Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Sep 2023 · 1 min read

क्या ऐसी स्त्री से…

न पैरों की जूती न जाने जी हज़ूरी
न पति परमेश्वर न आधी अधूरी
न पौरुष न अहंकार ने जीता
राम मिले तो बन गई सीता

न चाटुकारिता की चाशनी लिपटी
न स्वाँग ढोंग की निपुण नटी
बेबाक बोलना सच रग रग बसा
युक्ति तर्क सामने कोई न टिका

हक़ के लिए सदा होगी खड़ी
बात हो छोटी या फिर बड़ी
शायद तुमसे काबिल होगी
प्रतिभाशाली में शमिल होगी

धोखा छलावा सह न पाएगी
मान मिले तो पिघल जाएगी
सर झुकाया तो प्रेम भाव में
तोड़ी चुप्पी सम्मान अभाव में

आत्मसम्मान की इस गठरी का
आँखों में खटकती इस स्त्री का
क्या तुम साथ निभा पाओगे
क्या ऐसी स्त्री से प्रेम कर पाओगे

रेखांकन I रेखा
१६.९.२३

Language: Hindi
1 Like · 363 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जरूरत से ज़ियादा जरूरी नहीं हैं हम
जरूरत से ज़ियादा जरूरी नहीं हैं हम
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*जिंदगी के अनोखे रंग*
*जिंदगी के अनोखे रंग*
Harminder Kaur
मुर्दा समाज
मुर्दा समाज
Rekha Drolia
ईद मुबारक
ईद मुबारक
Satish Srijan
"पुतला"
Dr. Kishan tandon kranti
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
▫️ मेरी मोहब्बत ▫️
▫️ मेरी मोहब्बत ▫️
Nanki Patre
निगाहें मिलाके सितम ढाने वाले ।
निगाहें मिलाके सितम ढाने वाले ।
Phool gufran
मुकाम
मुकाम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
गुरु
गुरु
Kavita Chouhan
जिंदगी की राह आसान नहीं थी....
जिंदगी की राह आसान नहीं थी....
Ashish shukla
खोदकर इक शहर देखो लाश जंगल की मिलेगी
खोदकर इक शहर देखो लाश जंगल की मिलेगी
Johnny Ahmed 'क़ैस'
वजह ऐसी बन जाऊ
वजह ऐसी बन जाऊ
Basant Bhagawan Roy
आप और हम
आप और हम
Neeraj Agarwal
■ चाची 42प का उस्ताद।
■ चाची 42प का उस्ताद।
*Author प्रणय प्रभात*
मेरी माँ तू प्यारी माँ
मेरी माँ तू प्यारी माँ
Vishnu Prasad 'panchotiya'
कहाँ जाऊँ....?
कहाँ जाऊँ....?
Kanchan Khanna
इश्क के चादर में इतना न लपेटिये कि तन्हाई में डूब जाएँ,
इश्क के चादर में इतना न लपेटिये कि तन्हाई में डूब जाएँ,
Sukoon
" मुझमें फिर से बहार न आयेगी "
Aarti sirsat
हरितालिका तीज
हरितालिका तीज
Mukesh Kumar Sonkar
मेला
मेला
Dr.Priya Soni Khare
जीवन संध्या में
जीवन संध्या में
Shweta Soni
खुद के करीब
खुद के करीब
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अपने किरदार में
अपने किरदार में
Dr fauzia Naseem shad
अपने ज्ञान को दबा कर पैसा कमाना नौकरी कहलाता है!
अपने ज्ञान को दबा कर पैसा कमाना नौकरी कहलाता है!
Suraj kushwaha
हां मैं पागल हूं दोस्तों
हां मैं पागल हूं दोस्तों
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जो कभी मिल ना सके ऐसी चाह मत करना।
जो कभी मिल ना सके ऐसी चाह मत करना।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
2991.*पूर्णिका*
2991.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏🙏
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
उनकी नाराज़गी से हमें बहुत दुःख हुआ
उनकी नाराज़गी से हमें बहुत दुःख हुआ
Govind Kumar Pandey
Loading...