Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2024 · 2 min read

“कोशिशो के भी सपने होते हैं”

कुछ शब्दों को लिखने का,
कुछ जेहन की सिलवटों का ।
एक नन्ही सी चींटी ,जब दाना लेकर चलती है,
चढ़ती दीवारो पर सौ बार फिसलती है।

मन का विश्वास रगों में साहस भरता है,
हार जाओ फिर भी नही अखरता है।
कोशिश कर के पौधों को पानी दो,
बंजर जमीन से भी फल निकलता है।

जिंदा रखो दिल मे ,उम्मीदों को,
मरुस्थल में भी जल निकलेगा।
कोशिश करो कुछ कर गुजरने का,
जो आज थमा थमा सा ,वह चल निकलेगा।

अपने किस्मत को ना दोष दिया करिये,
कुछ ना करने से बेहतर है, कुछ किया करिये।
रखो हिम्मत तूफान से ,टकराने की,
जरूरत नही समस्या से घबराने की।

समस्याओं को, रास्ते से निकाल दो,
पत्थर हो तो ठोकर से, उछाल दो।
मकड़ी गिरती उठती सौ बार,
गिरकर उठना सिखाती है बार बार।

सफल वही होता है ,जो हौसला नही खोता है,
सफलता का मूल वही जानता है,
जो जिंदगी की राह गिर कर उठता है।

कोशिश करते जाओ, कभी हार ना मानो,
अपने सही कर्म करो,लक्ष्य को पहचानो।
कुम्हार मिट्टी को पीट कर घड़ा बनाता है,
तब उसको तपती भट्टी में पकाता है।

पानी है सफलता तो,खुद को आजाद करो,
देखा ना हो कोई ,नया कुछ ईजाद करो।
जितना बड़ा सपना उतनी बड़ी मुश्किलें,
जितनी बड़ी मुश्किलें, उतनी बड़ी हासिलें।

अपने विचारों पर बुनियाद करो,
अपने हौसला को फ़ौलाद करो।
एक एक कदम से कामयाबी मिलती है,
कोशिश करने से हर बार मुट्ठी खाली नही होती है।

कोशिशों के राहों में,यदि होंगे इरादे पक्के,
अडिग इरादों के छुड़ा देंगे छक्के।
सपनों में रख आस्था ,कर्म को किये जा,
त्याग से न डर ,आलस परित्याग किये जा।

जब तक पत्थर पर ,हथौड़े की चोट नही पड़ते,
तब तक पत्थर भी भगवान नही बनते।
कोशिश के भी सपने है और हैं अरमान,
कोशिश को अपनाने से ,बनते हैं महान।।

लेखिका:- एकता श्रीवास्तव ✍️
प्रयागराज

Language: Hindi
60 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ekta chitrangini
View all
You may also like:
थोड़ा सा मुस्करा दो
थोड़ा सा मुस्करा दो
Satish Srijan
बलिदान
बलिदान
लक्ष्मी सिंह
बीमार समाज के मसीहा: डॉ अंबेडकर
बीमार समाज के मसीहा: डॉ अंबेडकर
Shekhar Chandra Mitra
*माँ सरस्वती जी*
*माँ सरस्वती जी*
Rituraj shivem verma
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
द्रवित हृदय जो भर जाए तो, नयन सलोना रो देता है
द्रवित हृदय जो भर जाए तो, नयन सलोना रो देता है
Yogini kajol Pathak
मुकद्दर
मुकद्दर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
‘ विरोधरस ‘---2. [ काव्य की नूतन विधा तेवरी में विरोधरस ] +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---2. [ काव्य की नूतन विधा तेवरी में विरोधरस ] +रमेशराज
कवि रमेशराज
🥀 #गुरु_चरणों_की_धूल 🥀
🥀 #गुरु_चरणों_की_धूल 🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"स्मार्ट विलेज"
Dr. Kishan tandon kranti
खूबसूरत जिंदगी में
खूबसूरत जिंदगी में
Harminder Kaur
मुझे मुझसे हीं अब मांगती है, गुजरे लम्हों की रुसवाईयाँ।
मुझे मुझसे हीं अब मांगती है, गुजरे लम्हों की रुसवाईयाँ।
Manisha Manjari
** सुख और दुख **
** सुख और दुख **
Swami Ganganiya
राह दिखा दो मेरे भगवन
राह दिखा दो मेरे भगवन
Buddha Prakash
2314.पूर्णिका
2314.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बटाए दर्द साथी का वो सच्चा मित्र होता है
बटाए दर्द साथी का वो सच्चा मित्र होता है
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
और कितना मुझे ज़िंदगी
और कितना मुझे ज़िंदगी
Shweta Soni
I lose myself in your love,
I lose myself in your love,
Shweta Chanda
आप में आपका
आप में आपका
Dr fauzia Naseem shad
हर तरफ़ रंज है, आलाम है, तन्हाई है
हर तरफ़ रंज है, आलाम है, तन्हाई है
अरशद रसूल बदायूंनी
आधुनिक समय में धर्म के आधार लेकर
आधुनिक समय में धर्म के आधार लेकर
पूर्वार्थ
एक महिला की उमर और उसकी प्रजनन दर उसके शारीरिक बनावट से साफ
एक महिला की उमर और उसकी प्रजनन दर उसके शारीरिक बनावट से साफ
Rj Anand Prajapati
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो
कवि दीपक बवेजा
बहुत संभाल कर रखी चीजें
बहुत संभाल कर रखी चीजें
Dheerja Sharma
हमारी चाहत तो चाँद पे जाने की थी!!
हमारी चाहत तो चाँद पे जाने की थी!!
SUNIL kumar
★किसान ★
★किसान ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
■ आज का मुक्तक...
■ आज का मुक्तक...
*Author प्रणय प्रभात*
मात-पिता केँ
मात-पिता केँ
DrLakshman Jha Parimal
💐Prodigy Love-32💐
💐Prodigy Love-32💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...