Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2016 · 1 min read

कौन अरबी फ़ारसी पढ़ कर कभी शायर हुआ

कौन अरबी फ़ारसी पढ़कर कभी शायर हुआ
इश्क़ ने जिसको रुलाया बस वही शायर हुआ

आज भी उन गेसुओं में है गुलाबों की महक
काट कर साये में जिनकी जिन्दगी शायर हुआ

हो गया जिस रोज़ उनका वस्ल मुझको ख़्वाब में
छा गई मुझ पर उसी दिन बेखुदी शायर हुआ

हर्फ़ केसर जाफ़रानी सी ग़ज़ल महके न जो
फिर ज़माने के लिये तू ख़ाक ही शायर हुआ

यूँ तुनक कर बैठ जाना बज़्म में अच्छा नहीं
मान मत ऐसे बुरा तू तो अभी शायर हुआ

कल किताबों में पढ़ेंगे लोग तेरी दास्तां
तब कहेंगे वाह गुलशन क्या सही शायर हुआ

राकेश दुबे “गुलशन”
20/07/2016
बरेली

1 Comment · 463 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Rakesh Dubey "Gulshan"
View all
You may also like:
बाल गीत
बाल गीत "लंबू चाचा आये हैं"
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
गरिमामय प्रतिफल
गरिमामय प्रतिफल
Shyam Sundar Subramanian
असोक विजयदसमी
असोक विजयदसमी
Mahender Singh Manu
#मुक्तक-
#मुक्तक-
*Author प्रणय प्रभात*
उठे ली सात बजे अईठे ली ढेर
उठे ली सात बजे अईठे ली ढेर
नूरफातिमा खातून नूरी
क्यों दोष देते हो
क्यों दोष देते हो
Suryakant Dwivedi
तारीफ किसकी करूं
तारीफ किसकी करूं
कवि दीपक बवेजा
" बेदर्द ज़माना "
Chunnu Lal Gupta
सुख दुःख
सुख दुःख
विजय कुमार अग्रवाल
लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी
लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी
Dr Tabassum Jahan
चलो चलें बौद्ध धम्म में।
चलो चलें बौद्ध धम्म में।
Buddha Prakash
पैगाम
पैगाम
Shashi kala vyas
Avinash
Avinash
Vipin Singh
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
दुख वो नहीं होता,
दुख वो नहीं होता,
Vishal babu (vishu)
2816. *पूर्णिका*
2816. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
समझौता
समझौता
Dr.Priya Soni Khare
आजादी का अमृत महोत्सव
आजादी का अमृत महोत्सव
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
धमकियां शुरू हो गई
धमकियां शुरू हो गई
Basant Bhagawan Roy
Dard-e-Madhushala
Dard-e-Madhushala
Tushar Jagawat
Writing Challenge- पेड़ (Tree)
Writing Challenge- पेड़ (Tree)
Sahityapedia
मंजिल तक पहुँचने के लिए
मंजिल तक पहुँचने के लिए
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
अकथ कथा
अकथ कथा
Neelam Sharma
Love
Love
Kanchan Khanna
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
'स्वागत प्रिये..!'
'स्वागत प्रिये..!'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
💐प्रेम कौतुक-409💐
💐प्रेम कौतुक-409💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चंद्रयान ३
चंद्रयान ३
प्रदीप कुमार गुप्ता
हम रात भर यूहीं तड़पते रहे
हम रात भर यूहीं तड़पते रहे
Ram Krishan Rastogi
बंदूक की गोली से,
बंदूक की गोली से,
नेताम आर सी
Loading...