Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jun 2022 · 1 min read

बाज़ी

(1.) कौन मरेगा बाज़ी?

शिंदे एकनाथ नहीं, रहे ठाकरे संग
अतः दोनों के मध्य में, अब निर्णायक जंग

अब निर्णायक जंग, कौन मारेगा बाज़ी
शिवसेना के आज, बने है दोनों क़ाज़ी

महावीर कविराय, खुदा के दोनों बंदे
जाने जीते कौन, ठाकरे या फिर शिंदे

(2.) मार ली अब तो बाज़ी

सेना के शिंदे चले, लेकर सबको साथ
महाराष्ट्र के नाथ अब, रहे ना एकनाथ

रहे ना एकनाथ, मार ली अब तो बाज़ी
उद्ध्व-राउत हाय, रहे ना ग़ाज़ी-क़ाज़ी

महावीर कविराय, नहीं कुछ लेना-देना
गए ठाकरे यार, चैन से है शिवसेना

•••

2 Likes · 2 Comments · 236 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
देश के खातिर दिया जिन्होंने, अपना बलिदान
देश के खातिर दिया जिन्होंने, अपना बलिदान
gurudeenverma198
क्या हुआ , क्या हो रहा है और क्या होगा
क्या हुआ , क्या हो रहा है और क्या होगा
कृष्ण मलिक अम्बाला
ये जो आँखों का पानी है बड़ा खानदानी है
ये जो आँखों का पानी है बड़ा खानदानी है
कवि दीपक बवेजा
" समय बना हरकारा "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
2594.पूर्णिका
2594.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
साहसी बच्चे
साहसी बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हासिल नहीं था
हासिल नहीं था
Dr fauzia Naseem shad
मौन जीव के ज्ञान को, देता  अर्थ विशाल ।
मौन जीव के ज्ञान को, देता अर्थ विशाल ।
sushil sarna
उन कचोटती यादों का क्या
उन कचोटती यादों का क्या
Atul "Krishn"
चरचा गरम बा
चरचा गरम बा
Shekhar Chandra Mitra
हरतालिका तीज की काव्य मय कहानी
हरतालिका तीज की काव्य मय कहानी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"झाड़ू"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरा गांव
मेरा गांव
Anil "Aadarsh"
"फितरत"
Ekta chitrangini
कर्म-धर्म
कर्म-धर्म
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
रात का रक्स जारी है
रात का रक्स जारी है
हिमांशु Kulshrestha
Don't let people who have given up on your dreams lead you a
Don't let people who have given up on your dreams lead you a
पूर्वार्थ
आग लगाते लोग
आग लगाते लोग
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
जलाओ प्यार के दीपक खिलाओ फूल चाहत के
जलाओ प्यार के दीपक खिलाओ फूल चाहत के
आर.एस. 'प्रीतम'
विवेकवान मशीन
विवेकवान मशीन
Sandeep Pande
जीवन के सुख दुख के इस चक्र में
जीवन के सुख दुख के इस चक्र में
ruby kumari
ईश्वर
ईश्वर
Shyam Sundar Subramanian
तारिक़ फ़तह सदा रहे, सच के लंबरदार
तारिक़ फ़तह सदा रहे, सच के लंबरदार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आंसू
आंसू
नूरफातिमा खातून नूरी
सच समाज में प्रवासी है
सच समाज में प्रवासी है
Dr MusafiR BaithA
आशा
आशा
नवीन जोशी 'नवल'
खाया रसगुल्ला बड़ा , एक जलेबा गर्म (कुंडलिया)
खाया रसगुल्ला बड़ा , एक जलेबा गर्म (कुंडलिया)
Ravi Prakash
मेहनत
मेहनत
Anoop Kumar Mayank
Loading...