Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Oct 2023 · 1 min read

कोई दौलत पे, कोई शौहरत पे मर गए

कोई दौलत पे
कोई शौहरत पे मर गए
इक शख्स हम ही थे मुर्ख
जो सांवले मोहन पे मर गए

वैसे मोहन कहू या मोहिनी कहू उनकों
दोनों प्रभु के ही तो नाम हैं
परन्तु! इक दफ़ा तो उनके दर्शनं पाने हेतु
अपने परम मित्रों से लड़ गए

माखन-मिसरी जैसी बातें
या काली जुल्फें या दो प्यारी आँखें
कुछ तो था मन्त्रमुग्ध करने वाला
जो इक गणित के छात्र कि वो
कैलकुलेशन खराब कर गए !

बचकानी वार्तालाप सुन हमारी
परम मित्र ललित ने कहा
लगता है गुरु….. “तुम” प्रेम में पड़ गए
प्रेम और हमें…….
ऎसा कहकर हम अपनी बात से मुकर गए !

The_dk_poetry

2 Likes · 103 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कांग्रेस की आत्महत्या
कांग्रेस की आत्महत्या
Sanjay ' शून्य'
दिल से दिलदार को मिलते हुए देखे हैं बहुत
दिल से दिलदार को मिलते हुए देखे हैं बहुत
Sarfaraz Ahmed Aasee
गीत
गीत
Pankaj Bindas
अरे ये कौन नेता हैं, न आना बात में इनकी।
अरे ये कौन नेता हैं, न आना बात में इनकी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
बगावत की बात
बगावत की बात
AJAY PRASAD
** अरमान से पहले **
** अरमान से पहले **
surenderpal vaidya
सुख मेरा..!
सुख मेरा..!
Hanuman Ramawat
*** यादों का क्रंदन ***
*** यादों का क्रंदन ***
Dr Manju Saini
दोस्ती
दोस्ती
राजेश बन्छोर
हो जाती है साँझ
हो जाती है साँझ
sushil sarna
ज़िंदगी में गीत खुशियों के ही गाना दोस्तो
ज़िंदगी में गीत खुशियों के ही गाना दोस्तो
Dr. Alpana Suhasini
Rose Day 7 Feb 23
Rose Day 7 Feb 23
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
प्रभात वर्णन
प्रभात वर्णन
Godambari Negi
हिन्दी दोहा- बिषय- कौड़ी
हिन्दी दोहा- बिषय- कौड़ी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
महाभारत युद्ध
महाभारत युद्ध
Anil chobisa
अनंत की ओर _ 1 of 25
अनंत की ओर _ 1 of 25
Kshma Urmila
*धन्य करें इस जीवन को हम, चलें अयोध्या धाम (गीत)*
*धन्य करें इस जीवन को हम, चलें अयोध्या धाम (गीत)*
Ravi Prakash
सुर्ख चेहरा हो निगाहें भी शबाब हो जाए ।
सुर्ख चेहरा हो निगाहें भी शबाब हो जाए ।
Phool gufran
आपके आसपास
आपके आसपास
Dr.Rashmi Mishra
जीवन दिव्य बन जाता
जीवन दिव्य बन जाता
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
मातृशक्ति को नमन
मातृशक्ति को नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
23/202. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/202. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बसंत आने पर क्या
बसंत आने पर क्या
Surinder blackpen
किन मुश्किलों से गुजरे और गुजर रहे हैं अबतक,
किन मुश्किलों से गुजरे और गुजर रहे हैं अबतक,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
আজকের মানুষ
আজকের মানুষ
Ahtesham Ahmad
"फितरत"
Dr. Kishan tandon kranti
अश'आर हैं तेरे।
अश'आर हैं तेरे।
Neelam Sharma
इश्क की रूह
इश्क की रूह
आर एस आघात
" सर्कस सदाबहार "
Dr Meenu Poonia
Loading...