Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Feb 2023 · 1 min read

कोई पत्ता कब खुशी से अपनी पेड़ से अलग हुआ है

कोई पत्ता कब खुशी से अपनी पेड़ से अलग हुआ है
मजबूर होकर ही कोई अपने अपनों से जुदा हुआ है

जिसको थोड़ी सी हसरत दी है , जमाने ने यहाँ
वह ही अपनी नजर में आजकल खुदा हुआ है

कवि दीपक सरल

1 Like · 499 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चांद छुपा बादल में
चांद छुपा बादल में
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खोटे सिक्कों के जोर से
खोटे सिक्कों के जोर से
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कुछ तो बाक़ी
कुछ तो बाक़ी
Dr fauzia Naseem shad
न रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
न रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
सत्य कुमार प्रेमी
3133.*पूर्णिका*
3133.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पापा आपकी बहुत याद आती है !
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
मेरी खुशी हमेसा भटकती रही
मेरी खुशी हमेसा भटकती रही
Ranjeet kumar patre
गांव में फसल बिगड़ रही है,
गांव में फसल बिगड़ रही है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दिल शीशे सा
दिल शीशे सा
Neeraj Agarwal
ये जो तेरे बिना भी, तुझसे इश्क़ करने की आदत है।
ये जो तेरे बिना भी, तुझसे इश्क़ करने की आदत है।
Manisha Manjari
नौकरी
नौकरी
Rajendra Kushwaha
बचपन की यादें
बचपन की यादें
प्रीतम श्रावस्तवी
!! रे, मन !!
!! रे, मन !!
Chunnu Lal Gupta
*जाऍंगे प्रभु राम के, दर्शन करने धाम (कुंडलिया)*
*जाऍंगे प्रभु राम के, दर्शन करने धाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"वक्त के पाँव में"
Dr. Kishan tandon kranti
समृद्धि
समृद्धि
Paras Nath Jha
सवर्ण और भगवा गोदी न्यूज चैनलों की तरह ही सवर्ण गोदी साहित्य
सवर्ण और भगवा गोदी न्यूज चैनलों की तरह ही सवर्ण गोदी साहित्य
Dr MusafiR BaithA
लौट  आते  नहीं  अगर  बुलाने   के   बाद
लौट आते नहीं अगर बुलाने के बाद
Anil Mishra Prahari
चले ससुराल पँहुचे हवालात
चले ससुराल पँहुचे हवालात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कहर कुदरत का जारी है
कहर कुदरत का जारी है
Neeraj Mishra " नीर "
ज़ख़्म ही देकर जाते हो।
ज़ख़्म ही देकर जाते हो।
Taj Mohammad
मार   बेरोजगारी   की   सहते  रहे
मार बेरोजगारी की सहते रहे
अभिनव अदम्य
हरियाली के बीच मन है मगन
हरियाली के बीच मन है मगन
Krishna Manshi
मुख अटल मधुरता, श्रेष्ठ सृजनता, मुदित मधुर मुस्कान।
मुख अटल मधुरता, श्रेष्ठ सृजनता, मुदित मधुर मुस्कान।
रेखा कापसे
शीत लहर
शीत लहर
Madhu Shah
मीठे बोल
मीठे बोल
Sanjay ' शून्य'
#शुभ_दिवस
#शुभ_दिवस
*प्रणय प्रभात*
"UG की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जो ना कहता है
जो ना कहता है
Otteri Selvakumar
दीपावली की असीम शुभकामनाओं सहित अर्ज किया है ------
दीपावली की असीम शुभकामनाओं सहित अर्ज किया है ------
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...