Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2024 · 1 min read

कोरे कागज़ पर

कोरे कागज़ पर
आओ
दिल के जज़्बात लिखते हैं
चलो एक
और बार ख़त लिखते हैं
भूल गए थे जिन राहों को
बन कर हमसफर
आओ उन पर
इक बार फ़िर चलते हैं
बेसब्री से ख़तों का फिर
इंतजार करते हैं
भूल चले थे जिन्हें
उन लम्हों को, सुनो
फिर याद करते हैं
रिस रहे हैं
तेरी जुदाई के ज़ख़्म
उन पर सुकून भरे
लफ्जों के फाहे रखते हैं

हिमांशु Kulshrestha

59 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तारों जैसी आँखें ,
तारों जैसी आँखें ,
SURYA PRAKASH SHARMA
जमाना गुजर गया उनसे दूर होकर,
जमाना गुजर गया उनसे दूर होकर,
संजय कुमार संजू
"किस पर लिखूँ?"
Dr. Kishan tandon kranti
Moti ki bhi ajib kahani se , jisne bnaya isko uska koi mole
Moti ki bhi ajib kahani se , jisne bnaya isko uska koi mole
Sakshi Tripathi
ਮੁਕ ਜਾਣੇ ਨੇ ਇਹ ਸਾਹ
ਮੁਕ ਜਾਣੇ ਨੇ ਇਹ ਸਾਹ
Surinder blackpen
2326.पूर्णिका
2326.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
गुरूता बने महान ......!
गुरूता बने महान ......!
हरवंश हृदय
अंतर्राष्ट्रीय श्रम दिवस आज......
अंतर्राष्ट्रीय श्रम दिवस आज......
*Author प्रणय प्रभात*
!! एक ख्याल !!
!! एक ख्याल !!
Swara Kumari arya
पग पग पे देने पड़ते
पग पग पे देने पड़ते
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
लड़के वाले थे बड़े, सज्जन और महान (हास्य कुंडलिया)
लड़के वाले थे बड़े, सज्जन और महान (हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
कुछ किताबें और
कुछ किताबें और
Shweta Soni
आक्रोष
आक्रोष
Aman Sinha
पतझड़ के मौसम हो तो पेड़ों को संभलना पड़ता है
पतझड़ के मौसम हो तो पेड़ों को संभलना पड़ता है
कवि दीपक बवेजा
हमें सलीका न आया।
हमें सलीका न आया।
Taj Mohammad
जिंदगी भी रेत का सच रहतीं हैं।
जिंदगी भी रेत का सच रहतीं हैं।
Neeraj Agarwal
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
लौट कर वक़्त
लौट कर वक़्त
Dr fauzia Naseem shad
चंदा का अर्थशास्त्र
चंदा का अर्थशास्त्र
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सुदूर गाँव मे बैठा कोई बुजुर्ग व्यक्ति, और उसका परिवार जो खे
सुदूर गाँव मे बैठा कोई बुजुर्ग व्यक्ति, और उसका परिवार जो खे
Shyam Pandey
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
संसद
संसद
Bodhisatva kastooriya
💐प्रेम कौतुक-390💐
💐प्रेम कौतुक-390💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"चुनाव के दौरान नेता गरीबों के घर खाने ही क्यों जाते हैं, गर
दुष्यन्त 'बाबा'
इश्क़ और इंकलाब
इश्क़ और इंकलाब
Shekhar Chandra Mitra
तेरी धड़कन मेरे गीत
तेरी धड़कन मेरे गीत
Prakash Chandra
कहानी। सेवानिवृति
कहानी। सेवानिवृति
मधुसूदन गौतम
स्कूल कॉलेज
स्कूल कॉलेज
RAKESH RAKESH
देवमूर्ति से परे मुक्तिबोध का अक्स / MUSAFIR BAITHA
देवमूर्ति से परे मुक्तिबोध का अक्स / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Loading...