Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jan 2023 · 1 min read

*कौवा( हिंदी गजल/गीतिका )*

कौवा( हिंदी गजल/गीतिका )
“”””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””
(1)
इसे कहते हैं सच्चा हौसला, दिखला गया कौवा
गजल-प्रतियोगिता में देखो, गाने आ गया कौवा
(2)
हुई प्रतियोगिता सौंदर्य की, सद्भाग्य तो देखो
प्रथम ईनाम, सब पशु-पक्षियों में पा गया कौवा
(3)
दिवंगत आत्माओं को, नमन करने का अवसर था
प्रतीकों में ढला, तो हर जगह पर छा गया कौवा
(4)
कभी दो-चार दिन कोयल, कबूतर-तोता दिखते हैं
हमेशा मित्रता में नाम को लिखवा गया कौवा
(5)
बचा जो दे दिया हमने, कभी रोटी-डबलरोटी
बड़ी आत्मीयता से उसको, आकर खा गया कौवा
“”””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””
रचयिता :रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा ,रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 9997 61 5451

1 Like · 206 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
"रेलगाड़ी सी ज़िन्दगी"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
नया दिन
नया दिन
Vandna Thakur
!! सोपान !!
!! सोपान !!
Chunnu Lal Gupta
सफल हुए
सफल हुए
Koमल कुmari
ज़िंदगी है,
ज़िंदगी है,
पूर्वार्थ
"द्वंद"
Saransh Singh 'Priyam'
ज़माने भर को हर हाल में हंसाने का हुनर है जिसके पास।
ज़माने भर को हर हाल में हंसाने का हुनर है जिसके पास।
शिव प्रताप लोधी
छत्तीसगढ़िया संस्कृति के चिन्हारी- हरेली तिहार
छत्तीसगढ़िया संस्कृति के चिन्हारी- हरेली तिहार
Mukesh Kumar Sonkar
"सहेज सको तो"
Dr. Kishan tandon kranti
हम घर रूपी किताब की वह जिल्द है,
हम घर रूपी किताब की वह जिल्द है,
Umender kumar
बड़ा मुंहफट सा है किरदार हमारा
बड़ा मुंहफट सा है किरदार हमारा
ruby kumari
Struggle to conserve natural resources
Struggle to conserve natural resources
Desert fellow Rakesh
Ek galti har roj kar rhe hai hum,
Ek galti har roj kar rhe hai hum,
Sakshi Tripathi
तेरा फिक्र
तेरा फिक्र
Basant Bhagawan Roy
नारी हूँ मैं
नारी हूँ मैं
Kavi praveen charan
घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि (स्मारिका)
घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि (स्मारिका)
Dr. Narendra Valmiki
अलिकुल की गुंजार से,
अलिकुल की गुंजार से,
sushil sarna
गुज़रे वक़्त ने छीन लिया था सब कुछ,
गुज़रे वक़्त ने छीन लिया था सब कुछ,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
भक्त कवि स्वर्गीय श्री रविदेव_रामायणी*
भक्त कवि स्वर्गीय श्री रविदेव_रामायणी*
Ravi Prakash
हाँ ये सच है
हाँ ये सच है
Saraswati Bajpai
रिश्तों का गणित
रिश्तों का गणित
Madhavi Srivastava
जीत का सेहरा
जीत का सेहरा
Dr fauzia Naseem shad
तेरे शब्दों के हर गूंज से, जीवन ख़ुशबू देता है…
तेरे शब्दों के हर गूंज से, जीवन ख़ुशबू देता है…
Anand Kumar
3144.*पूर्णिका*
3144.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Quote..
Quote..
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कोई ऐसा बोलता है की दिल में उतर जाता है
कोई ऐसा बोलता है की दिल में उतर जाता है
कवि दीपक बवेजा
मजबूरी नहीं जरूरी
मजबूरी नहीं जरूरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ड्राइवर,डाकिया,व्यापारी,नेता और पक्षियों को बहुत दूर तक के स
ड्राइवर,डाकिया,व्यापारी,नेता और पक्षियों को बहुत दूर तक के स
Rj Anand Prajapati
* रेत समंदर के...! *
* रेत समंदर के...! *
VEDANTA PATEL
Loading...