Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Feb 2024 · 1 min read

कोई भी जंग अंग से नही बल्कि हौसले और उमंग से जीती जाती है।

कोई भी जंग अंग से नही बल्कि हौसले और उमंग से जीती जाती है।

Rj Anand Prajapati

1 Like · 39 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सूना आज चमन...
सूना आज चमन...
डॉ.सीमा अग्रवाल
“मेरे जीवन साथी”
“मेरे जीवन साथी”
DrLakshman Jha Parimal
कैलाशा
कैलाशा
Dr.Pratibha Prakash
from under tony's bed - I think she must be traveling
from under tony's bed - I think she must be traveling
Desert fellow Rakesh
शिवरात्रि
शिवरात्रि
ऋचा पाठक पंत
ग़ज़ल/नज़्म - मैं बस काश! काश! करते-करते रह गया
ग़ज़ल/नज़्म - मैं बस काश! काश! करते-करते रह गया
अनिल कुमार
*राम हमारे मन के अंदर, बसे हुए भगवान हैं (हिंदी गजल)*
*राम हमारे मन के अंदर, बसे हुए भगवान हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
Noone cares about your feelings...
Noone cares about your feelings...
Suryash Gupta
आलसी व्यक्ति
आलसी व्यक्ति
Paras Nath Jha
मेरी ख़्वाहिश ने
मेरी ख़्वाहिश ने
Dr fauzia Naseem shad
"रौनक"
Dr. Kishan tandon kranti
सरकार बिक गई
सरकार बिक गई
साहित्य गौरव
क्या होगा कोई ऐसा जहां, माया ने रचा ना हो खेल जहां,
क्या होगा कोई ऐसा जहां, माया ने रचा ना हो खेल जहां,
Manisha Manjari
Kash hum marj ki dava ban sakte,
Kash hum marj ki dava ban sakte,
Sakshi Tripathi
खुश है हम आज क्यों
खुश है हम आज क्यों
gurudeenverma198
2475.पूर्णिका
2475.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ना नींद है,ना चैन है,
ना नींद है,ना चैन है,
लक्ष्मी सिंह
कभी जब नैन  मतवारे  किसी से चार होते हैं
कभी जब नैन मतवारे किसी से चार होते हैं
Dr Archana Gupta
धन्य हैं वो बेटे जिसे माँ-बाप का भरपूर प्यार मिलता है । कुछ
धन्य हैं वो बेटे जिसे माँ-बाप का भरपूर प्यार मिलता है । कुछ
Dr. Man Mohan Krishna
💐प्रेम कौतुक-274💐
💐प्रेम कौतुक-274💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"कैसे सबको खाऊँ"
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
हावी दिलो-दिमाग़ पर, आज अनेकों रोग
हावी दिलो-दिमाग़ पर, आज अनेकों रोग
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
यूंही नहीं बनता जीवन में कोई
यूंही नहीं बनता जीवन में कोई
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
कितने घर ख़ाक हो गये, तुमने
कितने घर ख़ाक हो गये, तुमने
Anis Shah
किताबों में झुके सिर दुनिया में हमेशा ऊठे रहते हैं l
किताबों में झुके सिर दुनिया में हमेशा ऊठे रहते हैं l
Ranjeet kumar patre
तिमिर है घनेरा
तिमिर है घनेरा
Satish Srijan
तारों जैसी आँखें ,
तारों जैसी आँखें ,
SURYA PRAKASH SHARMA
समूची दुनिया में
समूची दुनिया में
*Author प्रणय प्रभात*
रंगीन हुए जा रहे हैं
रंगीन हुए जा रहे हैं
हिमांशु Kulshrestha
एक हैसियत
एक हैसियत
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...