Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2024 · 1 min read

कौन सुने फरियाद

चमचे मौजी बन गए,
कौन सुने फरियाद।
आका लूटे देश को,
जनता है बरबाद।

Language: Hindi
57 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कुछ बातें ईश्वर पर छोड़ दें
कुछ बातें ईश्वर पर छोड़ दें
Sushil chauhan
आरुणि की गुरुभक्ति
आरुणि की गुरुभक्ति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आज के युग का सबसे बड़ा दुर्भाग्य ये है
आज के युग का सबसे बड़ा दुर्भाग्य ये है
पूर्वार्थ
आज की प्रस्तुति: भाग 7
आज की प्रस्तुति: भाग 7
Rajeev Dutta
गौण हुईं अनुभूतियाँ,
गौण हुईं अनुभूतियाँ,
sushil sarna
पुष्प
पुष्प
Dhirendra Singh
हम पर कष्ट भारी आ गए
हम पर कष्ट भारी आ गए
Shivkumar Bilagrami
Winner
Winner
Paras Nath Jha
मुझे बदनाम करने की कोशिश में लगा है.........,
मुझे बदनाम करने की कोशिश में लगा है.........,
कवि दीपक बवेजा
कुंडलिया
कुंडलिया
दुष्यन्त 'बाबा'
व्याकुल तू प्रिये
व्याकुल तू प्रिये
Dr.Pratibha Prakash
कभी भूल से भी तुम आ जाओ
कभी भूल से भी तुम आ जाओ
Chunnu Lal Gupta
कवियों का अपना गम...
कवियों का अपना गम...
goutam shaw
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
एकादशी
एकादशी
Shashi kala vyas
रावण
रावण
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
तुझे ढूंढने निकली तो, खाली हाथ लौटी मैं।
तुझे ढूंढने निकली तो, खाली हाथ लौटी मैं।
Manisha Manjari
अनोखे ही साज़ बजते है.!
अनोखे ही साज़ बजते है.!
शेखर सिंह
2345.पूर्णिका
2345.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
उपहार उसी को
उपहार उसी को
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
हवाएँ मस्तियाँ लाईं, ये फागुन का महीना है【 हिंदी गजल/गीतिका
हवाएँ मस्तियाँ लाईं, ये फागुन का महीना है【 हिंदी गजल/गीतिका
Ravi Prakash
जंग अहम की
जंग अहम की
Mamta Singh Devaa
💐प्रेम कौतुक-178💐
💐प्रेम कौतुक-178💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बहुत कुछ बोल सकता हु,
बहुत कुछ बोल सकता हु,
Awneesh kumar
माना तुम्हारे मुक़ाबिल नहीं मैं।
माना तुम्हारे मुक़ाबिल नहीं मैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मन की किताब
मन की किताब
Neeraj Agarwal
#लघु_व्यंग्य
#लघु_व्यंग्य
*Author प्रणय प्रभात*
बंद पंछी
बंद पंछी
लक्ष्मी सिंह
आता है उनको मजा क्या
आता है उनको मजा क्या
gurudeenverma198
किसी नदी के मुहाने पर
किसी नदी के मुहाने पर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Loading...