Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Aug 2016 · 1 min read

कौन हूँ मैं

कौन हूँ मैं

लाडली बेटी के रूप में मेरी माँ ने जनी।
मैं किसी की बहन तो किसी की पोती बनी।

समय के साथ साथ मैं बढ़ती गयी।
पाबंदियां मुझ पर लगती गयी।

अपने मन की बातें मन में ही छिपा लेती।
रोक कर आंसू अपने मैं मंद मंद मुस्कुरा देती।

जवान हुई तो घर वालों ने कर दी शादी।
वो भी छीन गयी जो मिली हुई थी आजादी।

ससुराल में सब से दब कर रहना पड़ता।
छोटी छोटी बातों पर हर कोई मुझसे लड़ता।

समय का पहिया यूँ ही चलता रहा।
हर रिश्ता मुझे यूँ ही छलता रहा।

रिश्तों की डोर से बंधी आज तक मौन हूँ मैं।
पर मन में एक सवाल उठता है कौन हूँ मैं।

क्या मेरा वजूद है, क्या मेरी हस्ती है।
दुनिया क्यों मुझ पर ही तंज कसती है।

जब भी अपना वजूद तलाशना चाहा।
दुनिया ने पैरों तले मुझे कुचलना चाहा।

आखिर कब तक अपने वजूद से महरूम रहूंगी मैं।
अब तो हकीकत ऐ फ़साना खुल कर कहूँगी मैं।

“”सुलक्षणा”” भी अपने अस्तित्व के लिए लड़ रही है।
दिन प्रति दिन सफलता की एक एक सीढ़ी चढ़ रही है।

Language: Hindi
1 Like · 359 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ सुलक्षणा अहलावत
View all
You may also like:
Love is
Love is
Otteri Selvakumar
एक नसीहत
एक नसीहत
Shyam Sundar Subramanian
2736. *पूर्णिका*
2736. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
* गीत कोई *
* गीत कोई *
surenderpal vaidya
बसंत
बसंत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
🥀✍अज्ञानी की 🥀
🥀✍अज्ञानी की 🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Harish Chandra Pande
मानव-जीवन से जुड़ा, कृत कर्मों का चक्र।
मानव-जीवन से जुड़ा, कृत कर्मों का चक्र।
डॉ.सीमा अग्रवाल
"व्यक्ति जब अपने अंदर छिपी हुई शक्तियों के स्रोत को जान लेता
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
*तुम न आये*
*तुम न आये*
Kavita Chouhan
इंतजार करना है।
इंतजार करना है।
Anil chobisa
बहके जो कोई तो संभाल लेना
बहके जो कोई तो संभाल लेना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
* कैसे अपना प्रेम बुहारें *
* कैसे अपना प्रेम बुहारें *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सुनो रे सुनो तुम यह मतदाताओं
सुनो रे सुनो तुम यह मतदाताओं
gurudeenverma198
चुप रहना भी तो एक हल है।
चुप रहना भी तो एक हल है।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मेरी सफर शायरी
मेरी सफर शायरी
Ms.Ankit Halke jha
जिंदगी में अगर आपको सुकून चाहिए तो दुसरो की बातों को कभी दिल
जिंदगी में अगर आपको सुकून चाहिए तो दुसरो की बातों को कभी दिल
Ranjeet kumar patre
मेरी ज़िंदगी की खुशियां
मेरी ज़िंदगी की खुशियां
Dr fauzia Naseem shad
एक शाम ठहर कर देखा
एक शाम ठहर कर देखा
Kunal Prashant
आपको डुबाने के लिए दुनियां में,
आपको डुबाने के लिए दुनियां में,
नेताम आर सी
आज फिर इन आँखों में आँसू क्यों हैं
आज फिर इन आँखों में आँसू क्यों हैं
VINOD CHAUHAN
प्रेममे जे गम्भीर रहै छैप्राय: खेल ओेकरे साथ खेल खेलाएल जाइ
प्रेममे जे गम्भीर रहै छैप्राय: खेल ओेकरे साथ खेल खेलाएल जाइ
गजेन्द्र गजुर ( Gajendra Gajur )
■ ग़ज़ल / बात बहारों की...!!
■ ग़ज़ल / बात बहारों की...!!
*Author प्रणय प्रभात*
एक अलग ही खुशी थी
एक अलग ही खुशी थी
Ankita Patel
छह ऋतु, बारह मास हैं, ग्रीष्म-शरद-बरसात
छह ऋतु, बारह मास हैं, ग्रीष्म-शरद-बरसात
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अपनी अपनी मंजिलें हैं
अपनी अपनी मंजिलें हैं
Surinder blackpen
मंद मंद बहती हवा
मंद मंद बहती हवा
Soni Gupta
💐रामायणं तापस-प्रकरणं....💐
💐रामायणं तापस-प्रकरणं....💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
काश - दीपक नील पदम्
काश - दीपक नील पदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*अपने पैरों पर चला (हिंदी गजल/गीतिका)*
*अपने पैरों पर चला (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
Loading...