నా భారత దేశం.
ఇదే నా భారత దేశం.
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
सत्यता वह खुशबू का पौधा है
सत्यता वह खुशबू का पौधा है
प्रेमदास वसु सुरेखा
"सपनों में"
Dr. Kishan tandon kranti
हिन्दी पर हाइकू .....
हिन्दी पर हाइकू .....
sushil sarna
इंसान स्वार्थी इसलिए है क्योंकि वह बिना स्वार्थ के किसी भी क
इंसान स्वार्थी इसलिए है क्योंकि वह बिना स्वार्थ के किसी भी क
Rj Anand Prajapati
समय बड़ा बलवान है भैया,जो न इसके साथ चले
समय बड़ा बलवान है भैया,जो न इसके साथ चले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
इश्क़ में
इश्क़ में
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
2281.पूर्णिका
2281.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
जिंदगी न जाने किस राह में खडी हो गयीं
जिंदगी न जाने किस राह में खडी हो गयीं
Sonu sugandh
चंडीगढ़ का रॉक गार्डेन
चंडीगढ़ का रॉक गार्डेन
Satish Srijan
हमें भी देख जिंदगी,पड़े हैं तेरी राहों में।
हमें भी देख जिंदगी,पड़े हैं तेरी राहों में।
Surinder blackpen
संबंध क्या
संबंध क्या
Shweta Soni
*कुछ नहीं मेरा जगत में, और कुछ लाया नहीं【मुक्तक 】*
*कुछ नहीं मेरा जगत में, और कुछ लाया नहीं【मुक्तक 】*
Ravi Prakash
वो,
वो,
हिमांशु Kulshrestha
की हरी नाम में सब कुछ समाया ,ओ बंदे तो बाहर क्या देखने गया,
की हरी नाम में सब कुछ समाया ,ओ बंदे तो बाहर क्या देखने गया,
Vandna thakur
🙅🤦आसान नहीं होता
🙅🤦आसान नहीं होता
डॉ० रोहित कौशिक
"चांद पे तिरंगा"
राकेश चौरसिया
मैंने एक दिन खुद से सवाल किया —
मैंने एक दिन खुद से सवाल किया —
SURYA PRAKASH SHARMA
Loading...