Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Apr 2023 · 1 min read

क्या करते हो?

तुम मुझे होश में लाते हो, क्या करते हो,
मेरी शख्सियत जगाते हो, क्या करते हो,
मदहोशी चुनी है, अपने आप से डरकर मैंने,
मुझे सच्चाई दिखाते हो, क्या करते हो ॥

@दीपक कुमार श्रीवास्तव “नील पदम् “

Language: Hindi
5 Likes · 685 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
View all
You may also like:
सुस्त हवाओं की उदासी, दिल को भारी कर जाती है।
सुस्त हवाओं की उदासी, दिल को भारी कर जाती है।
Manisha Manjari
मेरी औकात
मेरी औकात
साहित्य गौरव
अब तुझपे किसने किया है सितम
अब तुझपे किसने किया है सितम
gurudeenverma198
नारी
नारी
Nitesh Shah
तुम याद आये !
तुम याद आये !
Ramswaroop Dinkar
पेड़ पौधे फूल तितली सब बनाता कौन है।
पेड़ पौधे फूल तितली सब बनाता कौन है।
सत्य कुमार प्रेमी
ये आंखों से बहती अश्रुधरा ,
ये आंखों से बहती अश्रुधरा ,
ज्योति
आज अंधेरे से दोस्ती कर ली मेंने,
आज अंधेरे से दोस्ती कर ली मेंने,
Sunil Maheshwari
एक पंथ दो काज
एक पंथ दो काज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"दीदार"
Dr. Kishan tandon kranti
"सत्ता व सियासत"
*प्रणय प्रभात*
माँ
माँ
Dr Archana Gupta
3409⚘ *पूर्णिका* ⚘
3409⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
सम्भाला था
सम्भाला था
भरत कुमार सोलंकी
आसान नहीं होता घर से होस्टल जाना
आसान नहीं होता घर से होस्टल जाना
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
यादें
यादें
Tarkeshwari 'sudhi'
अगर ना मिले सुकून कहीं तो ढूंढ लेना खुद मे,
अगर ना मिले सुकून कहीं तो ढूंढ लेना खुद मे,
Ranjeet kumar patre
हर एक नागरिक को अपना, सर्वश्रेष्ठ देना होगा
हर एक नागरिक को अपना, सर्वश्रेष्ठ देना होगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आस
आस
Shyam Sundar Subramanian
उसके किरदार की खुशबू की महक ज्यादा है
उसके किरदार की खुशबू की महक ज्यादा है
कवि दीपक बवेजा
किये वादे सभी टूटे नज़र कैसे मिलाऊँ मैं
किये वादे सभी टूटे नज़र कैसे मिलाऊँ मैं
आर.एस. 'प्रीतम'
*
*"मुस्कराहट"*
Shashi kala vyas
बढ़ना होगा
बढ़ना होगा
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
मन की गांठ
मन की गांठ
Sangeeta Beniwal
* खिल उठती चंपा *
* खिल उठती चंपा *
surenderpal vaidya
दिल से निकले हाय
दिल से निकले हाय
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
मुझे इश्क से नहीं,झूठ से नफरत है।
मुझे इश्क से नहीं,झूठ से नफरत है।
लक्ष्मी सिंह
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Harish Chandra Pande
तेरी - मेरी कहानी, ना होगी कभी पुरानी
तेरी - मेरी कहानी, ना होगी कभी पुरानी
The_dk_poetry
कौन सा हुनर है जिससे मुख़ातिब नही हूं मैं,
कौन सा हुनर है जिससे मुख़ातिब नही हूं मैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...