Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Mar 2024 · 1 min read

क्या खोकर ग़म मनाऊ, किसे पाकर नाज़ करूँ मैं,

क्या खोकर ग़म मनाऊ, किसे पाकर नाज़ करूँ मैं,
बेपर परिंदा ठहरा,जमीं छोड़ कैसे परवाज़ करूँ मैं,
कोई नही जो आह समझे मेरी,किसे ही आवाज करूँ मैं,
तन्हाई ही बसर करती है हर करवट मेरे,
किसपे नींदे वारूँ, किस लिए तासिर नासाज़ करूँ मैं,
किसी को तो हो मेरे लहज़े से दिक्कत,
कोई हो जिसे बेरुखी से नाराज़ करूँ मैं,
आस्तीन में दाग छिपाए फिरते हैं सफेदपोश लोग,
इनकी शराफ़त को बेपर्दा आज करूँ मैं,
अब एक ताले के होतें हैं कई चाबी,
किसपे भरोसा जताऊं, किसे हमराज करूँ मैं,
उसका चेहरा,लहजा,रंगत, रुतबा,लाजवाब है,
नजर कैसे हटाऊँ उससे कैसे नजरअंदाज करूँ मैं।
©chandra

107 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मैंने इन आंखों से ज़माने को संभालते देखा है
मैंने इन आंखों से ज़माने को संभालते देखा है
Phool gufran
फूल कुदरत का उपहार
फूल कुदरत का उपहार
Harish Chandra Pande
मिसाल रेशमा
मिसाल रेशमा
Dr. Kishan tandon kranti
जीत रही है जंग शांति की हार हो रही।
जीत रही है जंग शांति की हार हो रही।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
बेरोजगारी की महामारी
बेरोजगारी की महामारी
Anamika Tiwari 'annpurna '
चूड़ियाँ
चूड़ियाँ
लक्ष्मी सिंह
■ स्वयं पर संयम लाभप्रद।
■ स्वयं पर संयम लाभप्रद।
*प्रणय प्रभात*
बुद्ध होने का अर्थ
बुद्ध होने का अर्थ
महेश चन्द्र त्रिपाठी
“Your work is going to fill a large part of your life, and t
“Your work is going to fill a large part of your life, and t
पूर्वार्थ
3494.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3494.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
*बदलाव की लहर*
*बदलाव की लहर*
sudhir kumar
पितृ दिवस134
पितृ दिवस134
Dr Archana Gupta
राम तुम्हारे नहीं हैं
राम तुम्हारे नहीं हैं
Harinarayan Tanha
हिन्दी दोहा
हिन्दी दोहा "प्रहार"
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
গাছের নীরবতা
গাছের নীরবতা
Otteri Selvakumar
युग प्रवर्तक नारी!
युग प्रवर्तक नारी!
कविता झा ‘गीत’
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
*सुना है आजकल हाकिम से, सेटिंग का जमाना है【हिंदी गजल/गीतिका】
*सुना है आजकल हाकिम से, सेटिंग का जमाना है【हिंदी गजल/गीतिका】
Ravi Prakash
धार्मिक होने का मतलब यह कतई नहीं कि हम किसी मनुष्य के आगे नत
धार्मिक होने का मतलब यह कतई नहीं कि हम किसी मनुष्य के आगे नत
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
दूर हमसे वो जब से जाने लगे हैंं ।
दूर हमसे वो जब से जाने लगे हैंं ।
Anil chobisa
हाइकु
हाइकु
Prakash Chandra
खूबसूरत है....
खूबसूरत है....
The_dk_poetry
चित्र और चरित्र
चित्र और चरित्र
Lokesh Sharma
उफ़ ये अदा
उफ़ ये अदा
Surinder blackpen
विराम चिह्न
विराम चिह्न
Neelam Sharma
अहंकार
अहंकार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
काव्य में विचार और ऊर्जा
काव्य में विचार और ऊर्जा
कवि रमेशराज
वेलेंटाइन डे
वेलेंटाइन डे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कुछ काम करो , कुछ काम करो
कुछ काम करो , कुछ काम करो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...