Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Apr 2024 · 1 min read

कॉटेज हाउस

कॉटेज हाउस
छत फटी हुई थी
चाँद और आकाश

– ओट्टेरी सेल्वा कुमार

31 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*चलते-चलते मिल गईं, तुम माणिक की खान (कुंडलिया)*
*चलते-चलते मिल गईं, तुम माणिक की खान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सुंदरता हर चीज में होती है बस देखने वाले की नजर अच्छी होनी च
सुंदरता हर चीज में होती है बस देखने वाले की नजर अच्छी होनी च
Neerja Sharma
दोस्तों के साथ धोखेबाजी करके
दोस्तों के साथ धोखेबाजी करके
ruby kumari
अक्सर हम ऐसा सच चाहते है
अक्सर हम ऐसा सच चाहते है
शेखर सिंह
ज़िंदगी में गीत खुशियों के ही गाना दोस्तो
ज़िंदगी में गीत खुशियों के ही गाना दोस्तो
Dr. Alpana Suhasini
Jindagi ka kya bharosa,
Jindagi ka kya bharosa,
Sakshi Tripathi
मेरे विचार
मेरे विचार
Anju
यहां से वहां फिज़ाओं मे वही अक्स फैले हुए है,
यहां से वहां फिज़ाओं मे वही अक्स फैले हुए है,
manjula chauhan
*** मन बावरा है....! ***
*** मन बावरा है....! ***
VEDANTA PATEL
3232.*पूर्णिका*
3232.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बगिया* का पेड़ और भिखारिन बुढ़िया / MUSAFIR BAITHA
बगिया* का पेड़ और भिखारिन बुढ़िया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
बेरोजगार
बेरोजगार
Harminder Kaur
बचपन मेरा..!
बचपन मेरा..!
भवेश
हर किसी के लिए मौसम सुहाना नहीं होता,
हर किसी के लिए मौसम सुहाना नहीं होता,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जिनमें कोई बात होती है ना
जिनमें कोई बात होती है ना
Ranjeet kumar patre
* चलते रहो *
* चलते रहो *
surenderpal vaidya
यह ज़िंदगी
यह ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
सखि आया वसंत
सखि आया वसंत
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
"" *प्रेमलता* "" ( *मेरी माँ* )
सुनीलानंद महंत
जिसने अस्मत बेचकर किस्मत बनाई हो,
जिसने अस्मत बेचकर किस्मत बनाई हो,
Sanjay ' शून्य'
राष्ट्र निर्माता शिक्षक
राष्ट्र निर्माता शिक्षक
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जिंदगी का कागज...
जिंदगी का कागज...
Madhuri mahakash
सोच
सोच
Sûrëkhâ
माना के तू बेमिसाल है
माना के तू बेमिसाल है
shabina. Naaz
"आम्रपाली"
Dr. Kishan tandon kranti
कविता// घास के फूल
कविता// घास के फूल
Shiva Awasthi
माॅं
माॅं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आँखें दरिया-सागर-झील नहीं,
आँखें दरिया-सागर-झील नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मैं उनकी ज़फाएं सहे जा रहा हूॅं।
मैं उनकी ज़फाएं सहे जा रहा हूॅं।
सत्य कुमार प्रेमी
■ शायद...?
■ शायद...?
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...