Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Nov 2023 · 1 min read

कौआ और बन्दर

बाल कहानी- कौआ और बन्दर
———————–

एक पेड़ पर एक कौआ अपने दो बच्चों के साथ आराम से रहता था। एक दिन बहुत तेज तूफान आया। बहुत तबाही हुई। उसी तबाही में कौए का घर भी उजड़ गया। कौआ अपने बच्चों के साथ जान बचाकर उड़ते-उड़ते बहुत दूर निकल गया।
कौए को अचानक एक बड़ा सा पेड़ दिखाई दिया, जिस पर कोई परिन्दे नहीं थे। कुछ दिन कौए ने उस पेड़ के पास रहकर देखा कि कहीं ये किसी का घर तो नहीं।
काफी दिनों बाद भी कोई उस पेड़ के पास नहीं आया तो कौआ उस पेड़ पर अपने बच्चों के साथ रहने लगा।
एक दिन अचानक उस पेड़ पर एक बन्दर आया और आते ही कौए से लड़ने लगा। कहने लगा-, “मैं कुछ दिनों के लिये काम से बाहर क्या गया, तुमने मेरे घर पर कब्जा कर लिया। ये मेरा घर है। खाली करो, वरना ठीक नहीं होगा।”
कौए ने तुरन्त माफ़ी माँगी और अपने बच्चों के साथ जाने लगा तो बन्दर को तरस आया। बन्दर बोला-, “ठीक है! तुम सब रह सकते हो, पर पेड़ के सिर्फ़ उस हिस्से पर, मैं इस तरफ इधर रहूँगा। अगर इस तरह से तुम सब ठीक तरह से रहोगे तो ये आधा पेड़ तुम्हारा और आधा मेरा।”
बन्दर की बात सुनकर कौआ और उसके बच्चे बहुत खुश हुए। सब मिल-जुलकर खुशी-खुशी अपना जीवन व्यतीत करने लगे।

शिक्षा-
मिल-जुलकर कार्य करने और एक-दूसरे की बात मानने से सभी समस्याएँ हल हो जाती हैं।

शमा परवीन
बहराइच (उत्तर प्रदेश)

1 Like · 53 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
परिस्थितीजन्य विचार
परिस्थितीजन्य विचार
Shyam Sundar Subramanian
*नोट :* यह समीक्षा *टैगोर काव्य गोष्ठी* , रामपुर के आयोजन में दिनांक 1 फरवरी 202
*नोट :* यह समीक्षा *टैगोर काव्य गोष्ठी* , रामपुर के आयोजन में दिनांक 1 फरवरी 202
Ravi Prakash
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
Ram Krishan Rastogi
मुस्कुराना चाहते हो
मुस्कुराना चाहते हो
surenderpal vaidya
💐अज्ञात के प्रति-134💐
💐अज्ञात के प्रति-134💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अब हम बहुत दूर …
अब हम बहुत दूर …
DrLakshman Jha Parimal
मेरे प्यारे भैया
मेरे प्यारे भैया
Samar babu
विजय या मन की हार
विजय या मन की हार
Satish Srijan
"आज मैंने"
Dr. Kishan tandon kranti
दूर....
दूर....
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
परीक्षा
परीक्षा
Er. Sanjay Shrivastava
श्रेष्ठ बंधन
श्रेष्ठ बंधन
Dr. Mulla Adam Ali
अब नये साल में
अब नये साल में
डॉ. शिव लहरी
वो जाने क्या कलाई पर कभी बांधा नहीं है।
वो जाने क्या कलाई पर कभी बांधा नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
किस किस्से का जिक्र
किस किस्से का जिक्र
Bodhisatva kastooriya
खींचकर हाथों से अपने ही वो सांँसे मेरी,
खींचकर हाथों से अपने ही वो सांँसे मेरी,
Neelam Sharma
*।।ॐ।।*
*।।ॐ।।*
Satyaveer vaishnav
जितने श्री राम हमारे हैं उतने श्री राम तुम्हारे हैं।
जितने श्री राम हमारे हैं उतने श्री राम तुम्हारे हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
पड़ोसन की ‘मी टू’ (व्यंग्य कहानी)
पड़ोसन की ‘मी टू’ (व्यंग्य कहानी)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मुझे महसूस हो जाते
मुझे महसूस हो जाते
Dr fauzia Naseem shad
साये
साये
shabina. Naaz
आदमी आदमी से डरने लगा है
आदमी आदमी से डरने लगा है
VINOD CHAUHAN
🪔सत् हंसवाहनी वर दे,
🪔सत् हंसवाहनी वर दे,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ग्रीष्म की तपन
ग्रीष्म की तपन
डॉ. रजनी अग्रवाल 'वाग्देवी रत्ना'
चिड़िया
चिड़िया
Kanchan Khanna
बगावत की बात
बगावत की बात
AJAY PRASAD
In the middle of the sunflower farm
In the middle of the sunflower farm
Sidhartha Mishra
मौन सभी
मौन सभी
sushil sarna
■ एक मिसाल...
■ एक मिसाल...
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...